Breaking News
  • दिल्‍ली हिंसा पर कांग्रेस ने राष्‍ट्रपति को ज्ञापन सौंपा
  • सोनिया गांधी, मनमोहन सिंह समेत कई नेता राष्‍ट्रपति से मिले
  • अखिलेश यादव सीतापुर के लिए निकले. जेल में बंद सपा नेता आजम खां व उनके परिवार से करेंगे मुलाकात

अगले 24 में कश्मीर में हो सकती है बारिश, कड़ाके की ठंड से राहत मिलने की उम्मीद नहीं

कश्मीर में पिछले दो हफ़्तों से तापमान लगातार शून्य से नीचे दर्ज हुआ हैं. झील डल का आधे से ज्यादा हिस्सा जम गया है. 

अगले 24 में कश्मीर में हो सकती है बारिश, कड़ाके की ठंड से राहत मिलने की उम्मीद नहीं
मौसम विभाग ने आशंका जताई है कि आने वाले दिनों में कश्मीर में बर्फ और बारिश हो सकती है...

श्रीनगर : श्रीनगर से 45 किलोमीटर के दूरी पर कश्मीर में पड़ रही भीषण ठंड का एहसास होता है, जहां एक पेड़ बर्फ में तब्दील हो गया है. द्योदार का यह पेड़ जो जड़ से लेकर करीब 15 की ऊंचाई तक बर्फ में लिपट गया है, गुलमर्ग जाने वाले हर व्यक्ति का आकर्षण बन गया है. दरअसल, इस जगह पर तापमान चौबीसों घंटा शून्य से नीचे रहता है, जिसके कारण यहां एक पानी की मास्टर पाइप के लीक होने से पानी एक फव्वारे की शक्ल ले चुका था लेकिन ठंड और शून्य तापमान के कारण यह बर्फ में बदल गया है. यहां अगर तापमान की बात करें तो रात में तापमान माइनस 12 तक चला जाता है और दिन में तापमान माइनस 4 और 5 के बीच में रहता है. 

गुलमर्ग जाने वाले पर्यटक या स्थानीय लोग इस जगह ज़रूर रुकते और यहां इस दिलचस्प और निराले कुदरत के नज़ारे को देखते हैं और तस्वीरें खींचते हैं. कड़ाके की ठंड के बावजूद मनमोह लेने वाले इस नज़ारे के लिए यहां इंसान दो पल ज़रूर गुज़रता है. गुलमर्ग घूमने आए पर्यटक सुचा सिंह कहते है "बहुत ठंड है, बहुत ज्यादा ठंड है मगर बहुत अच्छा लग रहा है कवि देखा नहीं ऐसा ज़िन्दगी में थोड़ा निराला लगा रहा है. स्पेशल रोकी है गाड़ी इसके लिए. नरिंदर कौर कहती है "बहुत ठंड है माइनस डिग्री चल रहा है. स्पेशल यहां आए इसके लिए. हमें गुलमर्ग जा रहे हैं, पहले हम यहां रुके कि दो चार फोटो लगे".

कश्मीर में पिछले दो हफ़्तों से तापमान लगातार शून्य से नीचे दर्ज हुआ हैं. झील डल का आधे से ज्यादा हिस्सा जम गया है, वहीं पहाड़ी इलाकों में जहां पानी ठहरा है वहीं जम गया है. मौसम विभाग ने आशंका जताई है कि आने वाले दिनों में कश्मीर में बर्फ और बारिश हो सकती है यानी फ़िलहाल कड़ाके ठंड से रहत मिलने की उम्मीद नहीं है.