close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

पाक की जेल में अभी भी कैद हैं 1965 और 1971 के युद्ध में लापता हुए भारतीय सैनिक!

विदेश मंत्रालय के अनुसार, ऐसा माना जाता है कि 83 भारतीय रक्षाकर्मी, जिसमें युद्धबंदी भी शामिल हैं, पाकिस्‍तान के कब्‍जे में हैं. 

पाक की जेल में अभी भी कैद हैं 1965 और 1971 के युद्ध में लापता हुए भारतीय सैनिक!
पाकिस्‍तान की जेलों में कैद 362 भारतीय नागरिकों को छुडा कर भारत लाया गया है. (फाइल फोटो)

नई दिल्‍ली: पाकिस्‍तान के साथ 1965 और 1971 में हुए युद्ध के दौरान लापता हुए भारतीय सैनिकों अभी भी पाक की जेल में बंद हैं. इस बात की आशंका अभी भी बनी हुई है. विदेश मंत्रालय के अनुसार, ऐसा माना जाता है कि 83 भारतीय रक्षाकर्मी, जिसमें युद्धबंदी भी शामिल हैं, पाकिस्‍तान के कब्‍जे में हैं. 

सरकार ने इन गुमशुदा भारतीय रक्षाकर्मियों की रिहाई तथा देश वापसी का मुद्दा राजनयिक माध्‍यमों से पाकिस्‍तान के साथ उठाया है. हालांकि यह बात दीगर है कि पाकिस्‍तान ने अब तक अपने कब्‍जे में किसी भी युद्धबंदी या गुमशुदा भारतीय रक्षाकर्मी के होने की बात स्‍वीकार नहीं की है. 

उल्‍लेखनीय है कि लोकसभा में सांसद गोपाल चिनैय्या शेट्टी ने लिखित सवाल में पूछा था कि क्‍या 1965 और 1971 के भारत-पाक युद्ध के दौरान युद्ध बंदी बनाए गए थे? यदि हां, तो कुल कितने ऐसे भारतीय बंदी अभी भी पाक की जेलों में कैद हैं.  युद्धबंदियों को मुक्‍त कराने के लिए की गई कोशिशों का ब्‍यौरा क्‍या है? 

सांसद गोपाल चिनैय्या शेट्टी के सवाल का लिखित जवाब में विदेश राज्‍य मंत्री वी. मुरलीधरन ने बताया कि अभी तक उपलब्‍ध जानकारी के अनुसार, 64 भारतीय या भारतीय समझे जाने वाले कैदी और 209 भारतीय या भारतीय समझे जाने वाले मछुआरे पाकिस्‍तान की हिरासत में हैं. 

उन्‍होंने बताया कि 1 जुलाई 2019 को पाकिस्‍तान ने यह स्‍वीकार किया है कि 52 नागरिक कैदी तथा 209 मछुआरे उसकी हिरासत में हैं. उन्‍होंने बताया कि सरकार सभी भारतीय कैदियों तथा मुछवारों को उनकी नौकाओं सहित शीघ्र रिहाई तथा वतन वापसी का मुद्दा पाकिस्‍तान सरकार के साथ उठाती रही है. 

उन्‍होंने बताया कि लगातार प्रयासों के परिणामस्‍वरूप सरकार ने वर्ष 2014 से अब तक पाकिस्‍तान की हिरासत से 2110 भारतीय कैदियों, जिसमें मछुआरे भी शामिल हैं, को छुड़ाकर देश वापस लाने में कामयाबी हासिल की है. इनमें इस वर्ष अब तक छुड़ाए गए तथा देश वापस लाए गए मछुआरों समेत 362 भारतीय कैदी शामिल हैं.