जेएंडके: हंदवाड़ा में प्रतिबंध में ढील देने पर फिर हुए विरोध-प्रदर्शन

उत्तरी कश्मीर में हंदवाड़ा और इसके पड़ोसी कुपवाड़ा के इलाकों में आज सुबह प्रतिबंध में कुछ घंटों के लिए ढील दिए जाने के बाद सोमवार को फिर विरोध प्रदर्शन शुरू हो जाने पर अधिकारियों को दोबारा कर्फ्यू जैसे प्रतिबंध लगाने पड़े, जबकि घाटी में मोबाइल इंटरनेट सेवाएं बहाल कर दी गई हैं।

जेएंडके: हंदवाड़ा में प्रतिबंध में ढील देने पर फिर हुए विरोध-प्रदर्शन
फाइल फोटो

श्रीनगर : उत्तरी कश्मीर में हंदवाड़ा और इसके पड़ोसी कुपवाड़ा के इलाकों में आज सुबह प्रतिबंध में कुछ घंटों के लिए ढील दिए जाने के बाद सोमवार को फिर विरोध प्रदर्शन शुरू हो जाने पर अधिकारियों को दोबारा कर्फ्यू जैसे प्रतिबंध लगाने पड़े, जबकि घाटी में मोबाइल इंटरनेट सेवाएं बहाल कर दी गई हैं।

एक पुलिस अधिकारी ने कहा कि अधिकारियों ने जिले में कुपवाड़ा कस्बे में तीन घंटे के लिए लोगों की आवाजाही पर लगा प्रतिबंध हटाया और किसी अप्रिय घटना की रिपोर्ट नहीं आने पर प्रतिबंध में ढील और बढ़ा दी गई। उल्लेखनीय है कि पिछले मंगलवार से ही जारी हिंसक विरोध प्रदर्शनों से हंदवाड़ा और कुपवाड़ा प्रभावित हैं जहां हुई हिंसा में पांच लोग मारे जा चुके हैं। कल की शांति के बाद आज हंदवाड़ा, क्रलगुंड और त्रेहगाम इलाकों में फिर विरोध प्रदर्शन किया गया।

पुलिस अधिकारी ने कहा कि अधिकारियों द्वारा सुबह 8 बजे से 11 बजे तक प्रतिबंध में ढील दिए जाने के बाद हंदवाड़ा कस्बे में करीब 150 युवकों ने पत्थरबाजी शुरू कर दी। इन प्रदर्शनकारियों को खदेड़ा गया और इस घटना में किसी के हताहत होने की खबर नहीं है। एक अधिकारी ने कहा कि मंगलवार को सेना के एक जवान द्वारा एक लड़की का कथित यौन शोषण किए जाने को लेकर हुए हिंसक प्रदर्शन के बाद बंद की गई मोबाइल इंटरनेट सेवाएं कल मध्यरात्रि से बहाल कर दी गईं क्योंकि कल विरोध या हिंसा की कोई बड़ी घटना नहीं हुई। मंगलवार को प्रदर्शनकारियों पर सुरक्षा बलों द्वारा चलाई गई गोली में एक महिला समेत तीन लोग मारे गए, जबकि बुधवार को द्रुगमुल्ला में और शुक्रवार को नाथनुसा में हिंसक प्रदर्शनकारियों के खिलाफ सुरक्षा बलों की ओर से की गई एक अन्य कार्रवाई में और दो लोग मारे गए।