168 विधायकों के सामने शरद पवार का ऐलान, अजित पवार ने व्हिप के खिलाफ वोटिंग की तो होगी कार्रवाई

शरद पवार ने कहा अजित पवार के खिलाफ कार्रवाई करेंगे, वह किसी प्रकार का फैसला नहीं ले सकेंगे. साथ ही उन्होंने कहा कि अब तीनों पार्टियां (शिवसेना, कांग्रेस और एनसीपी) मिलकर कोई भी फैसला लेंगी. यही नहीं, शरद पवार ने कहा कि विधानसभा में बहुमत साबित करने के दौरान होने वाली वोटिंग में व्हिप न मानने वाले विधायकों के खिलाफ भी कार्रवाई करेंगे.

168 विधायकों के सामने शरद पवार का ऐलान, अजित पवार ने व्हिप के खिलाफ वोटिंग की तो होगी कार्रवाई
पहली बार बोले एनसीपी प्रमुख शरद पवार- अजित पवार के खिलाफ करेंगे कार्रवाई.

मुंबई: महाराष्ट्र में राजनीतिक ड्रामा थमने का नाम नहीं ले रहा है. सोमवार शाम को मुंबई के ग्रैंड हयात होटल में शिवसेना, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) और कांग्रेस ने 162 विधायकों का मीडिया के सामने शक्ति प्रदर्शन किया. इनमें समाजवादी पार्टी (सपा) के अलावा अन्य छोटे दलों और निर्दलीय विधायक भी शामिल रहे. इन सभी विधायकों को शपथ दिलाई गई कि वे विधानसभा में बहुमत अपनी पार्टी से अलग जाकर वोट नहीं करेंगे. उन्होंने चुनाव में जिन मुद्दों को आधार बनाकर वोट मांगा था उसे ही ध्यान में रखकर विधानसभा में भी वोट करेंगे. इससे पहले विधायकों को संबोधित करते हुए एनसीपी प्रमुख शरद पवार (Sharad Pawar)ने दो टूक अंदाज में कहा कि वे बागी अजित पवार (Ajit Pawar) के खिलाफ सख्त कार्रवाई करेंगे.

शरद पवार (Sharad Pawar)ने कहा अजित पवार (Ajit Pawar) के खिलाफ कार्रवाई करेंगे, वह किसी प्रकार का फैसला नहीं ले सकेंगे. साथ ही उन्होंने कहा कि अब तीनों पार्टियां (शिवसेना, कांग्रेस और एनसीपी) मिलकर कोई भी फैसला लेंगी. यही नहीं, शरद पवार (Sharad Pawar)ने कहा कि विधानसभा में बहुमत साबित करने के दौरान होने वाली वोटिंग में व्हिप न मानने वाले विधायकों के खिलाफ भी कार्रवाई करेंगे.

शरद पवार (Sharad Pawar)ने कहा कि उन्हें (अजित पवार (Ajit Pawar)) विधायक दल का नेता चुना गया था, उन्होंने उसका दुरुपयोग किया, सबको गुमराह किया. उन्होंने कहा कि व्हिप का उल्लंघन करने पर कार्रवाई होगी. हमने अजित पवार (Ajit Pawar) को निकालने का निर्णय ले लिया है. पवार ने कहा कि हमने कानून के विशेषज्ञों से भी सलाह ली है. अजित निकाले जाने के बाद कोई निर्णय नहीं ले सकते.

एनसीपी प्रमुख ने तीनों दलों के विधायकों को संबोधित करते हुए कहा कि ये गोवा या मणिपुर नहीं है, ये महाराष्ट्र है. उन्होंने कहा कि अजित पवार (Ajit Pawar) ने जनता को धोखा देने का काम किया है. उन्होंने एनसीपी के कुछ विधायकों को गुमराह करने की कोशिश, जिसके लिए उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी. इतना ही नहीं, शरद पवार (Sharad Pawar)ने ये भी कहा कि शिवसेना और कांग्रेस के साथ गठबंधन केवल सरकार बनाने के लिए नहीं बल्कि लंबे समय तक राजनीति करने को ध्यान में रखकर किया गया है. 

बीजेपी या मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस का नाम लिए बगैर शरद पवार (Sharad Pawar)ने कहा कि महाराष्ट्र के कुल 288 विधायकों में ज्यादातर यहां होटल में मौजूद हैं. कर्नाटक, गोवा, मणिपुर में बहुमत न होते हुए भी इन्होंने पावर का दुरुपयोग कर सरकार बनाई. देश का इतिहास अब बदलेगा, जिसकी शुरुआत महाराष्ट्र से होगी.

शक्ति प्रदर्शन के दौरान ये बड़े नेता रहे मौजूद
शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस के साझा शक्ति प्रदर्शन के दौरान तीनों दलों के कई बड़े नेता मौजूद रहे. एनसीपी की ओर से शरद पवार, प्रफुल्ल पटेल, सुप्रिया सुले, छगन भुजव्वल, नवाब मलिक आदि नेता मौजूद रहे. शिवसेना की ओर से बड़े चेहरों में उद्धव ठाकरे और आदित्य ठाकरे दिखे. वहीं कांग्रेस की तरफ से अशोक चव्वाण, मल्लिकार्जुन खड़गे, महाराष्ट्र कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष बालासाहेब थोरात जैसे चेहरे मौजूद रहे. तीनों दलों के नेताओं ने बारी-बारी से विधायकों को संबोधित किया.

अजित पवार (Ajit Pawar) को मनाने की कोशिश नाकाम 
होटल ग्रैंड हयात में एनसीपी के बागी नेता अजित पवार (Ajit Pawar) नहीं पहुंचे. इसके साथ ही साफ हो गया है कि अजित पवार (Ajit Pawar) को मनाने की तीन कोशिशें नाकाम साबित हुई हैं. उन्हें मनाने की कोशिश दो शनिवार को की गईं, जिसमें दिलीप वलसे पाटिल और हसन मुशरीफ ने उनसे मुलाकात की थी और एक कोशिश रविवार को की गई. रविवार को शरद पवार (Sharad Pawar)ने जयंत पाटिल को उनके पास भेजा था.

ये भी देखें-: