close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजौरी के पास घुसपैठ की फिराक में आतंकी, पाकिस्तानी सेना कर रही है मददः सूत्र

सूत्रों का कहना है 5 आतंकियों का एक ग्रुप LOC के पास काली खाड़ी में देखा गया है.

राजौरी के पास घुसपैठ की फिराक में आतंकी, पाकिस्तानी सेना कर रही है मददः सूत्र

श्रीनगरः ख़ुफ़िया एजेंसी की एक रिपोर्ट के मुताबिक लाइन ऑफ़ कंट्रोल के नजदीक पाक अधिकृत कश्मीर यानि (पीओके) के इलाके में आतंकियों के दो ग्रुप कश्मीर में दाखिल होने के फ़िराक में है .एजेंसीज की रिपोर्ट के मुताबिक पीओके के कोटली टेरर कैम्पस से एक काली गाड़ी में 5 आतंकियों को घूमते देखा गया है जो राजौरी इलाके में घुसपैठ की कोशिश में लगे है .रिपोर्ट के 

मुताबिक इन आतंकियों के साथ हाजी आरिफ नाम का एक गाइड भी हो जिसे इन आतंकियों को भारत में दाखिल कराने की जिम्मेदारी दी गयी है . रिपोर्ट के मुताबिक ऐसे ही एक दूसरा ग्रुप जिसमे 6 आतंकी है उन्हें पाकिस्तानी सेना की एसएसजी के 2 कमांडो के साथ एलोसी के पास देखा गया है ये सभी आतंकी जैश ए मोहम्मद और लश्कर ग्रुप से है .

पाकिस्तान और पाक अधिकृत कश्मीर में चल रहे आतंकी कैंपों को भारतीय खुफिया एजेंसियों की रिपोर्ट में बड़ा खुलासा हुआ है. ताजा जानकारी के मुताबिक पीओके और पाकिस्तान में कुल 16 आतंकी कैंप एक्टिव हैं. इनमें से 5 आतंकी कैंप पाकिस्तान में चल रहे हैं. जिनमें से 2 कैंप पाकिस्तान के पंजाब प्रांत में है और 3 कैंप खैबर पख्तूनवा के मनशेरा जिले में चल रहे हैं. वहीं पाक अधिकृत कश्मीर की बात करें तो यहां आतंकियों के 11 कैप एक्टिव हैं. इनमें से 5 कैंप तो पीओके में एलओसी से सटे मुजफ्फराबाद के अलावा कोटली और बरनाला में ही एक्टिव है.

पीओके के जिन टेरर कैम्प में ट्रेनिंग दी जा रही है उनके नाम हैं बोई, मुज्जफराबाद, कोटली, बरनाला,लाका ए गैर, शेरपाई, देवलीन, खालिद बिन वालिद, गरही और दुपट्टा कैंप हैं जो ख़ुफ़िया एजेंसियो के निशाने पर है. जानकारी के मुताबिक साल 2018 में यहां से करीब 560 आतंकी ट्रेनिंग ले चुके हैं. 

देखा जाए तो बालाकोट में जैश के जिस कैम्प पर भारत ने हमला किया है उसके बारे में ख़ुफ़िया एजेंसियो ने हमले से काफी जानकारी इकट्ठा की थी. रिपोर्ट में कहा गया था कि कैम्प में 300 के करीब मोबाइल कनेक्शन एक्टिव है और इन कैम्प में 300-350 हर वक़्त ट्रेनिंग लेते है.इन्ही ख़ुफ़िया जानकारियों के आधार पर एयर फोर्स ने एयर स्ट्राइक की थी.  हमले के बाद सैटेलाइट इमेज से खुलासा हुआ है कि बालाकोट पर किया गया हमला बेहद सटीक था और हमले में 5-6 बिल्डिंग पूरी तरह तबाह हो गयी है.