Breaking News
  • कोलकाता से आज से घरेलू उड़ानें शुरू, एयरपोर्ट पर 10 उड़ानें आएंगी और इतनी ही जाएंगी

हंसराज अहीर ने डॉक्टरों को दी थी नक्सली बनने की सलाह, बचाव में उतरी IMA

डॉक्टरों को नक्सली बनने की सलाह देने के बयान पर विवादों में आए केंद्रीय मंत्री हंसराज अहीर का इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आईएमए) ने बचाव किया है.

हंसराज अहीर ने डॉक्टरों को दी थी नक्सली बनने की सलाह, बचाव में उतरी IMA
अस्पताल में डॉक्टर के मौजूद न रहने पर भड़क गए थे केंद्रीय मंत्री हंसराज अहीर. (ANI File Photo)

नई दिल्ली: डॉक्टरों को नक्सली बनने की सलाह देने के बयान पर विवादों में आए केंद्रीय मंत्री हंसराज अहीर का मंगलवार (26 दिसंबर) को इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आईएमए) ने बचाव किया है. आईएमए ने इस विवाद के लिए मीडिया को जिम्मेदार बताया और कहा कि केंद्रीय मंत्री के बयान को तोड़मरोड़ कर पेश किया गया. आईएमए ने कहा, 'हम सभी के लिए मि. हंसराज अहीर बेहद सम्मानीय हैं, उनके शब्दों को तोड़मरोड़ कर पेश करने के लिए मीडिया की निंदा करते हैं. उन्होंने सामान्य तौर पर डॉक्टर्स कम्यूनिटी के खिलाफ कुछ गलत नहीं कहा. वे विशेष तौर पर सिविल सर्जन के लिए बयान दे रहे थे जो कि उस दिन अस्पताल से गैरहाजिर थे.'

केंद्रीय मंत्री हंसराज अहीर को आया गुस्सा, कहा- 'डॉक्टर चाहें तो नक्सली बन जाएं ताकि हम उन्हें गोली मार सकें'

उल्लेखनीय है कि महाराष्ट्र में डॉक्टरों की छुट्टी पर नाराजगी जाहिर करते हुए केंद्रीय मंत्री हंसराज अहीर ने उन्हें नक्सली बनने की सलाह दे डाली थी. इसके साथ ही उन्होंने कहा था कि अगर डॉक्टर लोकतंत्र में यकीन नहीं रखते हैं तो उन्हें नक्सली बन जाना चाहिए और फिर हम उन्हें गोली मार देंगे. हंसराज अहीर ने सोमवार (25 दिसंबर) को महाराष्ट्र के चंद्रपुर में एक अस्पताल के उद्घाटन के मौके पर कहा, 'मैं लोकतांत्रिक तरीके से चुना गया मंत्री हूं, यह जानने के बावजूद कि मैं यहां आ रहा हूं डॉक्टरों ने क्यों छुट्टी ले ली. अगर वह लोकतंत्र में आस्था नहीं रखते हैं तो उन्हें नक्सलियों के साथ चले जाना चाहिए, ताकि हम उन्हें गोली मार सकें.' 

Hansraj Ahir IMA Doctor Chandrapur Maharashtra

बांग्लादेश को बताया था भारत के लिए खतरा
केंद्रीय मंत्री हंसराज अहीर इससे पहले भी अपने बयानों को लेकर चर्चा में रहे हैं. हंसराज अहीर ने कहा था, पाकिस्तान के अलावा भारत का ‘तथाकथित दोस्त’ बांग्लादेश भी देश की सुरक्षा के लिए खतरा है. एसोचैम द्वारा आयोजित आंतरिक सुरक्षा पर एक सम्मेलन को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा था, 'बांग्लादेश महज तथाकथित दोस्त है क्योंकि साफ तौर पर उसने घुसपैठ के जरिए भारत को बहुत नुकसान पहुंचाया है.'