INX मीडिया मामला: कार्ति चिदंबरम की जमानत पर आज आ सकता है फैसला!

बीते 13 मार्च को दिल्‍ली की एक विशेष अदालत ने आईएनएक्स मीडिया धन शोधन मामले में गिरफ्तार कार्ति चिदंबरम के चार्टर्ड एकाउंटेंट एस भास्कररमण को जमानत दे दी थी. 

INX मीडिया मामला: कार्ति चिदंबरम की जमानत पर आज आ सकता है फैसला!
कार्ति चिदंबरम फिलहाल दिल्ली के तिहाड़ जेल में बंद हैं. (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: INX मीडिया मामले में कार्ति चिदंबरम की जमानत याचिका पर आज अदालत अपना फैसला सुना सकती है. इससे पहले दिल्ली उच्च न्यायालय ने आईएनएक्स मीडिया भ्रष्टाचार मामले में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी. चिदंबरम के बेटे कार्ति चिदंबरम की जमानत याचिका पर केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) से 16 मार्च तक जवाब मांगा था. न्यायमूर्ति एस. पी. घोष ने जांच एजेंसी से मामले की स्टेटस रिपोर्ट तलब की. न्यायालय ने यह निर्देश तब दिया है जब कार्ति के वकील कपिल सिब्बल ने न्यायालय से कहा था कि वह निचली अदालत से कार्ति की जमानत याचिका वापस लेने जा रहे हैं. 

कार्ति के चार्टर्ड एकाउंटेंट एस भास्कररमण को जमानत
उल्‍लेखनीय है कि बीते 13 मार्च को दिल्‍ली की एक विशेष अदालत ने आईएनएक्स मीडिया धन शोधन मामले में गिरफ्तार कार्ति चिदंबरम के चार्टर्ड एकाउंटेंट एस भास्कररमण को जमानत दे दी थी. अदालत ने कहा कि उनके खिलाफ इसके अलावा कोई अन्य स्पष्ट आरोप नहीं हैं कि उन्होंने अपराध में पूर्व केन्द्रीय मंत्री पी चिदंबरम के बेटे कार्ति की मदद की. आईएनएक्स मीडिया को साल 2007 में विदेशी निवेश संवर्धन बोर्ड (एफआईपीबी) की अनुमति दिलाने के एवज में धन लेने के आरोप में कार्ति को फरवरी में गिरफ्तार किया गया था. उस समय कार्ति के पिता केंद्र की संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग) सरकार में वित्त मंत्री थे. 

कार्ति को सुप्रीम कोर्ट से राहत
इससे पहले उच्चतम न्यायालय ने आईएनएक्स मीडिया धनशोधन मामले में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी चिदम्बरम के पुत्र कार्ति चिदम्बरम को गिरफ्तारी से प्राप्त संरक्षण की अवधि 26 मार्च तक के लिए बढ़ा दी थी. न्यायालय ने कहा कि वह किसी आरोपी को गिरफ्तार करने के प्रवर्तन निदेशालयके अधिकार के बारे में विभिन्न उच्च न्यायालयों के परस्पर विरोधी दृष्टिकोण से उत्पन्न‘ भ्रम’ का समाधान करेगा.

CBI की प्राथमिकी पर तिहाड़ जेल में बंद हैं कार्ति
पूर्व वित्त मंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी. चिदंबरम के बेटे कार्ति चिदंबरम INX मीडिया मामले में केन्द्रीय जांच ब्यूरो (CBI) की दर्ज प्राथमिकी के सिलसिले में अभी तिहाड़ जेल में बंद हैं. कार्ति की तरफ से पेश हुए वरिष्ठ वकील दया कृष्णन ने न्यायिक हिरासत में भेजे जाने की स्थिति में अदालत से जमानत याचिका पर सुनवाई करने की मांग की थी. उन्होंने एक और याचिका देकर कार्ति को न्यायिक हिरासत में भेजे जाने की स्थिति में जेल के अंदर अलग कोठरी की मांग करते हुए कहा कि 'वह पूर्व केंद्रीय गृह मंत्री के बेटे हैं और उनके (पी. चिदंबरम) कार्यकाल के दौरान कई आतंकवादियों पर अभियोजन चला था. इसलिए कार्ति के लिए वहां स्पष्ट रूप से खतरा है.' हालांकि, कोर्ट ने जेल में अलग कोठरी के अनुरोध को ठुकरा दिया था.

कार्ति चिदंबरम को आजादी मिलेगी तो नीरव मोदी पर कैसे होगी कार्रवाई- ED ने SC में कहा

28 फरवरी को गिरफ्तार किए गए थे कार्ति चिदंबरम
CBI ने 28 फरवरी को चेन्नई हवाई अड्डे से कार्ति चिदंबरम को गिरफ्तार किया था. जांच एजेंसी के आरोप का प्रतिवाद करते हुए कार्ति ने अपनी जमानत याचिका में यह दावा किया कि उन्होंने कभी भी गवाहों को प्रभावित करने, साक्ष्यों के साथ छेड़छाड़ या न्यायिक प्रक्रिया में बाधा पहुंचाने की कोशिश नहीं की. इससे पहले, निचली अदालत में उन्होंने सीबीआई पर यह आरोप लगाते हुए जमानत मांगी थी कि CBI उनके पिता की प्रतिष्ठा को धूमिल करने के इरादे से केंद्र के इशारे पर काम कर रही है. पी चिदंबरम के वित्त मंत्री रहते हुए 2007 में INX मीडिया समूह को विदेशी निवेश संवर्धन बोर्ड (एफआईपीबी) की मंजूरी मिली थी.