close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

श्रीनगर के लाल चौक पर ग्रेनेड हमला, 1 की मौत, 22 घायल, 2 की हालत गंभीर

पुलिस के मुताबिक 3 आतंकी बाइक पर सवार हो कर आए थे.

श्रीनगर के लाल चौक पर ग्रेनेड हमला, 1 की मौत, 22 घायल, 2 की हालत गंभीर

श्रीनगर: जम्‍मू और कश्‍मीर के केंद्रशासित प्रदेश बनने के बाद श्रीनगर के लाल चौक पर हुए ग्रेनेड ब्‍लास्‍ट में एक बिहारी मुसलमान के मारे जाने की खबर है. मृतक चौक पर खिलौने बेच रहा था. इस हमले में  22 लोगों के घायल हुए हैं जिनमें से 2 की हालत गंभीर बताई जा रही है. प्राथमिक सूचना के मुताबिक घायल होने वाले लोग आम नागरिक हैं. पुलिस और सुरक्षा बल मौके पर पहुंच गए हैं और सर्च ऑपरेशन शुरू कर दिया गया है. आतंकियों ने आम लोगों को निशाना बनाकर ग्रेनेड फेंका. पुलिस के मुताबिक 3 आतंकी बाइक पर सवार हो कर आए थे.

ये हमला ऐसे वक्‍त हुआ है जब 31 अक्‍टूबर को जम्‍मू और कश्‍मीर केंद्रशासित प्रदेशों में विभाजित हो गया है. लद्दाख को भी केंद्रशासित प्रदेश बनाया गया है. जम्मू-कश्मीर के पुनर्गठन के बाद सर्दियों की राजधानी जम्मू में नई व्यवस्था के बीच सोमवार (4 नवंबर) से सरकारी कामकाज शुरू हो गया है. 25 अक्टूबर को गर्मियों की राजधानी श्रीनगर में 6 महीने का अपना कार्यकाल पूरा करने के बाद सिविल सचिवालय श्रीनगर में सरकारी दफ्तर बंद हो गए थे. तब जम्मू कश्मीर में गवर्नर सत्यपाल मालिक की अगुवाई में राष्ट्रपति शासन था. लेकिन 30-31 अक्टूबर की मध्यरात्रि से राज्य को 2 केंद्र शासित क्षेत्रों जम्मू कश्मीर और लद्दाख में बांटकर इन्हें केंद्रीय शासित प्रदेश बना दिया गया है.

LIVE TV

जम्मू कश्मीर सचिवालय पर पहली बार 'एक निशान, एक विधान', शान से लहराया तिरंगा

सोमवार (4 नवंबर) की सुबह जम्मू कश्मीर के उपराज्यपाल जगदीश चंद्र मुर्मू केंद्र शासित जम्मू कश्मीर की सर्दियो की राजधानी नागरिक सचिवालय में जब पहले दिन पहुंचे तो माहौल काफी कुछ बदला बदला सा था. नेताओं की गहमा-गहमी की जगह उनका स्वागत सचिवालय के कर्मचारियों समेत चीफ सेक्रेटरी और प्रशासनिक सचिवों और पुलिस के डीजीपी दिलबाग सिंह ने किया. उपराज्यपाल को गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया जिसकी कमांड महिला पुलिस अधिकारी कर रही थी.

नए जम्मू कश्मीर की नई व्यवस्था में नागरिक सचिवालय मे 2 झंडों की जगह सिर्फ तिरंगा ही लहरा रहा था. राज्यपाल जगदीश चंद्र मुर्मू की गाड़ी पर तिरंगे के साथ अशोक की लाट भी थी. जम्मू कश्मीर में विधानसभा भंग कर दी गई है इसलिए इसमें परिसीमिन आयोग के गठन के बाद जब चुनाब होंगे. तब नेताओ की हलचल दिखेगी लेकिन विधान परिषद का आस्तित्व अब समाप्त कर दिए जाने से उसका जिक्र एक संदर्भ बनकर रह गया है.

नए जम्मू कश्मीर कि नई व्यवस्था में आम लोगों के लिए खास प्रबंध है. आम जनता के लिए दोपहर 1 बजे से शाम साढ़े 4 बजे तक सरकार के दरवाजे खुले रहेंगे. लोग विजिटर पास बनवाकर संबंधित विभाग के अधिकारियों तक अपनी फरियाद पहुंचा सकेंगे.