Breaking News

कजाकिस्तान में फंसे भारतीयों की वतन वापसी, इस तारीख तक रोज जाएगी एक फ्लाइट

केंद्र सरकार कजाकिस्तान में फंसे भारतीय नागरिकों की वतन वापसी करा रही है. 

कजाकिस्तान में फंसे भारतीयों की वतन वापसी, इस तारीख तक रोज जाएगी एक फ्लाइट

नई दिल्ली: केंद्र सरकार कजाकिस्तान में फंसे भारतीय नागरिकों की वतन वापसी करा रही है. भारतीयों की वापसी के लिए पहला विमान मंगलवार को उड़ान भरेगा. भारत वापसी के लिए करीब 3400 लोगों से रजिस्ट्रेशन कराया है. माना जा रहा है कि पहले चरण में 1 हजार भारतीयों की घर वापसी हो सकती है.

कजाकिस्तान में भारत के राजदूत प्रभात कुमार ने WION से बातचीत में कहा, 'हमने कजाकिस्तान से भारतीयों की वापसी करा रहे हैं. करगांडा से आज पहली उड़ान है. इसके बाद करगंदा, अल्माटी, नूर सुल्तान से 7 उड़ानें हैं. 26 मई से 1 जून तक, हर दिन एक फ्लाइट एक हजार लोगों को भारत वापस लाएगी. लगभग 3400 लोगों की वापसी के रजिस्ट्रेशन हुए हैं, बाकी लोगों को दूसरे फेज में लाया जाएगा.'

ये भी पढ़ें: क्या जल्द मिलने वाली है कोरोना की वैक्सीन? अमेरिकी कंपनी ने किया ये ऐलान

उन्होंने आगे कहा कि कुल मिलाकर कारागांडा से 3 फ्लाइट, नूर सुल्तान से 2 फ्लाइट, अल्माटी से 2 उड़ानें अगले एक सप्ताह में आने वाली हैं. प्रभात कुमार ने विदेश मंत्रालय, कजाकिस्तान के विदेश मंत्रालय, कारागांडा, अल्माटी, नूर सुल्तान एयरपोर्ट के अधिकारियों को भारतीयों की वापसी में मदद करने के लिए धन्यवाद दिया. इसके अलावा उन्होंने एयर इंडिया, भारतीय गृह और स्वास्थ्य और नागरिक उड्डयन  की खास तौर पर सराहना की है.

कजाकिस्तान से लौट रहे यात्रियों में ज्यादा छात्र हैं. जिन्होंने वतन वापसी के लिए सरकार से निवेदन किया था. आपको बता दें कि राजधानी नूर सुल्तान में मेगा अबू धाबी प्लाजा के निर्माण के लिए कई भारतीय मजदूर भी काम कर रहे हैं. प्लाजा में ऑफिस, आवासीय स्थान शामिल हैं, खास बात यह है कि यह प्लाजा बनने के बाद पूरे मध्य एशिया की सबसे ऊंची इमारत होगी.