close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

हरियाणाः रोहतक में भूपेंद्र सिंह हुड्डा की परिवर्तन महारैली, क्या बनाएंगे अलग पार्टी?

हरियाणा की राजनीति में सरगर्मियां तेज है कि हुड्डा को शायद शीर्ष नेतृत्व पहले की तरह तवज्जो नही दे रहा है. ऐसे में भूपेंदर हुड्डा आज कांग्रेस से अलग राह अपनाने का ऐलान कर सकते है.

हरियाणाः रोहतक में भूपेंद्र सिंह हुड्डा की परिवर्तन महारैली, क्या बनाएंगे अलग पार्टी?
फाइल फोटो

रोहतक/हिसारः हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस नेता भूपेन्द्र सिंह हुड्डा आज (18 अगस्त) रोहतक में परिवर्तन महारैली करने जा रहे है. रैली पर सभी की नज़र इस लिए भी है, क्योंकि हुड्डा हरियाणा कांग्रेस नेतृत्व में बदलाव चाहते है. मसलन, हरियाणा में प्रदेश कांग्रेस की कमान पूर्व सांसद डॉ अशोक तंवर के पास है. लोकसभा की परफॉर्मेंस में हरियाणा कांग्रेस 10 में से 1 भी सीट नहीं जीत पाई थी. ऐसे में चर्चाएं है कि नेतृत्व में बदलाव के लिए कार्यकर्ता भी हुड्डा पर दबाव बनाए हुए थे, ऐसे में हाईकमान तक यह बातें भी गयी.

अब जब भूपेंदर सिंह हुड्डा आज परिवर्तन रैली करने जा रहे है तो प्रदेश की राजनीति में तरह तरह की चर्चा सुनने को मिल रही है. इन पहलुओं पर आपसे चर्चा करे तो हरियाणा में हुड्डा की राजनीति को लेकर यह चर्चा चल रही है. 

पहली चर्चा, अलग पार्टी का ऐलान
हरियाणा की राजनीति में सरगर्मियां तेज है कि हुड्डा को शायद शीर्ष नेतृत्व पहले की तरह तवज्जो नही दे रहा है. ऐसे में भूपेंदर हुड्डा आज कांग्रेस से अलग राह अपनाने का ऐलान कर सकते है. चर्चा तो यह भी है कि शरद पंवार की  पार्टी यानी राष्ट्रवादी कांग्रेस में शामिल होकर वो हरियाणा विधानसभा चुनावों में मैदान में उतरने का ऐलान कर सकते है.

दूसरी चर्चा, पार्टी नहीं शक्ति प्रदर्शन होगा
हरियाणा की राजनीति में हुड्डा को लेकर दूसरी चर्चा यह है कि हुड्डा अलग पार्टी नहीं बनाएंगे. कल कांग्रेस के शीर्ष नेतृत्व से हुई मीटिंग में उन्हें आश्वासन मिला है कि पहले की तरह मान सम्मान उन्हें मिलेगा. ऐसे में आज की रैली में वो कार्यकर्ताओं से एकजुट होकर बीजेपी के खिलाफ लामबंद होने का आह्वान करेंगे. 

तीसरी चर्चा, 25 सदस्यीय कमेटी बनाने की
एक चर्चा यह भी है कि हुड्डा एक बार फिर सब फैसला अपने समर्थकों पर छोड़ सकते है. आज रैली के दौरान वो मंच से 25 सदस्यीय कमेटी पूर्व स्पीकर कुलदीप शर्मा के नेतृत्व में बना सकते है जो हरियाणा के अलग अलग एरिया में जाकर फीड बैक लेंगे, कि आगे क्या करना चाहिए. 

सोनिया के पास दूसरी कमान, क्या रोक पाएगी हुड्डा को
सोनिया गांधी हाल ही में दोबारा से कांग्रेस की राष्ट्रीय अध्यक्ष बनी है. उनके सामने हुड्डा को थामे रखने और जाने देने की परिस्थिति भी बनी है. हालांकि पूर्व की अगर बात कर ले तो भूपेंदर हुड्डा को सीएम की कमान सोनिया ने ही दी थी. तब पूर्व मुख्यमंत्री भजन लाल की जगह हरियाणा की कमान को कांग्रेस से हुड्डा को सौंपा था, और लगातार हुड्डा 2 बार सीएम बने. 

रोहतक गढ़, और कांग्रेस में जाट लीडर है हुड्डा
भूपेंदर सिंह हुड्डा का रोहतक एरिया गढ़ माना जाता है. हुड्डा की हरियाणा में कांग्रेस में जाट लीडर के रूप में भी पहचान है. हालांकि कांग्रेस की वर्तमान परिस्थिति की अगर बात कर ले, तो कांग्रेस गुटों में बंटी हुई है. एक गुट हुड्डा का, दूसरा अशोक तंवर का, तीसरा रणदीप सुरजेवाला का तो चौथा किरण चौधरी, पांचवा कुमारी शैलजा का. इस प्रकार से जितने बड़े चेहरे, उतने गुट. अगर हुड्डा कांग्रेस को अलविदा कहते है तो कांग्रेस को नुकसान होने लाजमी है. क्योंकि हुड्डा सोनीपत, झज्जर, रोहतक इस एरिया में खासा प्रभाव रखते है. हुड्डा के साथ आज इस रैली में नज़र आने वाले बड़े राजनेता भी हुड्डा के साथ ही रहते है तो यह नुकसान और भी कांग्रेस को बड़ा हो सकता है. लेकिन रैली में क्या रहेगा, अभी अटकलें ही चल रही है फाइनल मुहर तो हुड्डा को ही लगानी है.

 

जुटने लगे नेता, एलान पर नज़र
हुड्डा के रोहतक में होने वाले कार्यक्रम में कांग्रेस के वो चेहरे जुटने लगे है, जो हुड्डा गुट के माने जाते है. मंच पर नेता रणसिंह मान, सुखबीर कटारिया,रामनिवास घोड़ेला, रणबीर महेंद्रा, पूर्व सांसद धर्मपाल मलिक, रणधीर धीरा, नूह के पूर्व विधायक अवतार अहमद, भगत सिंह, धर्मबीर छोक्कर, राव बीरेंदर सिंह, उदयभान, रामेश्वर दयाल, विधायक कर्ण दलाल मंच पर पहुंच गए है. फिलहाल कार्यक्रम का आगाज हो गया है, नज़रे हुड्डा के भाषण पर रहेगी कि आखिर क्या ऐलान वो करते है.