close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

जम्मू एवं कश्मीर: राज्यपाल ने दहशत फैलाने वाली अफवाहों को किया खारिज

राज्यपाल ने कहा, 'अगर कोई लाल चौक में छींकता है, तो मुझे राजभवन में बताया जाता है कि वहां एक बम विस्फोट हुआ है. लोगों को इन अफवाहों पर ध्यान नहीं देना चाहिए.

जम्मू एवं कश्मीर: राज्यपाल ने दहशत फैलाने वाली अफवाहों को किया खारिज
(फाइल फोटो)

श्रीनगर: जम्मू एवं कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने मंगलवार को उन अफवाहों को खारिज किया जिसमें कहा गया है कि 'कुछ गंभीर घटित होने वाला है जो राज्य की रोजमर्रा के जीवन पर प्रतिकूल प्रभाव डाल सकता है.' 

राज्यपाल ने श्रीनगर में एक कार्यक्रम से इतर कहा कि उन अफवाहों को दूर कर रहा हूं जिसमें कहा गया कि लोगों को लंबे समय की अशांति के लिए तैयार रहना चाहिए, क्योंकि कुछ भयानक होने वाला है. राज्यपाल ने कहा, 'कश्मीर हमेशा से अनियंत्रित अफवाहों के लिए उर्वर भूमि रहा है.' 

'लोगों को इन अफवाहों पर ध्यान नहीं देना चाहिए' 
उन्होंने कहा, 'अगर कोई लाल चौक में छींकता है, तो मुझे राजभवन में बताया जाता है कि वहां एक बम विस्फोट हुआ है. लोगों को इन अफवाहों पर ध्यान नहीं देना चाहिए. सभी तथाकथित सरकारी आदेश जो सोशल मीडिया में प्रसारित हो रहे हैं, अवैध है. यहां हर चीज सही व सामान्य है.' 

राज्यपाल का यह भरोसा ऐसे समय में आया है जब नेशनल कांफ्रेंस सांसद, न्यायमूर्ति (सेवानिवृत्त) हसनैन मसूदी ने लोकसभा में एक ध्यानाकर्षण नोटिस दिया जिसमें केंद्रीय गृह मंत्री से सदन में एक बयान देकर कश्मीर की मौजूदा स्थिति पर हालात साफ करने की मांग की गई है.

अनुच्छेद 35ए बना हुआ है चर्चा का विषय
व्यापक रूप से फैली अफवाहों में केंद्र द्वारा आगामी दिनों में अनुच्छेद 35ए को रद्द करने की योजना का संकेत दिया जा रहा है. यह बीते पखवाड़े से आम कश्मीरियों व राजनीति की चर्चा का मुद्दा बना है. इस दहशत की वजह से स्थानीय लोग जरूरी सामान एकत्र कर रहे हैं, उन्हें डर है कि अगर वास्तव में अनुच्छेद को रद्द कर दिया गया तो लंबे समय तक अशांति रहेगी.