close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

दिल्ली-NCR में आपकी जान बेहद खतरे में है! कब तक दिल्ली प्रदूषण की मार झेलती रहेगी?

क्या आप दिल्ली में रहते हैं? क्या आपका परिवार भी NCR में आपके साथ में है? ऐसा है तो हमारी आपको एक जरूरी सलाह है. कल से अपने घर से बाहर मत निकलिएगा.

दिल्ली-NCR में आपकी जान बेहद खतरे में है! कब तक दिल्ली प्रदूषण की मार झेलती रहेगी?
दिल्ली-NCR में प्रदूषण अपने सबसे भयानक स्तर पर पहुंच चुका है.

नई दिल्ली: क्या आप दिल्ली में रहते हैं? क्या आप दिल्ली से सटे किसी शहर में रहते हैं? क्या आपका परिवार भी NCR में आपके साथ में है? ऐसा है तो हमारी आपको एक जरूरी सलाह है. कल से अपने घर से बाहर मत निकलिएगा. अपने बच्चों को भी बाहर ना निकलने दीजिएगा. वरना इसकी पूरी गारंटी है कि ज़हरीली हवा से आप बीमार पड़ जाएं. आंखें जलने लगे, सांसें फूलने लगे और दम घुटने लगेगा. ये डराने वाली नहीं आपको सावधान करने वाली खबर है क्योंकि दिल्ली-NCR (Delhi-NCR) में प्रदूषण अपने सबसे भयानक स्तर पर पहुंच चुका है.

दिल्ली में AQI यानी एयर क्वालिटी इंडेक्स आज 500 से 700 के बीच पहुंच गया, इसके बाद ऐसे लगा जैसे हर तरफ कोहरा छाया हो.. लेकिन ये प्रदूषण का सबसे भयानक रूप है. जिसे देखने के बाद पर्यावरण प्रदूषण रोकथाम और नियंत्रण प्राधिकरण यानी EPCA ने दिल्ली में हेल्थ इमरजेंसी लागू कर दिया. लोगों को घर से बाहर ना निकलने के निर्देश जारी किए. दिल्ली सरकार ने सभी स्कूलों को 5 नवंबर तक बंद रखने के आदेश जारी किए. 

वायु-प्रदूषण का स्वास्थ्य पर बेहद गंभीर असर होगा
EPCA ने कहा है कि वो इसे एक जन-स्वास्थ्य आपातकाल की तरह ले रहा है क्योंकि वायु-प्रदूषण का स्वास्थ्य पर बेहद गंभीर असर होगा. खासतौर से बच्चों की सेहत पर. इसीलिए EPCA ने दिल्ली हरियाणा और यूपी को चिट्ठी लिखकर बाकायदा आगाह किया है. इतना ही नहीं, EPCA ने 5 नवंबर तक दिल्ली-NCR में निर्माण कार्यों पर भी रोक लगा दी है. इसके अलावा सर्दियों के दौरान पटाखे जलाने पर भी पाबंदी रहेगी. EPCA चेयरमैन, भूरे लाल ने कहा कि दिल्ली-NCR में जहरीली हवा का सबसे ज्यादा असर स्कूली बच्चों पर हो रहा है. धुएं और धुंध की वहज से बच्चों को सांस लेने में तकलीफ रो रही है. हालात गंभीर हैं इसीलिए दिल्ली सरकार ने 5 नवंबर तक सभी स्कूलों को बंद रखने का निर्देश दिया. 

यानी आप समझ सकते हैं कि दिल्ली में ये प्रदूषण का आपातकाल है जिसके बाद दिल्ली सरकार भी जागी है. दिल्ली सरकार ने सभी सरकारी और प्राइवेट स्कूलों में आउटडोर एक्टिविटी बंद करने के लिए सर्कुलर जारी किया इसके अलावा दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने आज स्कूली बच्चों को मास्क बांटे. केजरीवाल ने बच्चों को हरियाणा और पंजाब के मुख्यमंत्रियों को चिट्ठी लिखकर पराली ना जलाने की बात कही. 

LIVE टीवी:

प्रदूषण का इलाज बाद में पहले सियासत शुरू हो गई और इसमें ना आप पीछे रही और ना ही बीजेपी. इंडिया के DNA में ज़ी न्यूज़ पर आज दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसौदिया और दिल्ली बीजेपी अध्यक्ष मनोज तिवारी दोनों ही प्रदूषण के सवाल पर एक दूसरे के ऊपर आरोप-प्रत्यारोप करते नजर आए. यानी जनता की सेहत की फिक्र सही मायने में किसी को नहीं. ना ही दिल्ली सरकार ये मानने को तैयार है कि चार साल तक वो प्रदूषण को रोकने में नाकाम रही और दिल्ली में पटाखे प्रदूषण बढ़ने की बड़ी वजह रहे... और ना ही बीजेपी ये मानने को तैयार दिखी कि हरियाणा में जलाई जा रही पराली से दिल्ली बीमार हो रही है... तो मतलब यही निकला कि आपकी सेहत आपके हाथ है. आप सजग रहेंगे तभी प्रदूषण से बच सकते हैं... वरना आम इंसान आज राम भरोसे है.