Breaking News
  • नोएडा: सेक्‍टर 64 की एक एक्‍सपोर्ट फैक्‍ट्री में आग, फायर ब्रिगेड की 16 गाड़ियां मौके पर मौजूद
  • बडगाम: जैश आतंकियों के 6 मददगार गिरफ्तार

Coronavirus in Japan: जापान ने कैसे किया कोरोना वायरस पर काबू, जानकर रह जाएंगे हैरान

कोरोना वायरस (Corona Virus) ने पूरी दुनिया में कोहराम मचा रखा है.

Coronavirus in Japan: जापान ने कैसे किया कोरोना वायरस पर काबू, जानकर रह जाएंगे हैरान
फाइल फोटो

नई दिल्ली: कोरोना वायरस (Corona Virus) ने पूरी दुनिया में कोहराम मचा रखा है. चीन के वुहान से निकले कोरोना वायरस ने आज पूरी दुनिया को अपने चपेट में ले लिया है. चीन की मीडिया के मुताबिक चीन ने वुहान समेत अपने कई शहरों में तेजी से फैले कोरोना वायरस को काफी हद तक नियंत्रित कर लेने का दावा किया है लेकिन दुनिया के कई देश युद्ध जैसी स्थिति का सामना कर रहे हैं.

इटली जैसे देश में सोमवार तक कुल 5,477 लोगों की इस वायरस से मौत हो चुकी है. अमेरिका में कुल 582 और भारत में 10 लोगों की मौत के मामले सामने आये हैं. ऐसे में जापान कोरोना के खिलाफ अपने प्रयासों की वजह से चर्चा में है. ऐसे में सवाल ये है कि आखिर जापान ने ऐसा क्या किया जिससे वहां कोरोना की स्पीड को ब्रेक लगा है. 

ये भी पढ़ें- कोरोना वायरस: लॉकडाउन और कर्फ्यू का दिखा असर, दिल्ली में दिखने लगे नीले आसमान, हवा हुई साफ

हैरानी की बात ये है कि जापान ने ना ही लोगों को क्वारंटीन में रहने के लिए कहा और ना ही आइसोलेशन पर भेजा. इसके अलावा जापान ने लॉकडाउन भी नहीं किया, फिर भी वहां जीवन बिल्कुल सामान्य गति से चल रहा है.

आखिर कोरोना को हराने के लिए जापान ने क्या कदम उठाए

जापान ने दुनिया से उलट उन क्षेत्रों की पहचान सबसे पहले की, जहां कोरोना से पीड़ित मरीज थे. जापान ने ऐसे मरीजों के संपर्क में आने वाले लोगों को फौरन चिन्हित किया और केवल उन्हीं लोगों की टेस्टिंग की जिनमें वायरस के लक्षण दिख रहे थे. 

22 मार्च तक जापान में 1000 लोग कोरोना से पीड़ित थे जिसमें से 50 लोगों की मौत भी हो चुकी है. फिर भी जापान ने काफी हद तक इस रोग के फैलने पर रोक लगाई है. चीन के बाद कोरोना जापान पहुंचा था लेकिन बाकी देशों की अपेक्षा में जापान ने इस रोग पर काफी हद तक काबू पाया.

जापान ने जनवरी के दूसरे हफ्ते में ही ऑफिसों में सैनिटाइजर को अनिवार्य कर दिया था. लोगों ने भी फौरन मास्क का प्रयोग करना शुरू कर दिया था. जनता ने भी सरकारी गाइडलाइन को फौरन अपनाना शुरू कर दिया था. इसका प्रभाव ये पड़ा कि कोरोना वहीं ठहर गया और ज्यादा लोगों को अपनी चपेट में नहीं ले सका. जापान सरकार ने संक्रमण की चेन नहीं बनने दी.

ये भी देखें- 

संक्रमण कम फैलने का एक कारण ये भी है कि जापान में हाथ मिलाने और गले मिलने का कल्चर बहुत कम है. यहां दूर से ही अभिवादन किया जाता है. इसके अलावा साफ-सफाई के मामले में जापान पहले से ही दुनिया का ध्यान अपनी ओर खींचता रहा है.

जापान की मेडिकल कंडीशनिंग भी बहुत अच्छी है. यहां के कई हॉस्पिटल्स में 1 हजार से ज्यादा बेड की सुविधा है. हैरानी की बात ये है कि जब पूरी दुनिया में स्कूल बंद हैं, तब मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक जापान, स्कूलों को फिर से खोलने की तैयारी कर रहा है.