जन्माष्टमी 2016: पूजा करने का सही मुहूर्त एवं समय, इन श्रीकृष्ण मंत्रों से बदलेगा भाग्य

भगवान श्रीकृष्ण की जन्माष्टमी इस बार 25 अगस्त को है। ज्योतिषियों के मुताबिक 24 अगस्त को रात 10:17 मिनट से ही अष्टमी लग जायेगी। लेकिन व्रत रखने का अच्छा दिन गुरूवार को ही है इसलिए जन्माष्टमी का व्रत इसी दिन यानी 25 अगस्त को ही रखे।

जन्माष्टमी 2016: पूजा करने का सही मुहूर्त एवं समय, इन श्रीकृष्ण मंत्रों से बदलेगा भाग्य

नई दिल्ली: भगवान श्रीकृष्ण की जन्माष्टमी इस बार 25 अगस्त को है। ज्योतिषियों के मुताबिक 24 अगस्त को रात 10:17 मिनट से ही अष्टमी लग जायेगी। लेकिन व्रत रखने का अच्छा दिन गुरूवार को ही है इसलिए जन्माष्टमी का व्रत इसी दिन यानी 25 अगस्त को ही रखे।

भगवान श्रीकृष्ण जी श्री विष्णु जी के आठवें अवतार हैं। यह भगवान श्रीकृष्ण का 524वां जन्मोत्सव है। जन्माष्टमी पूजन का सबसे शुभ मुहूर्त 12 बजे से लेकर 12:45 तक है। यूं तो पारण का समय 26 तारीख को सुबह 10 बजकर 52 मिनट है लेकिन जो लोग पारण को नहीं मानते वो भगवान श्रीकृष्ण के जन्म के बाद और उनकी पूजा करने के बाद यानी कि 25 अगस्त को ही रात 12:45 बजे के बाद अपना व्रत तोड़ सकते हैं।

इस दिन भगवान स्वयं पृथ्वी पर अवतरित हुए थे इसलिए कृष्ण जन्माष्टमी अथवा जन्माष्टमी के रूप में मनाते हैं। इस दिन स्त्री-पुरुष रात्रि बारह बजे तक व्रत रखते हैं। इस दिन मंदिरों में झांकियां सजाई जाती हैं और भगवान कृष्ण को झूले में झुलाया जाता है।

सभी लोग इस दिन अलग-अलग तरीके से पूजा-पाठ करते हैं। लेकिन इस दिन तीन मंत्रों का जाप बहुत शुभ और कल्याणकारी माना जाता है। सात अक्षरी, आठ अक्षरी और बारह अक्षरी मंत्र बोलने और जप करने में बड़े सरल और मंगलकारी हैं और ये मंत्र हैं -

'गोकुल नाथाय नम:'
'ऊँ नमो भगवते श्री गोविन्दाय'
'गोवल्लभाय स्वाहा'

शास्त्रों में निम्न कृष्ण मंत्र को बहुत ही प्रभावशाली माना गया है। यह मंत्र बीज मंत्र की तरह काम करता है। यह अति गूढ़ मंत्र है। इस मंत्र से सभी प्रकार का भय और संकट दूर हो जाता है। जीवन में आने वाली बाधाएं दूर करने में भी यह मंत्र कारगर होता है।

यह दिव्य मंत्र है- ॐ नमो भगवते तस्मै कृष्णायाकुण्ठमेधसे। सर्वव्याधिविनाशाय प्रभो माममृतं कृधि।।

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.