गुजरात चुनाव: बीजेपी विज्ञापन में 'पप्पू' शब्द का इस्तेमाल नहीं कर सकती- चुनाव आयोग

चुनाव आयोग ने एक इलेक्ट्रॉनिक विज्ञापन में ‘‘पप्पू’’ शब्द का इस्तेमाल करने से गुजरात में सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) को रोक दिया.

गुजरात चुनाव: बीजेपी विज्ञापन में 'पप्पू' शब्द का इस्तेमाल नहीं कर सकती- चुनाव आयोग
सोशल मीडिया पर राहुल गांधी के लिए होता है ‘‘पप्पू’’ शब्द का उपयोग (फाइल फोटो-Zee)

अहमदाबाद: चुनाव आयोग ने एक इलेक्ट्रॉनिक विज्ञापन में ‘‘पप्पू’’ शब्द का इस्तेमाल करने से गुजरात में सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) को रोक दिया. इस विज्ञापन में जाहिरा तौर पर कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी को निशाना बनाया गया था जिसे ‘‘अपमानजनक’’ बताया गया. राहुल गांधी पर जब निशाना साधा जाता है तो सोशल मीडिया पर ‘‘पप्पू’’ शब्द का इस्तेमाल किया जाता है. इस घटनाक्रम की पुष्टि करते हुए भाजपा के सूत्रों ने बताया कि विज्ञापन की पटकथा में किसी शब्द का किसी व्यक्ति विशेष से कोई संबंध नहीं है. गुजरात के सीईओ बीबी स्वैन से जब संपर्क किया गया तो उन्होंने कहा कि उन्हें इस तरह के किसी घटनाक्रम के बारे में कोई जानकारी नहीं है और वह विस्तृत जानकारी मिलने के बाद ही कोई प्रतिक्रिया दे सकते हैं.

गुजरात चुनाव 2017: न वादा न झांसा, इन 5 मुद्दों पर बरसेंगे जनता के वोट

दो चरणों में होंगे चुनाव
गुजरात में 182 सीटों के लिए दो चरणों में चुनाव होंगे. इसके तहत पहले चरण में 89 सीटों पर नौ दिसंबर और दूसरे चरण में 93 सीटों पर 14 दिसंबर को मतदान होगा. दोनों चरणों के मतदान के बाद 18 दिसंबर को नतीजे घोषित किए जाएंगे. निर्वाचन प्रक्रिया की औपचारिक शुरुआत 14 नवंबर को विधानसभा चुनाव की अधिसूचना जारी होने के साथ हुई. इसके साथ ही राज्य के कुल 33 जिलों में से 19 जिलों में होने वाले पहले चरण के मतदान से जुड़ी 89 सीटों के लिए उम्मीदवार नामांकन पत्र दाखिल किए जा सकेंगे.

गुजरात चुनाव 2017: नरेंद्र मोदी डालेंगे 154 वोट, आइए जानें कैसे

दूसरे चरण में शेष 93 सीटों पर चुनाव के लिए 20 नवंबर को अधिसूचना जारी की जाएगी. दोनों चरणों के मतदान के लिए कुल 50,128 मतदान केंद्र बनाए जाएंगे. इन पर राज्य के 4.33 करोड़ मतदाता वीवीपेट युक्त ईवीएम के जरिये मतदान कर सकेंगे.

28 लाख से ज्‍यादा खर्च नहीं कर पाएंगे उम्‍मीदवार
वहीं चुनाव आयोग ने निर्देश जारी कर कहा था कि कोई भी उम्‍मीदवार 28 लाख रुपये से ज्‍यादा खर्च नहीं कर सकता. उम्‍मीदवार को एक अलग बैंक अकाउंट खोलना होगा. वहीं सुविधा ऐप के जरिये वीडियो भेजकर गड़बड़ी की शिकायत की जा सकती है.