अमेरिका में थम नहीं रहे भारतीयों पर हमले; अब सिख व्यक्ति को गोली मारी, 'घृणा अपराध' के रूप में जांच शुरू

डोनाल्ड ट्रंप के राष्ट्रपति बनने के बाद अमेरिका में भारतीयों पर हमले थम नहीं रहे हैं। दिनोंदिन भारतीय नागरिकों के खिलाफ हिंसा की घटनाएं बढ़ती जा रही हैं। एक अज्ञात व्यक्ति ने शुक्रवार को 39 वर्षीय एक सिख को उसी के घर के बाहर गोली मारकर घायल कर दिया। हमलावर गोली चलाते समय चिल्लाते हुए कथित तौर पर कह रहा था- 'अपने देश वापस जाओ।' 

अमेरिका में थम नहीं रहे भारतीयों पर हमले; अब सिख व्यक्ति को गोली मारी, 'घृणा अपराध' के रूप में जांच शुरू
प्रतीकात्मक तस्वीर

न्यूयॉर्क : डोनाल्ड ट्रंप के राष्ट्रपति बनने के बाद अमेरिका में भारतीयों पर हमले थम नहीं रहे हैं। दिनोंदिन भारतीय नागरिकों के खिलाफ हिंसा की घटनाएं बढ़ती जा रही हैं। एक अज्ञात व्यक्ति ने शुक्रवार को 39 वर्षीय एक सिख को उसी के घर के बाहर गोली मारकर घायल कर दिया। हमलावर गोली चलाते समय चिल्लाते हुए कथित तौर पर कह रहा था- 'अपने देश वापस जाओ।' 

कंसास में श्रीनिवास कुचिभोटला की हत्या और साउथ कैरोलिना में भारतीय मूल के व्यवसायी की हत्या के बाद हाल के दिनों में हिंसा की यह तीसरी घटना है। अमेरिका में इन हिंसक घटनाओं को लेकर भारतीय समुदाय भय के माहौल में है। ये हमले अमेरिका में भारतीय समुदाय की सुरक्षा के लिए चिंता का विषय बनते जा रहे हैं।

वहीं, वाशिंगटन प्रशासन ने सिख व्यक्ति पर किए गए हमले की जांच संभावित घृणा अपराध के रूप में शुरू कर दी है।   

अमेरिकी नागरिक दीप राय केंट शहर में अपने मकान के बाहर अपनी गाड़ी में कुछ काम कर रहे थे। तभी एक अज्ञात व्यक्ति आया और चिल्लाया ‘अपने देश वापस जाओ’और फिर बहस के बाद उसने राय की बांह में गोली मार दी।

केआईआरओ 7 न्यूज में आयी खबर के अनुसार, केंट पुलिस विभाग राय पर हुए हमले को संभावित घृणा अपराध मानते हुए उसकी जांच कर रही है।

राय पगड़ी पहने हुए थे। राय के अनुसार, हमलावर छह फुट लंबा श्वेत व्यक्ति था, उसने नकाब से चेहरे का निचला हिस्सा छुपाया हुआ था। केंट पुलिस हमलावर की तलाश में जुटी है।

अमेरिकी सांसद प्रमिला जयपाल ने उठायी आवाज 

भारतीय मूल की अमेरिकी सांसद प्रमिला जयपाल ने सिख व्यक्ति को गोली मारने की घटना की जांच नस्ली नफरत के रूप में कराने का ट्रंप प्रशासन से आग्रह किया है। 

अमेरिकी प्रतिनिधिसभा में चुनी जाने वाली भारतीय मूल की पहली महिला सांसद प्रमिला ने कहा, ‘मैं ट्रंप प्रशासन से आग्रह करती हूं कि इस गोलीबारी की जांच ना सिर्फ नस्ली नफरत के रूप में कराई जाए बल्कि नस्ली नफरत पर आधारित हमारे समुदाय के खिलाफ हिंसा से निबटने के लिए साहसिक कदम उठाए।’उन्होंने कहा कि यह गोलीबारी नस्ली नफरत की अनेक घटनाओं में से एक है जो समुदाय को परेशान कर रही है।

उन्होंने कहा कि गैर श्वेत लोग नस्ली नफरत से प्रेरित हिंसा के भय में जी रहे हैं। 11 सितंबर 2001 के बाद जो हमले हुए थे, ये हमले उनकी याद दिलाते हैं।

सिख अमेरिकी दीप राय के पिता से सुषमा ने की बात

39 वर्षीय राय पर हमले पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए सुषमा ने कहा, ‘दीप राय पर हमले के बारे में जान कर बहुत दुख हुआ। मैने पीड़ित के पिता सरदार हरपाल सिंह से बात की है।’ सुषमा ने ट्वीट किया, ‘उन्होंने बताया कि उनके बेटे के हाथ में गोली लगने का घाव है। अब वह खतरे से बाहर है और निजी अस्पताल में स्वास्थ लाभ कर रहा है।’अमेरिकी दूतावास की प्रमुख मैरीके एल कार्ल्सन ने कहा कि वह वाशिंगट्रन में गोलीबारी से दुखी हैं।

भारतीय मूल के व्यवसायी की गोली मारकर हत्या

भारतीय मूल के व्यवसायी की हर्निश पटेल की गुरुवार रात करीब 11.24 बजे अमेरिका के साउथ कैरोलिना में गोली मारकर हत्या कर दी गई। व्यवसायी हर्निश पटेल को उनके घर के बाहर ही हत्या कर दी गई। हर्निश अपनी दुकान बंद की और बमुश्किल 10 मिनट बाद उनके घर के बाहर लांसेस्टर में उनकी हत्या कर दी गई थी।  पटेल के एक ग्राहक निकोल जोन्स ने कहा, ‘उसके साथ ऐसा कौन करेगा, वह सभी के साथ बहुत अच्छा था।’ जोन्स और अन्य दोस्तों ने कहा कि पटेल अपने व्यापार के लाभ-हानि को लेकर चिंतित नहीं रहता था। जोन्स ने कहा, ‘अगर किसी के पास पैसे नहीं होते थे तो भी वह लोगों को खाने-पीने का सामान दे देता था।’ 

भारतीय मूल के इंजीनियर की गोली मारकर हत्या

हर्निश पटेल की हत्या से पहले कंसास शहर में एक अमेरिकी व्यक्ति ने भारतीय मूल के इंजीनियर श्रीनिवास कुचीभोटला की गोली मारकर हत्या कर दी थी और दो अन्य को घायल कर दिया था। गोलियां चलाते समय आरोपी कथित तौर पर चिल्लाते हुए कह रहा था- 'मेरे देश से निकल जाओ'।

और पढ़ें : नस्ली हिंसा पर कंसास गवर्नर ने कहा-एक शख्स की ‘घृणापूर्ण’कार्रवाइयां हमें परिभाषित नहीं करतीं

और पढ़ें : भारतीय नागरिकों पर हमले : भारत ने अमेरिका के सामने चिंता प्रकट की