अब बांग्लादेश की सीमा से घुसपैठियों की प्लानिंग होगी फेल, मोदी सरकार ने उठाया ये बड़ा कदम

देश की सीमाओं पर अब एडवांस फेंसिंग का पहरा होगा क्योंकि भारत सरकार सीमा सुरक्षा दुरुस्त करने जा रही है.

अब बांग्लादेश की सीमा से घुसपैठियों की प्लानिंग होगी फेल, मोदी सरकार ने उठाया ये बड़ा कदम
भारत-बांग्लादेश बॉर्डर पर नई फेंसिंग की जा रही है जिसे काटना बेहद मुश्किल है... (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: देश की सीमाओं पर अब एडवांस फेंसिंग का पहरा होगा क्योंकि भारत सरकार सीमा सुरक्षा दुरुस्त करने जा रही है. भारत-बांग्लादेश बॉर्डर पर नई फेंसिंग की जा रही है जिसे काटना बेहद मुश्किल है. यानी अब बांग्लादेश की सीमा से देश में कोई घुसपैठी नहीं आ पाएगा. 

पायलट प्रोजेक्ट के तहत सिलचर सेक्टर के लाठी टीला के पास बांग्लादेश बॉर्डर पर  पर 7 किलोमीटर लंबी फेंसिंग लगाई जा चुकी है जिसकी कीमत करीब 14 करोड़ 30 लाख रुपये है. यानी एक किलोमीटर एंटीकट फेंसिंग की औसत कीमत होगी करीब 1 करोड़ 99 लाख रुपये. भारत बांग्लादेश की सीमा पर नई फेंसिंग लगाने का काम जारी है. देश की हर सीमा पर अब यही फेंसिंग की लगाई जाएगी. सूत्रों के मुताबिक बांग्लादेश बॉर्डर के बाद भारत-पाकिस्तान की सीमा पर भी एंटीकट फेंसिंग होगी. 

देश की सीमाओं पर अब एडवांस फेंसिंग का पहरा होगा क्योंकि भारत सरकार सीमा सुरक्षा दुरूस्त करने जा रही है. भारत बांग्लादेस बॉर्डर पर नई फेंसिंग की जा रही है जिसे काटना बेहद मुश्किल है. यानी अब बांग्लादेश की सीमा से देश में कोई घुसपैठी नहीं आपाएगा.

ये भी देखें:

एक किलोमीटर एंटीकट फेंसिंग की औसत कीमत करीब 1.99 करोड़ है. भारत बांग्लादेश की सीमा पर नई फेंसिंग लगाने का काम जारी है. सूत्रों के मुताबिक ये एंटीकट फेंसिंग बांग्लादेश बॉर्डर के बाद भारत-पाकिस्तान की सीमा पर भी लगाई जाएगी.

घुसपैठियों पर नंबर गेम 
देश में करीब 2 करोड़ गैरकानूनी बांग्लादेशी रह रहे हैं. 17 से ज्यादा राज्यों में अवैध घुसपैठियों का क़ब्जा. पश्चिम बंगाल में 57 लाख से ज्यादा बांग्लादेशी घुसपैठिए हैं. असम में 40 लाख से ज्यादा घुसपैठिए हैं.