close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

PM मोदी को पगड़ी में देख मुस्कुराने लगे EX पीएम मनमोहन सिंह, यूं मिले दोनों नेता

यूं तो बीजेपी और कांग्रेस के नेता एक दूसरे पर जमकर आरोप-प्रत्यारोप करते हैं, लेकिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) और पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह (Manmohan Singh) जिस गर्मजोशी के साथ मिलते दिखे उसे देखकर समझा जा सकता है कि भारतीय लोकतंत्र में नेताओं के बीच रिश्तों की गर्माहट कितनी गहरी है.

PM मोदी को पगड़ी में देख मुस्कुराने लगे EX पीएम मनमोहन सिंह, यूं मिले दोनों नेता
जब पगड़ी में सरदार से मिले देश के 'सरदार'. तस्वीर साभार- ANI

डेरा बाबा नानक (पंजाब): करतारपुर कॉरिडोर (kartarpur corridor) के उद्घाटन के मौके पर भारतीय लोकतंत्र की खूबसूरती का नया रंग देखने को मिला. यूं तो बीजेपी और कांग्रेस के नेता एक दूसरे पर जमकर आरोप-प्रत्यारोप करते हैं, लेकिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) और पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह (Manmohan Singh) जिस गर्मजोशी के साथ मिलते दिखे उसे देखकर समझा जा सकता है कि भारतीय लोकतंत्र में नेताओं के बीच रिश्तों की गर्माहट कितनी गहरी है.

इस मुलाकात की खास बात यह रही कि पूर्व पीएम मनमोहन सिंह (Manmohan Singh) और पीएम मोदी दोनों पगड़ी पहने दिखे. पूर्व पीएम हमेशा की तरह नीली पगड़ी में दिखे तो पीएम मोदी भगवा पगड़ी में दिखे. मीडिया में सामने आई तस्वीरों को देखकर समझ में आ रहा है कि पीएम मोदी को पगड़ी में दिखकर मनमोहन सिंह (Manmohan Singh) मुस्कुरा दिए. इसके बाद पीएम मोदी आगे बढ़कर मनमोहन सिंह (Manmohan Singh) से हाथ मिलाया. दोनों नेताओं के बीच थोड़ी बहुत बातचीत भी हुई. इस मुलाकात के दौरान वहां पंजाब के मुख्यमंत्री और कांग्रेस नेता कैप्टन अमरिंदर सिंह भी मौजूद रहे. दिलचस्प की बात यह है कि वे भी पगड़ी पहनते हैं.

मनमोहन सिंह (Manmohan Singh) के नेतृत्व में करतारपुर गलियारे से पाक पहुंचा पहला सिख जत्था
पाकिस्तान के ऐतिहासिक दरबार साहिब गुरुद्वारे तक जाने वाले करतारपुर गलियारे के जरिए भारतीय श्रद्धालुओं का पहला जत्था करतारपुर पहुंचा. इस जत्थे का नेतृत्व पूर्व भारतीय प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह (Manmohan Singh) कर रहे हैं, जिन्होंने उम्मीद जताई की यह गलियारा भारत और पाकिस्तान के रिश्तों में बेहतरी आएगी. मनमोहन सिंह (Manmohan Singh) को करतारपुर गलियारे के उद्घाटन समारोह के लिए पाकिस्तान सरकार ने विशेष निमंत्रण भेजा था. उनके नेतृत्व में गए जत्थे में पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह भी शामिल हैं.

जीरो लाइन पर पाकिस्तान के टीवी चैनल पीटीवी से बातचीत में मनमोहन सिंह (Manmohan Singh) ने गलियारे को खोले जाने को एक बड़ी बात बताते हुए कहा, 'मुझे पूरी उम्मीद है कि इस गलियारे के खुलने से भारत और पाकिस्तान के रिश्तों में उल्लेखनीय सुधार होगा.'

