टेंट में सोया था 3 साल का बच्चा, तेंदुए ने दी दस्तक तो भेड़ों और बकरियों में मची खलबली और फिर...

परिवार के लोग भेड़-बकरियों को देखने बाहर निकले ही थे कि इसी बीच तेंदुए ने सो रहे बच्चे को दबोच लिया और जंगल की ओर भाग निकला. 

टेंट में सोया था 3 साल का बच्चा, तेंदुए ने दी दस्तक तो भेड़ों और बकरियों में मची खलबली और फिर...
यह बच्चा राजकोट जिले के पिपलिया गांव के एक चरवाहा परिवार का था.(प्रतीकात्मक तस्वीर)

अहमदाबाद: गुजरात के भावनगर जिले में एक तेंदुए ने तीन वर्षीय बच्चे को मार डाला. सहायक वन संरक्षक विजय राठौड़ ने बताया कि अहमदाबाद से 260 किलोमीटर दूर महुआ वन रेंज के तहत जम्बुदा गांव में मोहित रातड़िया रविवार की रात टेंट के भीतर सो रहा था. यह बच्चा राजकोट जिले के पिपलिया गांव के एक चरवाहा परिवार का था. कुछ समय पहले यह परिवार भावनगर आया था. उन्होंने बताया कि रविवार की रात तेंदुआ खुले में लगाए टेंट में घुस गया. इस टेंट में बच्चा और उसके परिवार के लोग रह रहे थे.

तेदुए को देखकर भेड़ों और बकरियों में खलबली मच गयी. जोर-जोर से उनके मिमियाने की आवाजें आ रही थीं. उन्होंने बताया कि परिवार के लोग भेड़-बकरियों को देखने बाहर निकले ही थे कि इसी बीच तेंदुए ने सो रहे बच्चे को दबोच लिया और जंगल की ओर भाग निकला. सुबह झाड़ियों के पास बच्चे के शव का बचा खुचा हिस्सा मिला.

वन विभाग के अधिकारी और पुलिसकर्मी घटनास्थल रवाना हुए और शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया.