Breaking News
  • सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि प्राइवेट लैब को कोरोना जांच के लिए टेस्ट फीस लेने की अनुमति नहीं होनी चाहिए
  • मुंबई के बांद्रा के भाभा अस्पताल की 15 नर्सों को क्‍वारंटाइन किया गया
  • कोरोना के बीच डॉक्टरों और मेडिकल स्टाफ की सुरक्षा का मामला, सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि ये लोग योद्धा हैं

हैदराबाद एनकाउंटर पर सुप्रीम कोर्ट में बुधवार को होगी सुनवाई, पुलिस पर FIR दर्ज करने की है मांग

याचिका में एनकाउंटर की निष्पक्ष जांच एजेंसी से जांच कराने की मांग की गई है. साथ ही सुप्रीम कोर्ट की गाइड लाइन के तहत साइबराबाद पुलिस कमिश्नर वीसी सज्जनार और एनकाउंटर में शामिल पुलिसकर्मियों पर एफआईआर दर्ज कराने की मांग की गई है

हैदराबाद एनकाउंटर पर सुप्रीम कोर्ट में बुधवार को होगी सुनवाई, पुलिस पर FIR दर्ज करने की है मांग

नई दिल्ली: हैदराबाद में रेप और मर्डर के आरोपियों के एनकाउंटर (Encounter) के मामले में दाखिल जनहित याचिका पर सुप्रीम कोर्ट में बुधवार को सुनवाई होगी. बता दें कि हैदराबाद मुठभेड़ मामले में पुलिसकर्मियों के खिलाफ वकील द्वारा  याचिका दायर की गई है. अभी याचिका सुनवाई के लिए कोर्ट की लिस्ट में नहीं लगी है,  लेकिन वकील ने याचिका पर जल्द सुनवाई करने के लिए चीफ़ जस्टिस की कोर्ट में मेंशन किया.

यह याचिका सुप्रीम कोर्ट के वकील जी एस मणि ने खुद दाखिल की है. याचिका में एनकाउंटर की निष्पक्ष जांच एजेंसी से जांच कराने की मांग की गई है. साथ ही सुप्रीम कोर्ट की गाइड लाइन के तहत साइबराबाद पुलिस कमिश्नर वीसी सज्जनार और एनकाउंटर में शामिल पुलिसकर्मियों पर एफआईआर दर्ज कराने की मांग की गई है. याचिका में आरोप लगाया गया है कि एनकाउंटर पर सुप्रीम कोर्ट के दिशानिर्देशों का पालन नहीं किया गया.

साइबराबाद के पुलिस कमिश्‍नर ने बताई गैंगरेप-हत्‍यारोपियों के एनकाउंटर की पूरी कहानी
हैदराबाद (Hyderabad) में एक युवा महिला पशु चिकित्सक की निर्मम सामूहिक दुष्कर्म और हत्या के एक सप्ताह बाद पुलिस ने शादनगर के पास एक 'मुठभेड़' में चारों आरोपियों को मार गिराया. इस मुठभेड़ के बारे में मीडिया में जानकारी देते हुए साइबराबाद के पुलिस कमिश्‍नर वीसी सज्‍जनार ने बताया कि घटना के बाद जांच में साइंटिफिक एविडेंस भी जुटाए गए थे, जिनके बाद आरोपियों को पकड़ा गया.

यह भी पढ़ें- हैदराबाद : कैसे एनकाउंटर में मारे गए गैंगरेप और हत्‍या के आरोपी, Graphics के जरिये जानिए...

इन्‍हें पुलिस हिरासत में भेजे जाने पर उनसे पूछताछ की गई. आरोपियों ने बताया था कि उन्‍होंने मौका ए वारदात के आसपास पर पीडि़ता का मोबाइल और अन्‍य सामान छिपाया गया था, इसलिए इन्‍हें लाया गया. जब सभी को यहां लाया गया और मौके पर ले जाया गया. आरोपियों ने पत्‍थर और डंडों से पुलिस पर हमला कर दिया और मोहम्मद आरिफ (26) और चिंताकुंटा चेन्नाकेशवुलु (20) ने पुलिस से हथियार छीन लिए और पुलिस टीम पर हमला कर दिया. सबसे पहले पुलिस पर हमला आरिफ ने किया, फिर चिंताकुंटा चेन्नाकेशवुलु ने.

उन्‍होंने बताया कि आरोपियों से पुलिस ने सरेंडर करने को कहा गया. इसके बाद भी वे नहीं माने तो उन्‍हें मुठभेड़ में मार गिराया गया. चारों बुलेट इंजरी से मारे गए. आरिफ के पास पुलिस हथियार भी बरामद किया गया है. उन्‍होंने बताया कि यह पूरी घटना सुबह 5.45 से 6.15 के बीच हुई. पुलिस कमिश्‍नर वीसी सज्‍जनार ने बताया कि पीडिता के साथ-साथ आरोपियों की भी DNA जांच कराई गई है.