महू: इन्फैंट्री कमांडर्स कॉन्फ्रेंस शुरू, देश के सामने मौजूद सुरक्षा की चुनौतियों पर होगी चर्चा

बदलते हुए समय में युद्ध और ऑपरेशन के तरीक़े में तेज़ी से बदलाव हो रहा है, ऐसे में इन्फैंट्री को भी लगातार बदलाव के लिए तैयार रखना होता है.

महू: इन्फैंट्री कमांडर्स कॉन्फ्रेंस शुरू, देश के सामने मौजूद सुरक्षा की चुनौतियों पर होगी चर्चा
कॉन्फ्रेंस में इन्फैंट्री की ट्रेनिंग और ऑपरेशनों से जुड़े हुए हर मसले पर विचार-विमर्श किया जाएगा.

इंदौर: इंदौर के पास महू के इन्फैंट्री स्कूल में 26 नवंबर से तीन दिन तक चलने वाली इन्फैंट्री कमांडर्स कॉन्फ्रेंस शुरू है. इस कॉन्फ्रेंस में देश के सामने मौजूद सुरक्षा की चुनौतियों से निपटने की रणनीति पर विस्तार से चर्चा की जाएगी. सेनाध्यक्ष जनरल बिपिन रावत, जो खुद एक इंफेंट्री अफसर हैं, भी इस कॉन्फ्रेंस में शामिल हैं. 

कॉन्फ्रेंस में इन्फैंट्री की ट्रेनिंग और ऑपरेशनों से जुड़े हुए हर मसले पर विचार-विमर्श किया जाएगा. इन्फैंट्री यानि पैदल सेना चीन और पाकिस्तान जैसे पड़ोसियों से लगती हुई सीमा की सुरक्षा में तो लगी ही है. साथ ही वो लगातार जम्मू-कश्मीर और नॉर्थ ईस्ट में लगातार आतंकवाद से भी जूझ रही है. भारतीय सेना में सबसे ज्यादा तादाद भी इन्फैंट्री की ही होती है. 

बदलते हुए समय में युद्ध और ऑपरेशन के तरीक़े में तेज़ी से बदलाव हो रहा है, ऐसे में इन्फैंट्री को भी लगातार बदलाव के लिए तैयार रखना होता है. इस समय सेना में नई तकनीक और नए हथियार आ रहे हैं. इस कांफ्रेंस में नई तकनीक और इन्फॉर्मेशन वॉरफेयर में इन्फैंट्री की ट्रेनिंग की प्रगति की समीक्षा भी की जाएगी. सेनाध्यक्ष बिपिन रावत तीनों दिन तक इस कॉन्फ्रेंस में रहेंगे. इस कॉन्फ्रेंस में इन्फैंट्री के कमांडिग अफसरों से लेकर बड़ी फॉर्मेशनों के कमांडर भी हिस्सा ले रहे हैं.