हार्दिक ने फिर भरी हुंकार, कहा- पटेल आंदोलन होगा तेज, हिंसा के लिए पुलिस दोषी

पटेल समुदाय के नेता हार्दिक पटेल ने आज चेतावनी दी कि आने वाले दिनों में आरक्षण के लिए आंदोलन और तेज होगा। उन्होंने पुलिस पर राजनीतिक प्रतिष्ठान की शह पर आंदोलन को पटरी से उतारने एवं हिंसा में शामिल होने का आरोप लगाया।

हार्दिक ने फिर भरी हुंकार, कहा- पटेल आंदोलन होगा तेज, हिंसा के लिए पुलिस दोषी

अहमदाबाद : पटेल समुदाय के नेता हार्दिक पटेल ने आज चेतावनी दी कि आने वाले दिनों में आरक्षण के लिए आंदोलन और तेज होगा। उन्होंने पुलिस पर राजनीतिक प्रतिष्ठान की शह पर आंदोलन को पटरी से उतारने एवं हिंसा में शामिल होने का आरोप लगाया।

पाटीदार अनामत आंदोलन समिति के 22 वर्षीय संयोजक ने केंद्र और राज्य में सरकार की अगुवाई कर रही भाजपा की ओर परोक्ष इशारा करते हुए कहा, ‘पुलिस या तो केंद्र या फिर राज्य सरकार के निर्देश पर हमारे खिलाफ कार्रवाई कर रही है।’ हालांकि युवा नेता ने कहा कि उनका किसी राजनीतिक दल से कोई रिश्ता नहीं है उन्होंने इस खबर से इनकार किया कि पटेलों ने हिंसा की। कल रात पटेलों की भारी रैली में उन्हें संक्षिप्त रूप से हिरासत में लिए जाने पर राज्य के कई हिस्सों में हिंसा फैल गयी थी।

उन्होंने कहा, ‘गुजरात की शांति हमारे आंदोलन के कारण भंग नहीं हुई बल्कि जब पुलिस ने हमारी भूख हड़ताल पर हिंसा की तब स्थिति बिगड़ी।’ हार्दिक ने कहा कि शिक्षा और सरकारी नौकरियों को पटेलों को ओबीसी कोटे के तहत आरक्षण देने की मांग को लेकर यह आंदोलन जारी रहेगा।

उन्होंने कहा, ‘हमारा आंदोलन शांति और अहिंसा के मार्ग पर जारी रहेगा और अबतम हमने अपना यह आंदोलन इसी तरह चलाया है।’ उन्होंने कहा कि हिंसा राज्य सरकार द्वारा बनाये गए खराब माहौल के कारण फैली। उन्होंने कहा, ‘राज्य सरकार ने इस बात से डरकर यह खराब माहौल बनाया कि हमारा आंदेालन सुर्खियां बटोर लेगा। राज्य सरकार: हमारा आंदोलन पटरी से उतारना चाहती है।’

अपना आंदोलन तेज करते हुए हार्दिक ने कहा, ‘मैं गुजरात पुलिस से कहना चाहता हूं कि यदि पटेल के किसी बेटे को पीटा जाता है और यदि उसके बाद कुछ होता है तो उसके लिए राज्य सरकार एवं पुलिस जिम्मेदार होगी।’ उन्होंने मांग कि जिन पुलिसकर्मियों ने निर्दोष लोगों की पिटाई की थी, उन्हें तत्काल निलंबित किया जाए तथा उनके विरूद्ध मामले दर्ज किए जाएं।

उन्होंने कहा, ‘यह अपने सभी भाइयों से शांति बनाए रखने का मेरा अनुरोध है। लेकिन हम सरकार से भी चाहते हैं कि वह उन पुलिसकर्मियों के खिलाफ कार्रवाई करे और उन्हें निलंबित करे जिन्होंने पटेल समुदाय के सदस्यों की पिटाई की।’ उन्होंने कहा, ‘यदि जरूरत पड़ी तो हम अपना आंदोलन हर तालुका में ले जायंगे ओर वहां भूख हड़ताल पर बैठेंगे।’ मंगलवार रात हार्दिक को संक्षिप्त हिरासत में लेने पर आगजनी एवं पथराव की घटनाएं हुईं तथा सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान पहुंचाया गया।

आज उनके द्वारा बुलाये गए दिनभर के बंद के दौरान भी हिंसा हुई जबकि अहमदाबाद, सूरत और मेहसाणा जिलों के कई हिस्सों में कर्फ्यू लगाया गया था। हजारों अर्धर्सनिक और दंगारोधी कर्मी स्थिति को नियंत्रित करने के लिए तैनात किए गए हैं। राज्य में हिंसा में तीन लोगों की मौत हो गयी।