close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

ICJ को मेजर गोगोई के खिलाफ स्वत: संज्ञान लेते हुए कार्रवाई करनी चाहिए: गिलानी

आईसीजे: को मेजर लितुल गोगोई के खिलाफ स्वत: संज्ञान लेते हुए कार्रवाई करनी चाहिए जिन्होंने कश्मीर में एक व्यक्ति को एक जीप पर मानव ढाल के तौर पर बांधा था. गिलानी ने गोगोई को सेना की ओर से सम्मानित किये जाने को अत्यंत चिंताजनक एवं शर्मनाक कृत्य करार दिया.

ICJ को मेजर गोगोई के खिलाफ स्वत: संज्ञान लेते हुए कार्रवाई करनी चाहिए: गिलानी
ICJ को मेजर गोगोई के खिलाफ स्वत: संज्ञान लेते हुए कार्रवाई करनी चाहिए: गिलानी (file photo)

श्रीनगरः हुर्रियत कान्फ्रेंस के कट्टरपंथी धड़े के अध्यक्ष सैयद अली शाह गिलानी ने आज कहा कि अंतरराष्ट्रीय न्यायालय :आईसीजे: को मेजर लितुल गोगोई के खिलाफ स्वत: संज्ञान लेते हुए कार्रवाई करनी चाहिए जिन्होंने कश्मीर में एक व्यक्ति को एक जीप पर मानव ढाल के तौर पर बांधा था. गिलानी ने गोगोई को सेना की ओर से सम्मानित किये जाने को अत्यंत चिंताजनक एवं शर्मनाक कृत्य करार दिया.

गोगोई को आतंकवाद निरोधक अभियान में उनके ‘‘सतत प्रयासों’’ के लिए कल आर्मी चीफ्स कमेंडेशन कार्ड से सम्मानित किया गया था. मेजर कश्मीरी युवक फारूक अहमद डार को गत नौ अप्रैल को श्रीनगर लोकसभा उपचुनाव के दौरान कथित तौर पर पथराव के खिलाफ एक मानव ढाल के तौर पर सेना के एक वाहन के आगे बांधने को लेकर विवादों में हैं.

गिलानी ने यहां एक बयान में कहा, ‘‘यह :मेजर को सम्मानित करना: अत्यंत चिंताजनक एवं शर्मनाक कृत्य है. ऐसे अधिकारी को सम्मानित किया जाने से हमारे इस दावे की पुष्टि होती है कि यह देश प्रायोजित नीति है और यदि इसे नहीं रोका गया तो यह मानव जीवन के लिए हानिकारक साबित होगी.’’

गिलानी ने मानव ढाल विवाद को कुलभूषण जाधव मामले से जोड़ा और कहा कि अंतरराष्ट्रीय न्यायालय को हस्तक्षेप करना चाहिए और दोषी अधिकारी को दंडित करना चाहिए. गिलानी ने मेजर गोगोई का पक्ष लेने के लिए राजनेताओं पर निशाना साधा.