भारत के 'दिव्यास्त्र' अग्नि-2 के खौफ से दहशत में इमरान-बाजवा, चीन भी सहमा

'अग्नि 2' के खौफ़ से इमरान खान और पाकिस्तान के सेना प्रमुख बाजवा दहशत में हैं  क्योंकि अग्नि 2 की शक्ति से 'आधी रात' को पाकिस्तान जलकर खाक़ हो जाएगा और अग्नि 2 से चीन-पाकिस्तान में आधी रात को 'अग्निवर्षा' होगी. 

भारत के 'दिव्यास्त्र' अग्नि-2 के खौफ से दहशत में इमरान-बाजवा, चीन भी सहमा
अग्नि-2 मिसाइल अंधेरे में चुपके से ऐसा वार कर जाएगी कि पाकिस्तान रातों-रात तबाह हो जाएगा

नई दिल्ली: भारत ने शनिवार को मध्यम दूरी के बैलेस्टिक मिसाइल अग्नि-2 का सफल परीक्षण किया है. अग्नि 2 का परीक्षण खास इसलिए है क्योंकि ये रात में किया गया. यानी अग्नि 2 अब देश के दुश्मनों पर रात में भी वार कर सकेगा. अग्नि 2 की सफलता चीन-पाकिस्तान के लिए चिंता का विषय है क्योंकि अग्नि-2 की रेंज में चीन और पाकिस्तान दोनों हैं. 'अग्नि 2' के खौफ़ से इमरान खान और पाकिस्तान के सेना प्रमुख बाजवा दहशत में हैं  क्योंकि अग्नि 2 की शक्ति से 'आधी रात' को पाकिस्तान जलकर खाक़ हो जाएगा और अग्नि 2 से चीन-पाकिस्तान में आधी रात को 'अग्निवर्षा' होगी. 

अग्नि मिसाइल, अग्नि की भारत में एक सीरीज है. भारत उन्हें अपडेट करते हुए अक्सर परीक्षण करता रहा है लेकिन शनिवार की रात अग्नि-2 मिसाइल के परीक्षण ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान और सेना प्रमुख कमर जावेद बाजवा की आंखों से नींद उड़ा दी है. इतिहास में ऐसा पहली-पहली बार हुआ है कि भारत ने किसी भी मिसाइल का रात में परीक्षण किया हो और वो कामयाब भी रहा हो. रात के अंधेरे में न्यूक्लियर हथियारों को ले जाने में सक्षम मिसाइल अग्नि 2 के सफल परीक्षण ने पाकिस्तान में इस कदर खलबली मचाई है कि उसे आधी रात को हुई सर्जिकल स्ट्राइक और बालाकोट एयर स्ट्राइक तक की याद आ गई. 

सर्जिकल और एयर स्ट्राइक के लिए भारत को सरहद पार जाना पड़ा था लेकिन आधी रात की अग्नि-2 मिसाइल अंधेरे में चुपके से ऐसा वार कर जाएगी कि पाकिस्तान रातों-रात तबाह हो जाएगा और वो सलामती वाली सुबह भी नहीं देख पाएगा. 16 नवंबर की रात ओडिशा के बालासोर में एपीजे अब्दुल कलाम द्वीप पर सेना ने जमीन से जमीन तक मार करने वाली बैलिस्टिक मिसाइल अग्नि-2 का ट्रायल किया. 

आधी रात की 'अग्नि' से पाकिस्तान खाक
अग्नि-2 मिसाइल की मारक क्षमता 2 हजार किलोमीटर तक है यानी कि दुश्मन देशों का बड़ा हिस्सा इसकी जद में है. पेंसिल की आकृति वाली इस अग्नि-2 मिसाइल की लंबाई 20 मीटर है. इस बैलिस्टिक मिसाइल का वजन 17 टन यानी 1 हजार 700 किलो है. सबसे बड़ी खासियत ये कि अग्नि-2 मिसाइल अपने साथ 1000 किलोग्राम का न्यूक्लियर पेलोड ले जा सकती है. भले ही अग्नि-2 की मारक क्षमता 2 हजार किलोमीटर है लेकिन इसे बढ़ाकर 3 हजार किलोमीटर तक भी किया जा सकता है. इसका नेविगेशन सिस्टम इतना अत्याधुनिक है कि ये निशाने पर सटीक वार करता है. साथ ही इसकी रफ्तार इतनी ज्यादा है कि दुश्मन को भनक भी नहीं लगेगी और ये अपना काम कर जाएगा. अग्नि-2 जैसी मिसाइल को मार गिराना नामुमिकन माना जाता है. इस मिसाइल की इन्हीं खूबियां और खासियतों की वजह से चीन - पाकिस्तान खौफ में हैं. 

देखें वीडियो: 

अग्नि-2 मिसाइल से इसलिए डर रहा पाकिस्तान 
अग्नि-2 मिसाइल से पाकिस्तान इसलिए डर रहा है क्योंकि इसकी मारक क्षमता के दायरे में उसका तकरीबन हर कोना, हर चप्पा आता है. इसका मतलब ये है कि भारत से अग्नि-2 मिसाइल छूटेगी और पाकिस्तान की राजधानी से लेकर वहां के तमाम बड़े नगर-शहर तबाह हो जाएंगे. 

1. कोलकाता से इस्लामाबाद की दूरी 1 हजार 939 किलोमीटर है यानी कोलकाता से अग्नि-2 मिसाइल छोड़ी जाएगी तो इस्लामाबाद बर्बाद हो जाएगा. 
2. चेन्नई से कराची के बीच की दूरी 1910 किलोमीटर है यानी अगर चेन्नई से अग्नि-2 मिसाइल छोड़ी गई तो कराची कराह उठेगा. 
3. मुंबई और लाहौर 1391 किलोमीटर दूर है यानी मुंबई में अग्नि-2 मिसाइल का मुंह खोला गया तो ये लाहौर को लील जाएगा. 
4. राजधानी दिल्ली से रावलपिंडी के बीच की दूरी 665 किलो मीटर है यानी दिल्ली से अग्नि-2 मिसाइल को दिशा दिखाई गई तो रावलपिंडी खून के आंसू रो पड़ेगा. अग्नि-2 मिसाइल की मारक क्षमता इतनी है कि पाकिस्तान ही नहीं चीन का बड़ा हिस्सा भी इसकी जद में आ जाएगा. 

पिछले एक दशक में अग्नि-2 मिसाइल ने उपलब्धियों की बड़ी ऊंचाई तय की है. 2009 में दो-दो बार अग्नि-2 मिसाइल का परीक्षण नाकाम रहा लेकिन DRDO के वैज्ञानिकों ने हार नहीं मानी और अगले ही साल अग्नि-2 बैलिस्टिक मिसाइल का परीक्षण सफल रहा. अग्नि-2 को सेना के बेड़े में शामिल भी किया जा चुका है और पिछले साल एक बार फिर इसका सफलतापूर्ण परीक्षण किया गया था. और इस साल अग्नि-2 का रात के अंधेरे में ट्रायल कर DRDO ने उपलब्धि की नई उड़ान भरी है. अग्नि सीरीज की मिसाइल से पाकिस्तान पहले ही खौफ खाता रहा है लेकिन शनिवार की रात जैसे ही अग्नि-2 का सफल ट्रायल किया गया, पाकिस्तान खौफ में आ गया. पाकिस्तान डर रहा है कि जब अंधेरे में सरहद पार कर जवान पाक अधिकृत कश्मीर में आकर सर्जिकल स्ट्राइक कर सकते हैं.