भगवान हनुमान के जन्‍मस्‍थल को लेकर उठा 'विवाद', दो राज्‍यों की तरफ से किए गए 'दावे'

कुछ इतिहासकारों की एकमत राय है कि हंपी या विजयनगर राजवंश की पूर्ववर्ती राजधानी के आसपास का क्षेत्र किष्किंधा क्षेत्र है. विश्व हिंदू परिषद की कर्नाटक इकाई ने कहा कि टीटीडी को कुछ समय और लेना चाहिए और किसी निष्कर्ष पर पहुंचने से पहले विद्वानों और धर्म प्रमुखों से विचार-विमर्श करना चाहिए.

भगवान हनुमान के जन्‍मस्‍थल को लेकर उठा 'विवाद', दो राज्‍यों  की तरफ से किए गए 'दावे'
फाइल फोटो.

बेंगलुरु: तिरुमला तिरुपति देवस्थानम (TTD) ने दावा किया है कि तिरुमला पहाड़ियों पर भगवान हनुमान का निवास स्थान है और वे इस बात के सबूतों के साथ एक किताब जारी करेंगे. इस दावे पर धार्मिक और पुरातात्विक हलकों में विवाद शुरू हो गया है. इसकी वजह है कि कर्नाटक के लोग बेल्लारी के पास हंपी को सदियों से ‘किष्किंधा क्षेत्र’ या वानरों का प्रदेश मानते आए हैं.

'तिरुमला की पहाड़ियों पर हुआ हनुमान जी का जन्म'

तिरुमला तिरुपति देवस्थानम (TTD) ने शनिवार को घोषणा की थी कि भगवान हनुमान का जन्म तिरुमला की सात पवित्र पहाड़ियों में से एक में हुआ था और इसे साबित करने के लिए एक किताब का विमोचन 13 अप्रैल को हिंदू नववर्ष, उगाडी पर किया जाएगा. तिरुमला पहाड़ियों पर श्री वेंकटेश्वर मंदिर है. कुछ पुरातत्वविदों और इतिहासकारों ने टीटीडी के दावे को खारिज कर दिया है, वहीं विश्व हिंदू परिषद की कर्नाटक इकाई ने कहा कि टीटीडी को कुछ समय और लेना चाहिए और किसी निष्कर्ष पर पहुंचने से पहले विद्वानों और धर्म प्रमुखों से विचार-विमर्श करना चाहिए.

क्या कहना है इतिहासकारों का

कुछ इतिहासकारों की एकमत राय है कि हंपी या विजयनगर राजवंश की पूर्ववर्ती राजधानी के आसपास का क्षेत्र किष्किंधा क्षेत्र है. उनका दावा है कि हंपी में पुरा-ऐतिहासिक काल की अनेक शिला कलाकृतियों में पूंछ वाले लोगों को चित्रित किया गया है. उन्होंने कहा, ‘संगमकल्लू, बेलाकल्लू के पास अनेक गुफा कृतियों में मनुष्य के साथ पूंछ जैसी आकृति देखी जा सकती हैं.’ इतिहासकारों के अनुसार, ‘इसलिए यह दलील दी जा रही है कि वानर मनुष्य जाति की ही एक प्रजाति है, जिसकी पूंछ होती है.’

यहां के 'वानर' थे राम के मददगार?

बेंगलुरु पेंटिंग काउंसिल में आर्ट हिस्ट्री डिपार्टमेंट के प्रमुख और प्रोफेसर डॉ राघवेंद्र राव कुलकर्णी के अनुसार संभवत: त्रेता युग और भगवान राम के समय इन्हीं लोगों ने उनकी मदद की होगी. उन्होंने कहा कि धारवाड़ विश्वविद्यालय में प्राचीन भारतीय इतिहास विभाग के पूर्व अध्यक्ष प्रोफेसर ए सुंदर ने बेल्लारी क्षेत्र में अनेक ऐसी पेंटिंग चिह्नित की हैं, जिनमें मनुष्य के पीछे की तरफ एक छोटा सा बाहरी हिस्सा दिखाई देता है. 

यह भी पढ़ें: West Bengal Election 2021: जब PM मोदी ने कहा-दीदी...ओ दीदी...आदरणीय दीदी...

यहां 1,000 से ज्यादा हनुमान मंदिर

कुलकर्णी ने कहा कि हंपी में और उसके आसपास 1,000 से अधिक हनुमान मंदिर हैं. उन्होंने कहा कि हनुमान जी से जुड़ी कृतियां हंपी क्षेत्र में ही क्यों हैं और तिरुमला में क्यों नहीं हैं? भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (ASI) के रिटायर्ड अधीक्षण पुरातत्वविद टी एम केशव ने कहा कि उन्होंने रामायण में वर्णित किष्किंधा के सभी भौगोलिक क्षेत्रों को चिह्नित किया है. उन्होंने कहा कि रिकॉर्ड, उपलब्ध साक्ष्य, मौजूदा परंपराएं तथा लोक श्रुतियां दर्शाती हैं कि पूर्ववर्ती विजयनगर राज्य, जिसे पहले पंपा क्षेत्र कहा जाता था, को किष्किंधा के रूप में पहचाना गया है, जहां सैकड़ों हनुमान मंदिर हैं.

LIVE TV
 

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.