अमरिंदर सिंह ने कहा कि सभी खुश हैं. सिख समुदाय की बीते 70 सालों से मांग रही है कि पाकिस्तान स्थित उसके धर्मस्थलों तक समुदाय के सदस्यों को जाने दिया जाए. उन्होंने कहा, 'यह शुरुआत है. उम्मीद है कि यह प्रक्रिया जारी रहेगी और कई अन्य गुरुद्वारों के लिए भी इजाजत मिलेगी.' करतारपुर गलियारा पाकिस्तान के नारोवाल जिले में स्थित है. इसकी शुरुआत के मौके पर पाकिस्तान सरकार ने जिले के सभी स्कूलों में छुट्टी का ऐलान किया है.

पीएम मोदी ने अदा किया इमरान का शुक्रिया
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने भारत की भावनाओं का आदर करने के लिए शनिवार को पाकिस्तानी समकक्ष इमरान खान का आभार जताया और करतारपुर कॉरिडोर (kartarpur corridor) के उद्घाटन के बाद पाकिस्तान के दरबार साहिब के लिए तीर्थयात्रियों को झंडी दिखाई. सात दशकों में अपने तरह के पहले अवसर में मोदी ने दरबार साहिब की यात्रा के लिए तीर्थयात्रियों के पहले 500 के समूह को रवाना किया. दरबार साहिब को करतारपुर साहिब के नाम से पुकारते हैं. यह पाकिस्तान के पंजाब के नारोवाल जिले में स्थित है.

मोदी ने करतारपुर कॉरिडोर (kartarpur corridor) के उद्घाटन समारोह से पहले इंटीग्रेटेड चेक पोस्ट के उद्घाटन से पहले कहा, 'गुरुद्वारा दरबार साहिब की यात्रा करना अब आसान होगा.' यह कॉरिडोर पंजाब के गुरदासपुर जिले के डेरा बाबा नानक गुरुद्वारे से पाकिस्तान की सीमा में स्थित करतारपुर साहब गुरुद्वारा को जोड़ता है. यह कार्यक्रम पहले सिख गुरु नानक देव की 550वीं जयंती से पहले आयोजित हुआ है. गुरु नानक देव की जयंती 12 नवंबर को है.

उन्होंने कहा, 'मैं कॉरिडोर के निर्माण से जुड़े सभी लोगों का आभार प्रकट करता हूं.' उन्होंने यह भी कहा कि वह भारत की भावनाओं को समझने, उसका आदर करने व तय समय सीमा के तहत करतारपुर कॉरिडोर (kartarpur corridor) के निर्माण के लिए इमरान खान का भी आभार प्रकट करते हैं. भगवा रंग की पगड़ी पहने मोदी ने शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी (एजीपीसी) द्वारा आयोजित कार्यक्रम में कहा कि कॉरिडोर व इंटीग्रेटेड चेकपोस्ट हर रोज हजारों लोगों को सेवाएं देगा.

मोदी ने कहा, 'गुरु नानक देव की शिक्षाओं का विभिन्न भाषाओं में अनुवाद हो रहा है, जिससे की अगली पीढ़ी भी उससे समृद्ध हो. हमें गुरु नानक देव के उपदेशों को आत्मसात करना चाहिए, जो अभी भी प्रासंगिक है.'

उन्होंने कहा, 'गुरु नानक देव से गुरु गोबिंद सिंह तक हर सिख गुरु ने देश की एकता, रक्षा व सुरक्षा के लिए प्रयास किया. इस परंपरा को सिखों द्वारा स्वतंत्रता संघर्ष और उसके बाद देश की रक्षा के लिए आगे बढ़ाया है.' उन्होंने गुरु नानक देव के संदेश के प्रसार में सहायता के लिए यूनेस्को का भी आभार जताया.इस मौके पर उन्होंने विशेष सिक्का व डाक टिकट भी जारी किया.

तीर्थयात्रियों के पहले समूह को हरी झंडी दिखाने से पहले मोदी व दूसरे नेताओं ने 'लंगर' में भाग लिया. तीर्थयात्रियों के जत्थे में पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह (Manmohan Singh) व पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह भी शामिल थे.

ये वीडियो भी देखें: