कोरोना: ओमीक्रॉन वेरिएंट को लेकर सरकार अलर्ट, अब जारी की नई गाइडलाइन
X

कोरोना: ओमीक्रॉन वेरिएंट को लेकर सरकार अलर्ट, अब जारी की नई गाइडलाइन

दुनिया में कोरोना (Coronavirus) के नए वेरिएंट ओमीक्रोन (Omicron Variant) के सामने आने के बाद सरकार की चिंता बढ़ गई है. केंद्र ने अब हालात से निपटने के लिए नई गाइडलाइन जारी की है.

कोरोना: ओमीक्रॉन वेरिएंट को लेकर सरकार अलर्ट, अब जारी की नई गाइडलाइन

नई दिल्ली: दुनिया में कोरोना (Coronavirus) के नए वेरिएंट ओमीक्रोन (Omicron Variant) के सामने आने के बाद सरकार की चिंता बढ़ गई है. सरकार ने कोरोना के इस नए वेरिएंट को देश में घुसने से रोकने के लिए नए स्टैंडर्ड ऑपरेटिंग प्रोसीजर (SOP) जारी किए हैं.

पोर्टल पर अपलोड करनी होगी डिटेल

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के नए SOP के मुताबिक अब प्लेन के जरिए विदेश से भारत आने वाले सभी यात्रियों को Air Suvidha पोर्टल पर अपने RT-PCR टेस्ट की नेगेटिव रिपोर्ट अपलोड करनी होगी. यात्रा से 14 दिनों पहले तक वह कहां-कहां गया, उसका विस्तृत ब्योरा भी अपने आवेदन में लिखना होगा. स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक ऐसे जोखिम वाले देशों की लिस्ट भी अब दोबारा से संशोधित की गई है, जहां से आने वाले यात्रियों के कोरोना प्रोटोकॉल पर ज्यादा ध्यान दिया जाएगा.

एयरपोर्ट पर होगा कोरोना टेस्ट

मंत्रालय के मुताबिक ऐसे देशों से आने वाले यात्रियों के पास नेगेटिव RT-PCR रिपोर्ट होने के बावजूद उनका दोबारा से एयरपोर्ट पर कोरोना टेस्ट लिया जाएगा. जब तक उस टेस्ट की रिपोर्ट नहीं आ जाएगी, तब तक उन यात्रियों को एयरपोर्ट पर ही रुकना होगा. अगर वह रिपोर्ट पॉजिटिव निकलती है तो उन्हें आइसोलेशन सेंटर्स में भेज दिया जाएगा. वहीं नेगेटिव रिपोर्ट मिलने पर भी उन्हें कोरोना प्रोटोकॉल के साथ 7 दिनों तक घर में अनिवार्य क्वारंटीन रहना होगा. क्वारंटीन पीरियड पूरा होने के अगले दिन उन यात्रियों का फिर से कोरोना टेस्ट होगा और फिर अगले 7 दिनों तक उनकी सेहत पर निगरानी रखी जाएगी. 

इन 11 देशों पर ज्यादा निगरानी

जिन देशों को जोखिम की श्रेणी में शामिल किया गया है. उनमें दक्षिण अफ्रीका, चीन, बोत्सवाना, ब्रिटेन, ब्राजील, इजराइल, बांग्लादेश, मॉरीसश, न्यूजीलैंड, जिम्बाव्बे, सिंगापुर एवं हांगकांग शामिल हैं. हालात से निपटने के लिए केंद्र ने राज्यों और प्रदेश सरकारों को कोरोना प्रोटोकॉल का पालन, प्रभावित इलाकों में सक्रिय निगरानी, जांच बढ़ाने, हॉटस्पॉट की निगरानी करने, टीकाकरण का कवरेज बढ़ाने और स्वास्थ्य सुविधाओं में बढ़ोतरी करने को कहा है. 

उधर, कोरोना (Coronavirus) के नए वेरिएंट ‘ओमीक्रोन’ (Omicron Variant) को फैलते देख राज्य सरकारों ने भी सख्ती बरतनी शुरू कर दी है. दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और कर्नाटक के मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई ने प्रभावित देशों से आने वाली उड़ानों को भारत में अनुमति नहीं देने की मांग की है. कर्नाटक में कोरोना संक्रमित दो दक्षिण अफ्रीकी नागरिकों में वायरस का डेल्टा वेरिएंट मिला है. इसके बाद से राज्य में चिंता बढ़ गई है. 

'कोरोना वैक्सीन के असर की हो जांच'

दिल्ली एम्स के प्रमुख डॉ रणदीप गुलेरिया ने कहा है कि कोरोना वायरस (Coronavirus) के नए वेरिएंट ओमीक्रोन (Omicron Variant) के स्पाइक प्रोटीन में 30 से ज्यादा बदलाव देखने को मिले हैं. इसकी वजह से यह कोरोना वैक्सीन के असर से खुद को बचा सकता है. लिहाजा इस वेरिएंट के खिलाफ कोरोना के मौजूद टीकों की प्रभावशीलता का मूल्याकंन गंभीरता से करने की जरूरत है.

ये भी पढ़ें- क्या वापस होगा इंटरनेशनल फ्लाइट्स शुरू करने का फैसला? कोरोना के नए वैरिएंट का खौफ

ओमीक्रोन से निपटने की चुनौती

अप्रैल-मई में डेल्टा वेरिएंट के चलते भयावह दूसरी लहर को झेल चुके भारत के सामने ओमीक्रोन की चुनौती है. भारत ने स्थिति में सुधार के बाद काफी हद तक पाबंदियों में ढील दी थी. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा रविवार को जारी किये गये आंकड़े के अनुसार देश में आज 8,774 नये मामले आये तथा उपचाराधीन मरीजों की संख्या घटकर 1,05,691रह गई. जो 543 दिनों में सबसे कम हैं. 

दक्षिण अफ्रीका में 24 नवंबर को इस नये वेरिएंट के मिलने की खबर विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) को दी गई थी. भारत में अब तक इस वेरिएंट (Omicron Variant) का कोई भी मामला सामने नहीं आया है.

LIVE TV

Trending news