EXCLUSIVE : पाकिस्‍तान से भारत-अफगानिस्‍तान दोनों परेशान:वाहिदुल्लाह शाहरानी

अफगानिस्तान के पूर्व पेट्रोलियम मंत्री वाहिदुल्लाह शाहरानी झुंझुनूं के दौरे पर आए थे.

EXCLUSIVE : पाकिस्‍तान से भारत-अफगानिस्‍तान दोनों परेशान:वाहिदुल्लाह शाहरानी
दोनों देश के मजबूत रिश्ते ही आतंकवाद से मुकाबला करेंगे : वाहिदुल्लाह शाहरानी (फाइल फोटो)

संदीप व्‍यास, झुंझुनूं : अफगानिस्तान के नेता और अफगानिस्तान के पूर्व खान, पेट्रोलियम, वाणिज्य व उद्योग मंत्री वाहिदुल्लाह शाहरानी झुंझुनूं के दौरे पर आए थे. वह यहां पर अपने मित्र प्रीतम सिंह से मुलाकात करने के लिए आए थे. देर रात झुंझुनूं पहुंचने पर उनका गर्मजोशी के साथ स्वागत किया गया. समाजसेवी हरपाल सिंह और राकेश कुमार के नेतृत्व में किए गए स्वागत से वाहिदुल्लाह शाहरानी काफी खुश नजर आए. इस मौके पर उन्होंने 'जी मीडिया' से खास बातचीत करते हुए कहा कि भारत और अफगानिस्तान दोनों ही पाकिस्तान द्वारा प्रायोजित आतंकवाद से पीडि़त हैं. दोनों देश के मजबूत रिश्ते ही इससे मुकाबला करेंगे. इस मौके पर उन्होंने कहा कि अफगानिस्तान के लोगों ने कई बार कई सर्वे में खुलकर बताया है कि अफगानिस्तान के बाद यदि उनका कोई पसंदीदा देश है तो वह है भारत.

यह भी पढ़ें : खत्म नहीं होंगी इमरान खान की मुश्किलें, कड़ी टक्कर देने के लिए 'दो दुश्मन' मिला सकते हैं हाथ

उन्होंने कहा कि भारत ने हर तरह से अफगानिस्तान की हर वक्त मदद की है. इसके लिए अफगानी लोग भारत को पसंद करते हैं. उन्होंने इस मौके पर ईरान से भारत लाई जाने वाली एनर्जी पाइप लाइन को लेकर भी कहा कि जब वे पेट्रोलियम मंत्री थे, उस वक्त से यह प्रोजेक्ट चल रहा है. उन्हें इस बात की खुशी है कि जब यह प्रोजेक्ट पूरा होगा तो भारत के साथ अफगानिस्तान के व्यापारिक संबंध भी मजबूत होंगे. क्योंकि करीब 800 किलोमीटर की पाइप लाइन अफगानिस्तान से होकर गुजरेगी, जिसके लिए अफगानिस्तान तैयार है.

यह भी पढ़ें : PAK: तालिबान ने परिवार के 16 लोगों को मार डाला, फिर भी चुनाव जीतने वाला एकमात्र लेफ्ट लीडर बना

उन्होंने इस मौके पर पाकिस्तान में बनने जा रही नई सरकार पर भी कहा कि पहले वे देख रहे हैं कि आखिर कब तक सरकार बनती है और उनकी क्या पॉलिसी रहती है. क्योंकि अब तक तो पाकिस्तान की पॉलिसी आतंकवादी संगठनों को सहयोग देकर भारत और पाकिस्तान में आतंकवादी गतिविधियां करवाना ही रहा है. वाहिदुल्लाह शाहरानी ने एक सवाल के जवाब में यह भी कहा कि अमेरिका द्वारा अफगानिस्तान से सेना हटाने को लेकर अभी कोई निर्णय नहीं हुआ है. दो हफ्ते पहले ही काबुल में जब अमेरिका के अधिकारियों के साथ बैठक हुई थी. उसमें वे मौजूद थे. अमेरिका अफगानिस्तान को पूरा सहयोग देगा.