ISIS नेता बगदादी के संपर्क में थे भारत में गिरफ्तार संदिग्ध आतंकी

हाल ही में देश के विभिन्न इलाकों में आतंकवाद के जिस मॉड्यूल का भंडाफोड़ हुआ है उसके सदस्य लगातार इस्लामिक स्टेट के खूंखार नेता अबु बकर अल बगदादी के करीबी समझे जाने वाले लोगों के संपर्क में थे और उन्हें गणतंत्र दिवस के पहले महत्वपूर्ण स्थानों पर विस्फोट करने के निर्देश प्राप्त हो रहे थे।

ISIS नेता बगदादी के संपर्क में थे भारत में गिरफ्तार संदिग्ध आतंकी

नयी दिल्ली: हाल ही में देश के विभिन्न इलाकों में आतंकवाद के जिस मॉड्यूल का भंडाफोड़ हुआ है उसके सदस्य लगातार इस्लामिक स्टेट के खूंखार नेता अबु बकर अल बगदादी के करीबी समझे जाने वाले लोगों के संपर्क में थे और उन्हें गणतंत्र दिवस के पहले महत्वपूर्ण स्थानों पर विस्फोट करने के निर्देश प्राप्त हो रहे थे।

गणतंत्र दिवस के पहले कथित तौर पर हमले करने की योजना बनाने के संदेह में एनआईए और अन्य केंद्रीय सुरक्षा एजेंसियों ने शुक्रवार और शनिवार को 14 लोगों को गिरफ्तार किया है। आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि गिरफ्तार किए गए व्यक्तियों में मुदब्बीर मुश्ताक शेख है जो आईएसआईएस की भारतीय इकाई जनूद-उल-खलीफा-ए-हिंद (भारत के खलीफा की सेना) का स्वयंभू अमीर (प्रमुख) है। संगठन को खड़ा करने के पीछे मुख्य रूप से यही शख्स जिम्मेदार है। इससे पहले वैश्विक आतंकी संगठन ने उपमहाद्वीप में अपना आधार बनाने की कई बार कोशिशें की थी, लेकिन उसे कामयाबी नहीं मिली।

समझा जाता है कि शेख ने बगदादी के निर्देश पर ‘अमीर’ का खिताब हासिल किया। वह कुछ सोशल नेटवर्किंग साइट्स पर सक्रिय था। एक खेल कंपनी में प्रोड्क्ट डवलपमेंट मैनेजर शेख पर खुफिया एजेंसियां कई महीनों से नजर रख रही थीं। उसने तुर्की और सीरिया के रास्ते धन हासिल किया जिसके बाद उसे पकड़ लिया गया। सूत्रों ने बताया कि भारत में आतंकी समूह की स्थापना करने का मकसद बगदादी के ‘खलीफा शासन’ का विस्तार करना था। उन्होंने कहा कि हिरासत में उससे पूछताछ करने पर सुरक्षा एजेंसियों को संगठन की योजनाएं उजागर करने में मदद मिल सकती है।

सूत्रों ने बताया कि कुछ ही समय में ही समूह ने कमान की एक पूरी श्रंखला स्थापित कर ली थी। शेख इसका अमीर बना, जबकि उत्तर प्रदेश के कुशी नगर का रहने वाला रिजवान अली इसका नायब अमीर (उप प्रमुख), मंगलोर निवासी नजमुल हूदा को इसका ‘अमीर-ए-असकरी’ (बटालियन कमांडर) बनाया गया और हैदराबाद से गिरफ्तार किए गए बिहार निवासी मोहम्मद नफीस खान को इस समूह का ‘अमीर-ए-वयुलत’ (वित्तीय मामलों का प्रमुख) नियुक्त किया गया। एनआईए को विश्वसनीय सूचना मिली थी कि इस्लामिक स्टेट ऑफ इराक एंड लैवेन्ट (आईएसआईएल) भारतीय युवाओं को कट्टर बनाने और उन्हें आतंकी संगठन में शामिल होने के लिए उकसा रहा है, जिसके बाद वर्ष 2015 में एजेंसी ने एक मामला दर्ज किया था। इस्लामिक स्टेट ऑफ इराक एंड लैवेन्ट (आईएसआईएल) को इस्लामिक स्टेट ऑफ इराक एंड सीरिया (आईएसआईएस) या दावलह अल इस्लामिया फिल इराक वा-श शाम (डीएआईएसएच) के नाम से भी जाना जाता है।

एनआईए की प्राथमिकी में कहा गया है कि इस वजह से कुछ भारतीय नागरिक पहले ही इसमें शामिल हो चुके हैं या संघर्ष वाले क्षेत्र इराक, सीरिया और लीबिया में आतंकी कृत्यों को अंजाम देने के लिए आतंकी संगठन में शामिल होने की प्रक्रिया में है। आईएसआईएल भारत सहित दुनिया के अन्य हिस्सों में अपनी गतिविधियों का विस्तार करने पर विचार कर रहा है। इस मामले की जांच के सिलसिले में शुक्रवार को स्थानीय पुलिस के सहयोग से छह शहरों बेंगलूरू, तुमकुर, मंगलोर, हैदराबाद, मुंबई और लखनउ में एक साथ 12 स्थानों पर छापेमारी की गई जिसके बाद ये गिरफ्तारियां की गईं।

सूत्रों ने बताया कि गिरफ्तार किए गए 14 लोगों की उम्र 20 से 53 साल के बीच है। इन लोगों ने विस्फोटक सामग्री, आईईडी बनाने में उपयोग होने वाला इलेक्ट्रोनिक सर्किट, तेजाब और बम में इस्तेमाल किए जाने वाले नट तथा बोल्ट खरीदे, जिसके बाद उन्हें गिरफ्तार किया गया। उन्होंने आईईडी के जरिए विस्फोट करने के लिए सिम कार्ड सहित 42 मोबाइल फोन खरीदे थे।

सूत्रों ने बताया कि समूह का लक्ष्य हैदराबाद, मुंबई, दिल्ली, बेंगलूरू, उत्तराखंड, असम और कनार्टक में अपनी गतिविधियां फैलाने का है। सूत्रों ने बताया कि पिछले आठ महीनों के दौरान समूह के सदस्यों ने देश के कुछ स्थानों का दौरा किया और महत्वपूर्ण प्रतिष्ठानों की फोटोग्राफी की। हालांकि सूत्रों ने इस बाबत और जानकारी नहीं दी।

इनमें से दो संदिग्ध आतंकियों को आज दिल्ली में विशेष एनआईए अदालत में पेश किया गया जिसने उन्हें 13 दिन के लिए केंद्रीय आतंकवाद जांच एजेंसी की हिरासत में भेज दिया। एजेंसी के सूत्रों ने बताया कि हैदराबाद निवासी अबु अनस और नफीस खान (दोनों की उम्र 24 साल) को पटियाला हाउस अदालत में विशेष न्यायाधीश के समक्ष पेश किया गया जहां से उन्हें एनआईए की हिरासत में भेज दिया गया।