समुंदर में चीन की 'चाल' को रोकने की तैयारी, Navy ने उठाया बड़ा कदम

 चीन संग पूर्वी लद्दाख में चल रही तनातनी के बीच भारतीय सेना और जापानी नौसेना ने हिंद महासागर में संयुक्त युद्धाभ्यास किया.

समुंदर में चीन की 'चाल' को रोकने की तैयारी, Navy ने उठाया बड़ा कदम
भारत और जापानी सेनाओं ने साथ में किया युद्धाभ्यास.

नई दिल्ली: हिंद महासागर में चीन की 'चाल' पर रखने के लिए भारतीय नौसेना ने पोतों की संख्‍या बढ़ाई है. इनके माध्‍यम से नेवी सर्विलांस मिशन को बढ़ा रही है. अब चप्‍पे-चप्‍पे पर चीन पर नजर रखी जाएगी. इसके अलावा चीन संग पूर्वी लद्दाख में चल रही तनातनी के बीच भारतीय सेना और जापानी नौसेना ने हिंद महासागर में संयुक्त युद्धाभ्यास किया. जापानी नौसेना ने बताया कि जापान मैरिटाइम सेल्फ डिफेंस फोर्स के JS KASHIMA और JS SHIMAYUKI ने भारतीय नौसेना के आईएनएस राणा (INS RANA) और आईएनएस कुलीश (INS KULISH) के साथ युद्धाभ्यास किया गया. 

भारत और जापान के बीच किये गए इस समय युद्धाभ्यास को लद्दाख में भारत और चीन के बीच तनाव से जोड़कर देखा जा रहा है.वहीं, हिंद महासागर में बीते कुछ समय से चीनी नौसेना के जहाज और पनडुब्बियां लगातार दिखती रहती हैं.

जापान के रक्षा मंत्री तारो कोनो ने एक बयान में न केवल चीन की रक्षा क्षमताओं पर बल्कि भारत-प्रशांत क्षेत्र में चीन की मंशा पर चिंता जाहिर की थी. पिछले कुछ महीनों में एशिया के कुछ हिस्सों में चीन की आक्रामकता पर पहली बार जापान ने प्रतिक्रिया दी. आपको बता दें कि जापानी रक्षामंत्री के बयान के बाद दोनों देशों ने युद्धाभ्यास किया. जिसमें दोनों ही देशों से 2-2 युद्धपोतों ने हिस्सा लिया.

ये भी पढ़ें: कोरोना वायरस की दवा का किया दावा! आयुष मंत्रालय ने BHU को दी ट्रायल की मंजूरी

जानिए क्यों खास है ये युद्धाभ्यास

भारत-चीन के बीच पिछले कुछ समय से सीमा पर तनाव जारी है. वहीं पूर्वी चीन सागर के अहम आइलैंड पर चीन लंबे समय से नजरें बनाए हुए हैं. इस पर जापान ने कब्जा करने की ठान ली है. चीन और जापान दोनों ही द्वीपों पर अपना-अपना दावा ठोकते आए हैं. जिन्हें जापान में सेनकाकु और चीन में डियाओस के नाम से जाना जाता है.

ये भी देखें-