PoK में चुनाव पर भारत की दो टूक, कहा- अवैध कब्जे की सच्चाई को छिपाने की कोशिश कर रहा PAK

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने पाकिस्तान को लताड़ लगाई है. उन्होंने कहा कि पाकिस्तान को अवैध कब्जे वाले सभी इलाकों को खाली कर देना चाहिए.  

PoK में चुनाव पर भारत की दो टूक, कहा- अवैध कब्जे की सच्चाई को छिपाने की कोशिश कर रहा PAK
भारतीय विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची.

नई दिल्ली: पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (PoK) में विधान सभा चुनाव कराने को लेकर भारत ने पाकिस्तान की आलोचना की है. भारत ने गुरुवार को कहा कि यह कुछ और नहीं, बल्कि पाक द्वारा अवैध कब्जे की सच्चाई को छिपाने की कोशिश है. साथ ही, भारत ने इस मुद्दे को लेकर उसके समक्ष कड़ा विरोध दर्ज कराया है.

PoK में चुनाव पर भारत ने जताया ऐतराज

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची (Arindam Bagchi) ने कहा कि पाकिस्तान का इस भारतीय भू-भाग (Indian Territory) पर कोई अधिकार नहीं बनता है. उसे अपने अवैध कब्जे वाले सभी इलाकों को खाली कर देना चाहिए.

ये भी पढ़ें- बकरी के साथ 5 लोगों ने किया गैंगरेप, इमरान खान हुए ट्रोल

अवैध कब्जे की सच्चाई छिपा रहा पाक

उन्होंने ऑनलाइन मीडिया ब्रीफिंग में कहा, ‘पाकिस्तान के अवैध कब्जे वाले भारतीय भू-भाग में यह तथाकथित चुनाव कुछ और नहीं, बल्कि पाकिस्तान द्वारा अपने अवैध कब्जे की सच्चाई और इन क्षेत्रों में उसके द्वारा किए गए बदलावों को छिपाने की कोशिश है.’ पीओके (PoK) में पाकिस्तान के विधान सभा चुनाव कराए जाने के कुछ दिनों बाद उन्होंने यह कड़ी टिप्पणी की है.

स्थानीय लोगों ने भी किया विरोध

चुनावों के बारे में पूछे जाने पर बागची ने कहा कि भारत ने इस बनावटी कवायद पर पाकिस्तानी अधिकारियों के समक्ष कड़ा विरोध दर्ज कराया है. उन्होंने कहा कि पाकिस्तान की इस कवायद का स्थानीय लोगों ने भी विरोध किया है और उसे खारिज कर दिया है.

बागची ने कहा, ‘इस तरह का कार्य न तो पाकिस्तान द्वारा किए गए अवैध कब्जे के सच को छिप सकता है और न ही इन अवैध कब्जे वाले क्षेत्रों में उसके द्वारा किए गए मानवाधिकारों के गंभीर हनन, शोषण और लोगों को स्वतंत्रता से वंचित करने के कृत्य पर पर्दा डाल सकता है.’

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.