पी चिदंबरम 106 दिन बाद जेल से आए बाहर, कांग्रेसियों ने किया भव्य स्वागत

सुप्रीम कोर्ट ने चिदंबरम की जमानत पर कुछ शर्तें लगा दी हैं. चिदंबरम का पासपोर्ट जब्त कर लिया जाएगा और उन्हें बिना अनुमति के देश छोड़ने की इजाजत नहीं दी जाएगी. वह मीडिया को कोई साक्षात्कार नहीं देंगे. साथ ही उन्हें इस मामले में पूछताछ के लिए उपलब्ध रहना होगा.

पी चिदंबरम 106 दिन बाद जेल से आए बाहर, कांग्रेसियों ने किया भव्य स्वागत
कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम जेल से आए बाहर. तस्वीर साभार- ANI

नई दिल्ली: पूर्व गृहमंत्री पी चिदंबरम (P Chidambaram) बुधवार शाम को 106 दिनों बाद जेल से बाहर आए. कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने उनका भव्य स्वागत किया. बेटे कार्ति चिदंबरम मीडिया के कैमरों के सामने विजयी निशान दिखाते दिखे. दिल्ली के तिहाड़ जेल के बाहर कांग्रेस कार्यकर्ताओं का हुजूम दिखा. सुप्रीम कोर्ट ने चिदंबरम की जमानत पर कुछ शर्तें लगा दी हैं. चिदंबरम का पासपोर्ट जब्त कर लिया जाएगा और उन्हें बिना अनुमति के देश छोड़ने की इजाजत नहीं दी जाएगी. वह मीडिया को कोई साक्षात्कार नहीं देंगे. साथ ही उन्हें इस मामले में पूछताछ के लिए उपलब्ध रहना होगा.

अदालत ने चिदंबरम को मामले की सुनवाई कर रहे विशेष न्यायाधीश की संतुष्टि के अधीन दो जमानती के साथ दो लाख रुपये के जमानत बांड जमा करने का निर्देश दिया. शीर्ष अदालत ने कहा कि मामले में अन्य आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई का जमानत आदेश पर कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा.

सुप्रीम कोर्ट से मिली है जमानत
सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को आईएनएक्स मीडिया मामले में वरिष्ठ कांग्रेस नेता पी. चिदंबरम को जमानत दे दी. न्यायमूर्ति आर. भानुमति की अगुवाई वाली पीठ ने कहा कि कांग्रेस नेता आईएनएक्स मीडिया मामले के बारे में कोई सार्वजनिक बयान नहीं देंगे और साथ ही मामले में गवाहों को डराने का कोई प्रयास नहीं करेंगे.

शीर्ष अदालत ने जमानत पर शर्तें भी लगा दी हैं -चिदंबरम का पासपोर्ट जब्त कर लिया जाएगा और उन्हें बिना अनुमति के देश छोड़ने की इजाजत नहीं होगी, वह प्रेस को कोई साक्षात्कार नहीं देंगे, और वह मामले में पूछताछ के लिए बुलाने पर उपस्थित होते रहेंगे.

अदालत ने चिदंबरम को मामले की सुनवाई करने वाले विशेष न्यायाधीश की संतुष्टि के लिए दो लाख रुपये का जमानत बांड जमा करने का निर्देश दिया. शीर्ष अदालत ने पाया कि जमानत संबंधी आदेश से मामले में अन्य आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई को लेकर कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा.

शीर्ष अदालत ने रजिस्ट्री को आदेश दिया कि वह सुनवाई के अंतिम दिन ईडी द्वारा पीठ को सौंपे गए सीलबंद कवर को वापस करे, जिसमें मामले से जुड़े सबूत हैं. चिदंबरम की ओर से पेश वरिष्ठ वकील कपिल सिब्बल ने बुधवार को आईएनएक्स मीडिया मामले की सुनवाई कर रहे विशेष न्यायाधीश के समक्ष पेश करने के आदेश की प्रमाणित प्रति मांगी.