close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

गुजरात: प्राथमिक शिक्षकों की मांग न मानने पर आज टीचर्स की हड़ताल

गुजरात राज्य प्राथमिक शिक्षक संघ के प्रमुख दिग्विजय सिंह जडेजा के मुताबिक 10,000 से ज्यादा शिक्षक विधानसभा पर आज कूच करेंगे. 

गुजरात: प्राथमिक शिक्षकों की मांग न मानने पर आज टीचर्स की हड़ताल
प्राथमिक शिक्षकों की उच्चतर पगार धोरण देने की लंबे समय से मांग चल रही है.

गांधीनगर: गुरजरात की राजधानी गांधीनगर में शुक्रवार को सभी सरकारी स्कूल की शिक्षा पर रोक लग गई. दरअसल, प्राथमिक सरकारी स्कूलों के टीचर्स के हड़ताल पर जाने के कारण छात्रों की शिक्षा पर असर पड़ रहा है. गुजरात राज्य प्राथमिक शिक्षक संघ ने अपनी मांगे न माने जाने के चलते इस हड़ताल का आयोजन किया है. जिसके तहत सभी टीर्चस शुक्रवार यानी आज गुजरात विधानसभा पर कूच करेंगे. 

गुजरात राज्य प्राथमिक शिक्षक संघ के प्रमुख दिग्विजय सिंह जडेजा के मुताबिक 10,000 से ज्यादा शिक्षक विधानसभा पर आज कूच करेंगे. प्राथमिक शिक्षकों की लंबे समय की मांगे पर सरकार ने कोई कदम नहीं उठाया इसलिए यह एलान किया गया है. गुजरात के प्राथमिक शिक्षकों की उच्चतर पगार धोरण देने की लंबे समय से मांग चल रही है. इस मांग के लिए गुजरात राज्य प्राथमिक शिक्षक संघ के द्वारा गांधीनगर में 2 दिन के धरने भी किए गए थे. उसके बावजूद सरकार ने कोई चर्चा या बैठक नहीं की. यह आरोप शिक्षक संघ ने लगाया है. 

जिसके बाद शुक्रवार सुबह से ही गुजरात की राजधानी को पूरे किलेबदी में तब्दील कर दिया है. गांधीनगर की ओर आने वाले हर रास्ते पर शिक्षकों को पकड़ने के लिए पुलिस को तैनात कर दिया गया है. सुबह 5:00 बजे ही हजारों शिक्षकों को पुलिस ने पकड़ लिया है. 

शिक्षकों के इस ऐलान के चलते राज्य के शिक्षा मंत्री भूपेंद्रसिंह चूड़ासामा ने बताया कि शिक्षकों का यह ऐलान बेबुनियाद है. राज्य सरकार राज्य के प्राथमिक शिक्षकों के प्रश्नों को लेकर काफी सकारात्मक है पर शिक्षक चाहे तब उनके प्रश्नों का निपटारा नहीं हो सकता. राज्य सरकार की ओर से मुख्य सचिव और वित्त मंत्रालय के साथ बैठकों का दौर चल रहा है. जल्द ही सारे प्रश्नों हल मिल जाएंगे. 

राज्य सरकार के शिक्षा मंत्री के इस निवेदन के बावजूद राज्य के शिक्षक अपनी बात पर अड़े हुए हैं. उनका कहना है कि राज्य सरकार को बार बार बताया गया है फिर भी सरकार ने कोई स्टेप नहीं लिया. इस कारण ही यह आंदोलन करने की जरूरत पड़ी. राज्य सरकार ने पुलिस का उपयोग करके इस आंदोलन को तोड़ने का प्रयास कर रही है.