close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

अब J&K पुलिस के इन जांबाजों की जान पर आया खतरा, जानिए क्‍यों आए आतंकियों के निशाने पर

सड़कों पर हंगामा कर रहे आतंकी के परिजनों को रोकने की कोशिश करने वाले पुलिस कर्मियों को आतंकी संगठन सीधी धमकी दे रहे हैं.

अब J&K पुलिस के इन जांबाजों की जान पर आया खतरा, जानिए क्‍यों आए आतंकियों के निशाने पर
पुलिस में भर्ती के लिए नौजवानों की उमड़ी भीड़ देखने के बाद आतंकी संगठन बुरी तरह से बौखला गए हैं. (फाइल फोटो)

नई दिल्‍ली: जम्‍मू-कश्‍मीर पुलिस में भर्ती के लिए नौजवानों की उमड़ी भीड़ देखने के बाद आतंकी संगठन बुरी तरह से बौखला गए हैं. इसी बौखलाहट में आतंकी संगठन लगातार जम्‍मू-कश्‍मीर मूल के सुरक्षाकर्मियों को अपनी आतंकी वारदात का निशाना बना रहे हैं. सोमवार को आतंकियों ने सीआरपीएफ के कॉन्‍सटेबल  नासिर अहमद राथर का अपहरण करने के बाद उसकी हत्‍या कर दी. इस आतंकी वारदात को अंजाम देने के बाद आतंकियों ने अब एक नई धमकी जारी की है. इस  धमकी में जम्‍मू-कश्‍मीर पुलिस के कुछ जवानों को निशाना बनाने की बात कही गई है. वहीं, आतंकियों की इस धमकी को गंभीरता से लेते हुए जम्‍मू-कश्‍मीर पुलिस ने एहतियाती कदम उठाना शुरू कर दिए हैं. 

सुरक्षाबलों से जुड़े सूत्रों के अनुसार, लश्‍कर-ए-तैयबा ने सोशल मीडिया के जरिए यह धमकी जारी की है. इस धमकी में उन जम्‍मू-कश्‍मीर पुलिस के उन जवानों को निशाना बनाने की बात कही गई है, जिन्‍होंने मुख्‍य राजमार्ग पर हंगामा कर रहे आतंकी मुदासिर के परिजनों को रोकने की कोशिश की थी. आम जनता की सहूलियत के लिए जम्‍मू-कश्‍मीर पुलिस के जवानों द्वारा की गई कार्रवाई आतंकी संगठन लश्‍कर-ए-तैयबा को नागवार गुजरी है. बौखलाए आतंकियों ने सोशल मीडिया पर संदेश जारी कर कहा है कि सुरक्षाबलों द्वारा मारे गए मुदासिर के परिजनों से बदसलूकी करने वाले पुलिस कर्मियों की वह पहचान कर रहे हैं.

Terrorists are threatening
सोशल मीडिया पर आतंकियों ने जारी की है यह धमकी.

मुदासिर है कुपवाड़ा इनकांउटर में मारा गया आतंकी!
सूत्रों के अनुसार 29 जून को कुपवाड़ा के जंगलों में सीआरपीएफ, राष्‍ट्रीय राइफल्‍स और जम्‍मू कश्‍मीर पुलिस की संयुक्‍त टीम ने एक अज्ञात आतंकी को मार गिराया था. आतंकी के परिजनों का दावा है कि मारा गया आतंकी मुदासिर है. इसी दावे के आधार पर वे पुलिस  से मुदासिर के शव की मांग कर रहे हैं. मारे गए आतंकी की पहचान स्‍पष्‍ट करने के लिए पुलिस वैज्ञानिक तरीकों का इस्‍तेमाल कर रही है. इस बीच, आतंकी संगठनों के बहकावे पर आतंकवादी मुदासिर के परिजनों ने सड़कों पर हंगामा करना शुरू कर दिया है. इस हंगामें को रोकने की कोशिश करने वाले पुलिस कर्मियों को आतंकी संगठन सीधी धमकी दे रहे हैं. 

एक महीने में पांच सुरक्षाकर्मियों को निशाना बचा चुके हैं आतंकी
उल्‍लेखनीय है कि आतंकियों ने बीते एक महीने में करीब पांच सुरक्षाकर्मियों को अपना निशाना बनाया है. जिसमें सबसे ताजा मामला सोमवार (30 जुलाई) को सीआरपीएफ के कॉन्‍सटेबल नासिर अहमद राथर की दक्षिण कश्मीर के पुलवामा के नैरा इलाके में गोली मार कर हत्‍या कर दी गई थी. इससे पहले शनिवार (28 जुलाई) तड़के जम्‍मू-कश्‍मीर पुलिस के स्‍पेशल पुलिस ऑफिसर (SPO) को आतंकियों ने उसके गांव से अगवा कर लिया था. 

इससे पहले 20 जुलाई को आतंकियों ने कुलगाम से जम्‍मू-कश्‍मीर पुलिस के ट्रेनी कॉन्‍स्‍टेबल मोहम्‍मद सलीम को अगवा कर लिया था. इस वारदात के अगले दिन शहीद कॉन्‍स्‍टेबल मोहम्‍मद सलीम का शव जंगलों से बरामद किया गया था. इस घटना से पहले, आतंकियों ने 6 जुलाई को J&K पुलिस के कॉन्‍स्‍टेबल जावेद धर का अपहरण शोपियां से किया था. वहीं 14 जून को भारतीय सेना के जाबांज औरंगजेब को आतंकियों ने अगुवा कर लिया था. जाबांज औरंगजेब को कड़ी प्रताड़ना देने के बाद आतंकियों ने उनकी हत्‍या कर दी थी.