close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

IGI AIRPORT: सुरक्षा के मुद्देनजर हुए कुछ अहम बदलाव, अब डॉग स्‍क्‍वायड करेगा हर बैग की जांच

टर्मिनल के गेट से लेकर एयरोब्रिज तक इंटेलीजेंस विंग के कमांडोज का तैयार किया गया है, जो एयरपोर्ट पहुंचने वाले संदिग्‍ध लोगों की पहचान कर उसके खिलाफ उपयुक्‍त कार्रवाई कर सकें. 

IGI AIRPORT: सुरक्षा के मुद्देनजर हुए कुछ अहम बदलाव, अब डॉग स्‍क्‍वायड करेगा हर बैग की जांच
पुलवामा हमले के बाद एयरपोर्ट सुरक्षा को अभेद्य बनाने की शुरू हो गई थी कवायद. (फाइल फोटो)

नई दिल्‍ली: आतंकी हमले की आशंकाओं के बीच दिल्‍ली के इंदिरा गांधी अंतरराष्‍ट्रीय एयरपोर्ट की सुरक्षा व्‍यवस्‍था मे कुछ अहम बदलाव किए गए हैं. इन बदलाव का मकसद एयरपोर्ट पर आने वाले हर मुसाफिर की पुख्‍ता जांच के साथ उनके बैग में मौजूद संदिग्‍ध वस्‍तुओं का समय रहते पता लगाना है. जिससे किसी भी संभावित खतरे को समय रहते टाला जा सके. पहली बार, एयरपोर्ट की सुरक्षा में तैनात डॉग स्‍क्‍वायड को मुख्‍य भूमिका में लाया गया है. इसके अलावा, टर्मिनल के गेट से लेकर एयरोब्रिज तक इंटेलीजेंस विंग के कमांडोज का तैयार किया गया है, जो एयरपोर्ट पहुंचने वाले संदिग्‍ध लोगों की पहचान कर उसके खिलाफ उपयुक्‍त कार्रवाई कर सकें. 

आईजीआई एयरपार्ट की सुरक्षा से जुड़े वरिष्‍ठ अधिकारी ने बताया कि अभी तक एयरपोर्ट की सुरक्षा व्‍यवस्‍था में डॉग स्‍क्‍वायड सीमित भूमिका अदा करता था. जिसमें निश्चित समयांतराल पर टर्मिनल बिल्डिंग की गश्‍त कर संदिग्‍ध वस्‍तुओं के बारे में पता लगाना और लावारिस मिले बैग के भीतर संदिग्‍ध वस्‍तु की संभावना को तलाशना था. नई व्‍यवस्‍था के तहत डॉग स्‍क्‍वायड को प्री-इंबार्केशन सिक्‍योरिटी एरिया से पहले तैनात किया गया है. डॉग स्‍क्‍वायड के लिए कुछ एरिया भी मार्क किए गए हैं. डॉग स्‍क्‍वायड के लिए मार्क किया गया एरिया मुसाफिरों के कतारों के बीच में है. जिससे डॉग स्‍क्‍वायड अपने एरिया में चक्‍कर लगाकर मुसाफिरों के हाथ में मौजूद सामान की जांच कर सके. चक्‍कर लगा रहे स्‍नीफर डॉग को किसी बैग पर शक होता है, तो वह तत्‍काल इसके संकेत अपने हैंडलर को देगा. जिससे इस बैग की अलग से सुरक्षा जांच की जा सके. 

यह भी पढ़ें: परेशानी भरी हो सकती है नगदी और सोने के साथ हवाई यात्रा, BCAS ने जारी किए कड़े निर्देश

आईजीआई एयरपोर्ट की सुरक्षा से जुड़े वरिष्‍ठ अधिकारी ने बताया कि नए सुरक्षा व्‍यवस्‍था को लागू करते समय इस बात का पूरा ध्‍यान दिया गया है कि सुरक्षा जांच की वजह से किसी भी मुसाफिर को किसी तरह की परेशानी न हो. इसीलिए टर्मिनल गेट के बाहर इंटेलीजेंस विंग की मौजूदा टीम में प्रोफाइलर्स की संख्‍या बढ़ा दी गई है. उन्‍होंने बताया कि सीआईएसएफ का मकसद है कि किसी भी खतरे को टर्मिनल बिल्डिंग में प्रवेश होने से पहले ही रोक दिया जाए. नई व्‍यवस्‍था के तहत किसी मुसाफिर पर संदेह होने पर प्रोफाइलर्स इसकी जानकारी सीसीटीवी कंट्रोल को देंगे. सीसीटीवी कंट्रोल संदिग्‍ध मुसाफिर पर संदेह पुख्‍ता होने तक निगाह बनाए रखेंगे. संदेह पुख्‍ता होते ही सीआईएसएफ की तीसरी टीम मुसाफिर को पूछताछ के लिए हिरासत में लेगी. कुछ इसी तरह, चेक-इन एरिया और सिक्‍योरिटी होल्‍ड एरिया में भी चौकसी बढ़ाई गई है. 

यह भी पढ़ें: कोलकाता जा रहे यात्री के बैग से कारतूस मिलने के बाद दिल्‍ली एयरपोर्ट में मचा हड़कंप

 

उल्‍लेखनीय है कि 14 फरवरी 2019 को आतंकियों ने जम्‍मू और कश्‍मीर के पुलवामा में सीआरपीएफ के काफिले को निशाना बनाया था. जिसमें सीआरपीएफ के 40 जवान शहीद हो गए थे. इस हमले के बाद खुफिया एजेंसियों ने आशंका जाहिर की थी कि आतंकी एयरपोर्ट पर भी बड़ी साजिश को अंजाम दे सकते हैं. जिसके बाद, देश के सभी संवेदनशील एयरपोर्ट की सुरक्षा व्‍यवस्‍था का आंकलन नए सिरे से शुरू किया गया. आंकलन के बाद सामने आए तथ्‍यों के आधार पर एयरपोर्ट की सुरक्षा व्‍यवस्‍था में नए बदलाव किए जा रहे हैं.