कश्मीर के 10 साल के रैपर ने जीता सबका दिल, यूट्यूब पर वीडियो को मिले लाखों व्यूज

पुलवामा के छोटे से गांव में रहने वाले 10 साल के अरफात मोहिदीन भट्ट का नाम आज पुलवामा में रहने वाले हर युवा की जुबान पर है. 

कश्मीर के 10 साल के रैपर ने जीता सबका दिल, यूट्यूब पर वीडियो को मिले लाखों व्यूज

पुलवामा: आतंकवाद ग्रस्त पुलवामा में दस साल का रैपर लाखों लोगों का दिल जीत चुका है. कुछ ही समय में यूट्यूब पर दो लाख व्यूअर्स हासिल करने वाले इस बच्चे का लक्ष्य है बॉलीवुड जाकर नाम कमाना. दक्षिणी कश्मीर का पुलवामा जो अक्सर खबरों में रहता है कभी आतंकी हमले तो कभी मुठभेड़ की खबरें ही इस जिले से मिलती हैं. आज यहां से एक ऐसी खबर आई है जो इन हिंसक खबरों से अलग संगीत से जुड़ी खबर है.

युवा रैपर की केवल एक ही इच्छा
आतंकवाद से घिरे जिला पुलवामा में, एक दस साल का लड़का जिस तरह  संगीत और रैप की दुनिया में अपना नाम रहा है, उससे वह लाखों दिल जीत रहा है. इस युवा रैपर की केवल एक ही इच्छा है और वह है बॉलीवुड में अपनी जगह बनाना.

पुलवामा के छोटे से गांव में रहने वाले 10 साल के अरफात मोहिदीन भट्ट का नाम आज पुलवामा में रहने वाले हर युवा की जुबान पर है. अरफात ने भी अपने टैलेंट को बिना छुपाए अपनी पूरी क्षमता से इसे लोगों तक पहुंचाया है. अरफात मानते हैं कि हर किसी में कोई ना कोई हुनर होता है. बस उसे बाहर निकलने की जरूरत है. वह चाहते हैं कि पुलवामा ही नहीं, बल्कि पूरे कश्मीर का नाम उससे रोशन है.

अरफात मोहिदीन भट्ट अपने संगीत वीडियो के साथ ऑनलाइन रिपल बना र​हे हैं. इस तरह के रैप वीडियो, विशेष रूप से इस उम्र के लड़के का इतना शानदार होना, पूरे कश्मीर को चौंका रहा है. धीरे-धीरे कश्मीर सहित यह लड़का देशभर में लोकप्रिय हो रहा है.

यूट्यूब पर रैपर्स को देखकर प्रेरित हुए
अरफात कहते हैं, 'मेरे लिरिक्स हिलाल मामू लिखते हैं. मुझे रैपिंग अच्छी लगती है. टैलेंट है मेरा. हर किसी का कोई न कोई टैलेंट होता है. मैंने इसे छुपाया नहीं और छुपाना भी नहीं चाहिए. मैंने लोगों तक अपना वीडियो पहुंचाया और मुझे उनका बहुत प्यार मिला है.'

अरफात कहते हैं, 'घरवालों का भी बहुत सपोर्ट मिला. मेरा सपना है कि मैं बॉलीवुड जाऊं. मुझे मेरे पापा बहुत सपोर्ट करते हैं.'

अरफात यूट्यूब पर रैपर्स को देखकर प्रेरित हुए हैं. उनकी मां भी उन्हें अपने बॉलीवुड के सपने को साकार करने के लिए प्रोत्साहित कर रही हैं.

लेकिन अरफात का सबसे बड़ा सहारा और सपोर्ट हैं उसके मामा हिलाल अहमद, जो खुद एक कलाकार हैं. हालातों के कारण वो अपना ख्वाब पूरा नहीं कर सके. लेकिन जब उन्हें अरफात के हुनर के बारे में पता चला तो उन्होंने अपने ख्वाब उसमें देखने शुरू किया. अब वह अरफात के लिए लिरिक्स लिखते हैं, और जो अरफात लिखता है उसे ठीक करते हैं.

हिलाल ने बताया कि आज अरफात को देखने गांव के ही नहीं, बल्कि पूरे पुलवामा के युवा आते हैं. अरफात पूरी दुनिया में अपने वीडियो के जरिए मशहूर है. उसे पंजाब से म्यूजिक एलबम के लिए ऑफर भी आयी है. मगर कोविड के कारण वो जा नहीं पाया.

चौथी कक्षा के छात्र अरफात अपनी पढ़ाई और संगीत के बीच संतुलन बनाकर रैप को आगे बढ़ा रहे हैं. अभी तक ​अरफात ने यू ट्यूब पर दस वीडियो अपलोड किए हैं. 

ये भी देखें-