close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

चक्रवात से तबाही की कगार पर यह दक्षिण अफ्रीकी देश, मदद के लिए बढ़े भारतीय नौसेना के 3 जंगी जहाज

मोजाम्बिक में 'इडाई' चक्रवात का शिकार हुए लोगों को मानवीय मदद पहुंचाने के उद्देश्‍य से नौसेना ने अपने 3 जंगी जहाजों को पोर्ट सिटी बीरा में तैनात करने का फैसला किया है.

चक्रवात से तबाही की कगार पर यह दक्षिण अफ्रीकी देश, मदद के लिए बढ़े भारतीय नौसेना के 3 जंगी जहाज
मोजाम्बिक में चक्रवात का शिकार हुए लोगों की मदद के लिए रवाना हुए भारतीय सेना की नेवल शिप. (फाइल फोटो)

नई दिल्‍ली: मोजाम्बिक में आए 'इडाई' चक्रवात में हताहत हुए लोगों की मानवीय मदद के लिए भारतीय नौसेना ने अपने तीन जंगी जहाजों को भेजने का फैसला किया है. फैसले के तहत भारतीय नौसेना ने अपने आईएनएस सुजाता, आईएनएस शार्दुल और आईएनएस शारथी को मोजाम्बिक की तरफ रवाना कर दिया है. ये तीनों जंगी जहाज मोजाम्बिक के पोर्ट सिटी बीरा में तैनात होंगे. भारतीय नौसेना ने अपने इन जहाजों में तीन डॉक्‍टर और पांच नर्स सहित भारी तादाद में दवाइयां भी मोजाम्बिक भेजी हैं. जिससे त्रासदी में हताहद हुए लोगों को तत्‍काल चिकित्‍सीय मदद पहुंचाई जा सके. 

यह भी देखें: 'इडाई' चक्रवात से मोजाम्बिक, मलावी, जिम्बाब्वे में करीब 150 लोगों की मौत

भारतीय नौसेना के वरिष्‍ठ अधिकारी ने बताया कि रिपब्लिक ऑफ मोजाम्बिक  के अनुरोध को स्‍वीकार करते हुए तीन नेवल शिप्‍स को भेजने का फैसला किया गया है. उल्‍लेखनीय है कि मोजाम्बिक में आए चौथी कैटेगरी के ट्रॉपिकल साइक्‍लोन 'इडाई' ने मध्‍य और उत्‍तरी भाग में भारी तबाही मचाई है. सूत्रों की मानें तो अब तक इस तबाही के चलते 1000 से अधिक लोगों की मृत्‍यु और करीब इतने ही लोगों के लापता होने की आशंका है. वहीं, मोजाम्बिक में आए इस चक्रवात ने करीब एक लाख से अधिक लोगों के जनजीवन को प्रभावित हुआ किया है. हजारों की संख्‍या में ऐसे लोग हैं जो मदद की आस में अपनी छतों में रेस्‍क्‍यू ऑपरेशन में लगी टीमों का इंतजार कर रही हैं. 

Indian Naval

यह भी पढ़ें: मोजाम्बिक में चक्रवात ने बरपाया कहर, 19 लोगों की हुई मौत

भारतीय नौसेना के वरिष्‍ठ अधिकारी ने बताया कि दक्षिण अफ्रीका के मोजाम्बिक में हुई इस भारी तबाही को देखते हुए नौसेना ने मानवीय मदद के लिए अपना कदम बढ़ाया है. भारतीय नौसेना ने अपनी जंगी जहाजों की मदद से भोजन, कपड़े, दवाई सहित अन्‍य राहत सामग्री को मोजाम्बिक के लिए रवाना किया है. राहत सामग्री के साथ स्‍थानीय लोगों को त्‍वरित मेडिकल हेल्‍प देने के लिए नौसेना ने 3 डाक्‍टर और 5 नर्स की टीम को भी मोजाम्बिक के लिए रवाना किया है. उल्‍लेखनीय है कि यह पहला अवसर नहीं है जब भारत मोजाम्बिक वासियों की मदद के लिए आगे आया है. इससे पहले 2017 में अनाज के संकट से जूझ रहे मोजाम्बिक  वासियों को भारत ने 10 मिलियन डॉलर की सहायता प्रदान की थी.

यह भी देखें: 'इडाई' चक्रवात से मोजाम्बिक, मलावी, जिम्बाब्वे में करीब 150 लोगों की मौत

एक लाख से अधिक लोगों की खतरे में है जिंदगी
मोजाम्बिक के राष्‍ट्रपति न्‍यूसी ने कहा है कि इडाई चक्रवात के चलते देश के करीब एक लाख से अधिक लोगों की जिंदगी खतरे में है. भले ही अभी तक 84 लोगों की मृत्‍यु की आधिकारिक पुष्टि की गई हो, लेकिन हवाई सर्वे के बाद इस त्रासदी से 1000 से अधिक लोगों की मृत्‍यु की संभावना है. उन्‍होंने देश के नाम दिए संबोधन में कहा है कि हवाई सर्वे के दौरान भारी तादाद में लोगों को अपने घर की छतों और पेड़ के किनारे देखा गया है. उल्‍लेखनीय है कि गुरवार का आए इस चक्रवात का शिकार मोजाम्बिक का बेइरा शहर बना. बेइरा में तबाही मचाने के बाद यह चक्रवात जिम्‍बाब्‍वे में प्रवेश कर गया.