close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

बाढ़ में फंसे बच्चों को बचाने वाले पुलिसकर्मी ने कहा, 'लोगों को किसी भी कीमत पर बचाना था'

गुजरात के मोरबी जिले के कल्याणपुर गांव में बाढ़ में फंसे बच्चों को अपने कंधे पर बैठाकर डेढ़ किमी पैदल चलने वाले पुलिसकर्मी का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है. 

बाढ़ में फंसे बच्चों को बचाने वाले पुलिसकर्मी ने कहा, 'लोगों को किसी भी कीमत पर बचाना था'
गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने भी कॉन्सटेबल जडेजा के साहस की प्रशंसा की है.

मोरबी: गुजरात के मोरबी जिले के कल्याणपुर गांव में बाढ़ में फंसे बच्चों को अपने कंधे पर बैठाकर डेढ़ किमी पैदल चलने वाले पुलिसकर्मी का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है. वीडियो में मौजूद पुलिस कॉन्स्टेबल का नाम पृथ्वीराज जडेजा है. गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने भी जडेजा के साहस और समर्पण की प्रशंसा की है. कॉन्सटेबल जडेजा की प्रतिक्रिया भी सामने आई है.

गुजरात के कई हिस्से बाढ़ की चपेट में हैं. कल्याणपुर में एनडीआरएफ और पुलिसकर्मियों की टीम राहत एवं बचाव कार्य में लगी थी. कॉन्सटेबल जडेजा ने दो बच्चों को अपने कंधे पर बैठाकर कमर तक भरे पानी के बीच करीब डेढ़ किलोमीटर पैदल चले और दोनों को सुरक्षित बाहर निकाला. ऐसे में अब जब यह वीडियो सामने आया है तो हर तरफ उनकी तारीफ हो रही है.

ये भी पढ़ें: उफनती लहरों के बीच बच्चों को कंधे पर बैठाकर 1.5 किमी पैदल चला पुलिस का जवान, VIDEO VIRAL 

उन्होंने बताया, "हमें सूचना मिली थी कि कल्याण रोड पर 40 लोग बाढ़ में फंसे हुए है. हमारी टीम वहां पहुंची. हालात ऐसे थे कि ज्यादा सोचने का समय नहीं था. लोगों को किसी भी कीमत पर बचाना था, इसलिए मैंने बच्चों को अपने कंधे पर ले जाने का निर्णय लिया." उधर, गुजरात पुलिस के अतिरिक्त पुलिस महानिरीक्षक शमशेर सिंह ने भी कॉन्सटेबल के साहस की तारीफ की है. 

वीडियो देखकर कुछ लोग कॉन्स्टेबल पृथ्वीराज जड़ेजा को बच्चियों का फरिश्ता बता रहे हैं तो कुछ उन्हें हनुमान कहकर बुला रहे हैं. वीडियो सामने आने के बाद सोशल मीडिया पर काफी तेजी से वायरल भी हो रहा है. 
 
बता दें गुजरात में कई जगहों पर इन दिनों भारी बारिश हो रही है, जिसके चलते कई इलाकों में बाढ़ जैसे हालात निर्मित हो गए हैं. लगातार हो रही बारिश के कारण गुजरात के 17 डैम ओवरफ्लो हो चुके हैं और 100 से अधिक रास्ते जलमग्न हो चुके हैं, जिससे यहां आवागमन पूरी तरह बाधित है.