जम्मू कश्मीर पुलिस के नए जवानों ने पहली बार ली भारतीय संविधान की शपथ

अनुच्छेद 370 हटने के बाद कश्मीर घाटी में हुई पहली पासिंग आउट परेड में राज्य पुलिस में शामिल हुए जवानों ने पहली बार भारतीय ईं-ए-हिंद (संविधान) के तहत शपत ली. 

जम्मू कश्मीर पुलिस के नए जवानों ने पहली बार ली भारतीय संविधान की शपथ
जम्मू कश्मीर पुलिस के जवानों की पासिंग परेड.

श्रीनगर: अनुच्छेद 370 हटने के बाद कश्मीर घाटी में हुई पहली पासिंग आउट परेड में राज्य पुलिस में शामिल हुए जवानों ने पहली बार भारतीय आईं-ए-हिंद (संविधान) के तहत शपत ली. रंगरूट से जवान बने इन युवाओं ने इसे उनके लिए एक गर्व समय बताया. वे काफी खुशी दिखे कि उन्होंने संविधान की शपथ ली है. सोमवार को मनीगाम पुलिस ट्रेनिंग सेंटर (पीटीसी) में 1145 रंगरूट जम्मू कश्मीर पुलिस में कड़ी ट्रेनिंग के बाद शामिल हुए. इनमें 32 कमांडो भी रहे, जिन्हें विशेष ट्रेनिंग दी गई, ताकि वह किसी भी स्थिति का मुस्तैदी से सामना कर सकें. आतंकवाद से लड़ने के लिए इन रंगरूटों को विशेष परीक्षण दिया गया है. इतना ही नहीं इन्हें नवीनतम उपकरणों और हथियारों की ट्रेनिंग दी गई है.

कमांडो ताबीर अहमद ने कहा, 'आज हमारे लिए बहुत ही खुशी का दिन है और हम बहुत कुछ नया देख रहे हैं.' उन्होंने कहा कि आज हमारा यह पहला जम्मू कश्मीर पुलिस का बैच है जो आईं-ए-हिंद के तहत शपत ले रहा है. ताबीर ने कहा कि इससे पूर्व आईं-ए-जम्मू कश्मीर (कश्मीर का संविधान) के तहत शपत ली जाती थी, लेकिन आज पहली बार ऐसा हो रहा है. हुमें इस बात की बहुत खुशी है. उन्होंने कहा कि हमारा प्रथम मकसद है लोगों के दुखों को समझते हुए उनकी सहायता करना.

जम्मू कश्मीर पुलिस के कमांडो हबीबुल्ला खान ने कहा कि हुमें कमांडो बनने के लिए उच्च स्तरीय ट्रेनिंग दी गई है. हम देश की रक्षा करने के लिए पूरी तरह से सक्षम हैं. उन्होंने कहा कि हम आईं-ए-हिंद के तहत अपना कर्तव्य निभाएंगे और उसका पालन करने की पूरी कोशिश करेंगे. खान ने कहा कि आज हमने आईं-ए-हिंद की शपथ ली है और उसके तहत हम लोगों के जान-माल की रक्षा करने के लिए पूरी तरह से तैयार हैं. जब तक जान है तब तक हम अपने देश की रक्षा करेंगे.

कमांडो मन्नू शर्मा ने कहा कि आज काफी गर्व महसूस हो रहा है कि हमने देश की रक्षा करने की शपथ ली है. उन्होंने कहा कि हुमें जिस प्रकार का प्रशिक्षण दिया गया है उससे हम किसी भी खतरे से निपटने के लिए सक्षम हैं. शर्मा ने कहा कि हमारे लिए सबसे पहले देश आता है बाकी सब बाद में है, हम किसी भी हद तक जा सकते हैं.

गौरतलब है कि जम्मू कश्मीर पुलिस के कमांडो प्रशिक्षक शबीर अहमद ने बताया कि इन जवानों को हर किस्म के हथियार के साथ-साथ हर स्थिति से निपटने का प्रशिक्षण दिया गया है. इन्हें हमने ऑलराउंडर बनाया है. इतना ही नहीं हथियारों के अलावा इन्हें बिना हथियार के लड़ने की भी एक विशेष ट्रेनिंग दी गई है, ताकि वह कभी भी भीड़ में फंसने पर लोगों पर बिना गोली चलाए अपना बचाव कर सकें और उन्हें दूर रख सकें. 

इस मौके पर मुख्य अतिथि उपराज्यपाल जीसी मुर्मू ने जम्मू कश्मीर पुलिस की तारीफ़ करते कहा, 'आपने हमेशा देश का नाम ऊंचा किया है.' उपराज्यपाल ने जम्मू कश्मीर पुलिस को आश्वासन दिया कि वेलफेयर के लिए हर क़दम उठाया जाएगा. जवानों की बेहतर ज़िंदगी से लेकर उनके परिवार की बेहतरी के लिए भी क़दम उठाए जायेंगे. इस मौके पर उपस्थित डीजीपी जम्मू कश्मीर दिलबग सिंह ने प्रदान मंत्री का शुक्रिया अदा किया कि जिस तरह उन्होंने जम्मू कश्मीर पुलिस और उसके बलिदान को हमेशा सराहा और याद रखा.

ये भी देखें-: