पीएम नरेंद्र मोदी बोले, यदि कोई रचना अमर है तो वह हमारा संविधान है; पढ़ें भाषण की 5 बातें

संविधान दिवस के मौके पर दिल्ली के विज्ञान भवन में आयोजित कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि आज का दिन देश के संविधान निर्माताओं को नमन करने का दिन है.

पीएम नरेंद्र मोदी  बोले, यदि कोई रचना अमर है तो वह हमारा संविधान है; पढ़ें भाषण की 5 बातें
संविधान दिवस पर पीएम मोदी ने विज्ञान भवन में संबोधित किया. तस्वीर साभार: ANI

नई दिल्ली: संविधान दिवस के मौके पर दिल्ली के विज्ञान भवन में आयोजित कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि आज का दिन देश के संविधान निर्माताओं को नमन करने का दिन है.

1. पीएम मोदी ने कहा कि एक ऐतिहासिक दस्तावेज (संविधान) बनाना आसान नहीं था, जहां एक दर्जन से ज्यादा संप्रदाय के लोग रहते हैं. 100 से अधिक भाषाएं और 1700 से अधिक बोलियों बोली जाती हैं. विविधताओं से भरे इस देश में संविधान निर्माण का काम आसान नहीं था. समय के साथ हमारे संविधान ने हर परीक्षा को पास किया है. हमारे संविधान ने उन लोगों की हर आशंका को गलत साबित किया है, जो कहते थे कि समय के साथ जो चुनौतियां देश के सामने आएगी, उनका समाधान हमारे संविधान नहीं दे पाएगी.

2. पीएम मोदी ने कहा कि हमारा संविधान जितना जीवंत है उतना ही संवेदनशील है. संविधान निर्माण में अहम भूमिका निभाने वाले सच्चिदानंद सिन्हा को जिक्र करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि  यदि कोई रचना अमर है तो वह हमारा संविधान है. हमारे संविधान ने हमें अभिभावक की तरह हर बात सिखाई. 

3. इससे पहले देश चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा ने कहा कि भारत का विकास इसलिए हो रहा है, क्योंकि यहां राजनीतिक लोकतंत्र, सामाजिक लोकतंत्र और आर्थिक लोकतंत्र है. कार्यक्रम में केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद भी मौजूद रहे.

ये भी पढ़ें: तिरंगा फहराने के नियम कायदों से अनजान हैं अधिकांश देशवासी

4. संविधान दिवस के मौके पर पीएम मोदी ने ट्वीट कर संविधान निर्माताओं को याद करते हुए एक वीडियो ट्वीट किया है. वहीं राष्ट्रपति ने भी ट्वीट कर संविधान सभा के सदस्यों को याद किया और डॉ. भीमराव अंबेड़कर को श्रद्धांजलि अर्पित की.

ये भी पढ़ें: बचपन में गुनगुनाया था हमने जो गीत, वो गाकर बांग्लादेश के खिलाड़ी भारत को कर रहे चैलेंज

5. 1949 में 26 नवंबर के दिन संविधान स्वीकार किया गया था. यह 26 जनवरी 1950 से लागू हुआ था. साल 2015 से मोदी सरकार 26 नवंबर को संविधान दिवस के रूप में मना रही है. विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (UGC) ने सभी विश्वविद्यालयों को 'संविधान दिवस' मनाने का निर्दश जारी कर दिया है.