close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

'5जी टेस्टिंग में चीन की कंपनियों की पार्टनरशिप से सरकार को फिलहाल कोई दिक्कत नहीं'

दूरसंचार विभाग ने हुआवेई को 5जी नेटवर्क के परीक्षण के लिए हरी झंडी दे दी है. अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड और जापान सहित कई देश 5जी नेटवर्क पर चीन की कंपनी के उपकरणों पर पाबंदी लगा रहे हैं. 

'5जी टेस्टिंग में चीन की कंपनियों की पार्टनरशिप से सरकार को फिलहाल कोई दिक्कत नहीं'
हुआवेई ने वोडाफोन आइडिया लिमिटेड के साथ मिलकर देश में 5जी परीक्षण का प्रस्ताव दिया है.

नई दिल्ली: सरकार 5जी नेटवर्क की व्यावसायिक शुरुआत करते समय हुआवेई जैसी चीन की टेलीकॉम उपकरण बनाने वाली कंपनियों से राष्ट्रीय सुरक्षा को खतरे से संबंधित आशंकाओं पर गौर करेगी. हालांकि, जहां तक 5जी सेवाओं के परीक्षण में इन कंपनियों के भाग लेने की बात है, सरकार को फिलहाल इससे कोई दिक्कत नहीं है. एक अधिकारी ने यह बात कही.

दूरसंचार विभाग के एक अधिकारी ने पीटीआई भाषा से कहा, ‘‘सरकार सुरक्षा संबंधी आशंकाओं को लेकर वैश्विक परिस्थिति पर नजर रख रही है. 5जी सेवाओं के परीक्षण में चीन की दूरसंचार उपकरण कंपनियों की भागीदारी से फिलहाल कोई दिक्कत नहीं है. इन आशंकाओं पर 5जी सेवाओं की व्यावसायिक शुरुआत के समय मंत्रालयों के एक समूह द्वारा गौर किया जाएगा.’’ 

हुआवेई ने वोडाफोन आइडिया लिमिटेड के साथ मिलकर देश में 5जी परीक्षण का प्रस्ताव दिया है. दोनों कंपनियों के वरिष्ठ अधिकारी इस संबंध में दूरसंचार सचिव अरुणा सुंदरराजन से मुलाकात कर चुके हैं. दूरसंचार निर्यात संवर्धन परिषद ने हाल ही में राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल से अनुरोध किया था कि हुआवेई, जेडटीई और फाइबरहोम जैसी चीन की दूरसंचार उपकरण बनाने वाली कंपनियों से सरकारी सेवाओं के लिए उपकरण खरीदने पर रोक लगा दी जाए. परिषद ने इन कंपनियों से राष्ट्रीय सुरक्षा को गंभीर खतरा होने की आशंका व्यक्त की थी.  हालांकि दूरसंचार कंपनियों के संगठन सेल्यूलर ऑपरेटर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया (सीओएआई) ने टीईपीसी की मांग को निराधार बताया.

कई देशों लगा चुके हैं हुआवेई पर प्रतिबंध
अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड और जापान सहित कई देश 5जी नेटवर्क पर चीन की कंपनी के उपकरणों पर पाबंदी लगा रहे हैं. हुआवेई पर उपभोक्ताओं नजर रखने और उनकी जानकारी चुराकर चीन की सरकार के साथ मिलकर काम करने के आरोप लगाए गए हैं. सैमसंग के बाद हुआवेई स्मार्टफोन बनाने वाली दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी कंपनी है. अप्रैल में पेंटागन ने संभावित सुरक्षा जोखिमों के चलते दुनियाभर में सैन्य अड्डों पर स्थित स्टोर में हुआवेई और चीन की एक अन्य कंपनी जेडटीई द्वारा बनाए गए मोबाइल और मॉडेम की बिक्री बंद कर दी थी.

भारत में हुआवेई की बाजार में 30 फीसदी हिस्सेदारी
भारत में 4जी बाजार में हुआवेई की अच्छी पहुंच है. अनुमानों के मुताबिक कंपनी की बाजार में करीब 30 फीसदी हिस्सेदारी है. दूरसंचार विभाग ने हुआवेई को 5जी नेटवर्क के परीक्षण के लिए हरी झंडी दे दी है. इसके 2019 की पहली तिमाही से शुरू होने की उम्मीद है. 

(इनपुट भाषा से)