हरियाणा: रोडवेज कर्मचारियों की यूनियन ने पूरे राज्य में किया प्रदर्शन, सरकार को 29 दिसंबर तक का अल्टीमेटम

हरियाणा में किलोमीटर की स्कीम के तहत बसें हायर किए जाने के खिलाफ रोडवेज कर्मचारियों की यूनियन ने आज पूरे प्रदेश में प्रदर्शन किए हैं.

हरियाणा: रोडवेज कर्मचारियों की यूनियन ने पूरे राज्य में किया प्रदर्शन, सरकार को 29 दिसंबर तक का अल्टीमेटम
सरकार को 29 दिसंबर तक का अल्टीमेटम

हिसार: हरियाणा में किलोमीटर की स्कीम के तहत बसें हायर किए जाने के खिलाफ रोडवेज कर्मचारियों की यूनियन ने आज पूरे प्रदेश में प्रदर्शन किए हैं. हिसार में भी तालमेल कमेटी के आह्वान पर कमेटी के दिग्गज नेताओं के नेतृत्व में 2 घंटे तक नारेबाजी करते हुए सरकार के खिलाफ हुंकार भरी गई. कर्मचारी यूनियन के नेताओं का कहना है कि सरकार किलोमीटर स्कीम की आड़ में रोडवेज का निजीकरण कर रही है, जबकि सरकार को चाहिए कि वो हरियाणा रोडवेज के बेड़े में खुद की बसें खरीद कर इसे बढ़ाए.

हिसार में प्रदर्शन की अगुवाई कर रहे तालमेल कमेटी के नेता दलबीर किरमारा और यूनियन नेता राजपाल ने ने कहा कि सरकार ज्यादती और हठधार्मिकता अपनाएं हुए हैं. उन्होंने कहा कि आज भी हरियाणा के हालात यह हैं कि ग्रामीण रूटों पर बस सेवा नहीं है. लेकिन सरकार बसें बढ़ाने की बजाय केवल और केवल निजी लोगों को फायदा पहुंचाने के काम करने में जुटी है.

यूनियन नेताओं ने बताया कि प्रदेश सरकार को 29 दिसंबर तक का अल्टीमेटम दिया है कि तय समय में उनकी मांगे पूरी करें, नहीं तो बड़े आंदोलन का आगाज किया जाएगा. बाकायदा इसके लिए राज्यस्तरीय सम्मेलन बुलाया गया है. आपको बता दें कि इसी स्कीम के विरोध में हरियाणा की मनोहर सरकार पार्ट वन के दौरान 18 दिनों तक रोडवेज का चक्का जाम भी रहा था.

उस दौरान यूनियन ने इसके टेंडरों में घोटाले का आरोप जड़ा था. स्कीम की अगर बात करें तो सरकार बसें हायर कर रही है, जिसमें चालक और बस प्राइवेट होगी जबकि उसमें कंडक्टर रोडवेज का होगा. यूनियन नेताओं का इसी स्कीम को लेकर विरोध है कि सरकार निजी लोगों के हाथ में मुनाफा पहुंचाना चाहती है. पिछली बार जब जांच हुई थी, तो सामने आया था कि मिलीभगत कर हाईरेट टेंडर भरे गए.