close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

हिलेरी क्लिंटन और केजरीवाल का 'खांसी' कनेक्शन, जानें कैसे

साल 2016 में हुए राष्ट्रपति चुनाव प्रचार के दौरान भी हिलेरी क्लिंटन की खांसी उनके भाषणों की तहत सुर्खियों में बनी रही थी

हिलेरी क्लिंटन और केजरीवाल का 'खांसी' कनेक्शन, जानें कैसे
दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल और अमेरिका की पूर्व विदेश मंत्री हिलेरी क्लिंटन (फाइल फोटो)

नई दिल्लीः क्या आप जानते हैं कि दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल और अमेरिका की पूर्व विदेश मंत्री हिलेरी क्लिंटन के बीच क्या समानता है? आप सोच रहे होंगे कि यह कैसा सवाल है? जी हां राजनीति के क्षेत्र में दो अलग-अलग छोर पर खड़े दोनों नेताओं के बीच ऐसी तो कोई समानता नहीं है जिसे कभी देखा या सुना गया हो. लेकिन इन दोनों शख्सियतों के निजी जीवन में एक समस्या ऐसी हैं जिससे ये दोनों नेता ही परेशान रहे है. जी हां हम बात कर रहे हैं खांसी की. केजरीवाल की तरह हिलेरी क्लिंटन भी लंबे समय से खांसी की समस्या से जूझ रही है.

आपको बता दें कि साल 2016 में हुए राष्ट्रपति चुनाव प्रचार के दौरान भी हिलेरी क्लिंटन की खांसी उनके भाषणों की तहत सुर्खियों में बनी रही थी. अभी कुछ दिन पहले ही एक कार्यक्रम में भाषण के दौरान उन्हें एक बार फिर खांसी आई. हिलेरी लॉस एंजिलेस में तीन दिवसीय 'द मेकर्स कॉन्फ्रेंस' में बोल रहीं थी तभी उन्हेंं खांसी की समस्या से जूझता देखा गया, ऐसी ही हालत उनकी साल 2016 में राष्ट्रपति चुनाव के प्रचार के दौरान थी.

यह भी पढ़ेंः केजरीवाल की खांसी पर पीएम नरेंद्र मोदी ने दी खास सलाह, बोले- इस बीमारी से निजात के लिए डा. नागेंद्र से संपर्क करें

समाचार एजेंसी एनएनआई ने डेली मेल के हवाले से बताया है कि हिलेरी ने लॉस एंजिल्स में 'मैकर्स सम्मेलन' के समापन समारोह में बोल रही थीं. इस दौरान वह महिलाओं से लिंगवाद, नस्लवाद और कट्टरता के खिलाफ अपनी आवाज बुंलद करने की अपील कर रही थीं.  हिलेरी ने महिलाओं से कहा, 'मैं खुलकर बोलने की प्रतिज्ञा लेती हूं, मैं प्रतिज्ञा लेती हूं कि मैं कभी हार नहीं मानूंगी...' इतने में ही हिलेरी को खांसी आने लगी.

इसके बाद हिलेरी ने फिर बोलना शुरू किया और कहा 'मुझसे जो हो सकेगा मैं वो करूंगी. ' इसके बाद भी उनकी खांसी नहीं रुकी. एक गिलास पानी पीने के बाद हिलेरी को खांसी से थोड़ी राहत मिली. जिसके बाद उन्होंने कहा कि वे महिलाओं के अधिकारों और अवसरों को आगे बढ़ाने के लिए हर कदम को उठाएंगी.

यह भी पढ़ेंः अरविंद केजरीवाल की खांसी की बीमारी दूर करने के लिए हुई सर्जरी

वर्ष 2016 में हिलेरी क्लिंटन राष्ट्रपति चुनाव प्रचार के दौरान 9/11 हमलों के स्मारक पर शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित करने पहुंची थी, जिसके बाद उनके अस्वस्थ होने की खबरें सामने आईं. 9/11 हमलों के 15 साल पूरे होने के अवसर पर आयोजित एक स्मृति सभा में वे पहुंचीं थीं. जिसके बाद डॉक्टरों ने बताया था कि उन्हें बुखार हो गया है और उनके शरीर में पानी की कमी हो गई है.

यह भी पढ़ेंः हिलेरी क्लिंटन की तबीयत बिगड़ी, 9/11 की बरसी पर कार्यक्रम को बीच में ही छोड़ा

वहीं दिल्ली के सीएम केजरीवाल का खांसी से नाता अन्ना आंदोलन के समय का है जैसे-जैसे केजरीवाल का राजनीतिक कद बढ़ता गया उनकी खांसी भी लगातार बढ़ती गई. पहली बार दिल्ली के सीएम बनने से लेकर दूसरी बार सीएम बनने तक केजरीवाल की खांसी. उनकी पहचान बन गई थी. एक दो मिनट बोलने पर यदि केजरीवाल खांसे नहीं तो लोगों को यकीन नहीं होता था. 

साल 2015 के फरवरी महीने में दिल्ली मेंं आम आदमी पार्टी की सरकार बनने के बाद जब केजरीवाल पीएम मोदी से मिलने के लिए गए थे. तब पीएम ने उन्हें नेचुरोपैथी के जरिए इलाज कराने के लिए एक जगह बताई थी. पीएम ने उन्हें बेंगलुरु के जिंदल नेचर केयर इंस्टीट्यूट में इलाज कराने की सलाह दी थी. सीएम केजरीवाल वहां गए और इलाज भी कराया. तब से केजरीवाल की खांसी में राहत है. बीते करीब ढाई साल में केजरीवाल की वो खांसी नहीं दिखाई दी है जो उनकी पहचान बन गई थी.