Breaking News
  • देश में आत्‍मनिर्भर भारत सप्‍ताह की शुरुआत
  • दूसरों की ताकत पर निर्भर नहीं रहना चाहिए: रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह
  • कश्‍मीर: शाह फैसल ने अपना दल छोड़ा, प्रशासिनक क्षेत्र में वापस लौटने की अटकलें

कश्मीर में अलकायदा से जुड़े जाकिर मूसा समूह के 3 आतंकी ढेर

आतंकवादियों के साथ मुठभेड़ खत्म होने के बाद वहां बड़ी संख्या में स्थानीय निवासी जुट गए और सुरक्षा बलों पर पथराव करने लगे.

कश्मीर में अलकायदा से जुड़े जाकिर मूसा समूह के 3 आतंकी ढेर
अल कायदा ने जाकिर मूसा को कश्मीर में अपने संबद्ध गुट का मुखिया घोषित किया था. (फोटो में भारतीय सेना के जवान)

श्रीनगर: जम्मू एवं कश्मीर के पुलवामा जिले में बुधवार (9 अगस्त) को सुरक्षा बलों ने अल कायदा के जाकिर मूसा गुट के तीन आतंकवादियों को मार गिराया. पुलिस ने बताया कि पुलवामा जिले के गुलाब बाग गांव में मुठभेड़ के दौरान सुरक्षा बलों ने आतंकवादियों को मार गिराया. इलाके में आतंकवादियों की मौजूदगी के बारे में सटीक सूचना पर पुलिस ने राष्ट्रीय राइफल्स और केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) के साथ त्राल के गुलाब बाग इलाके की घेरबंदी कर तलाशी अभियान शुरू किया.

पुलिस अधिकारी ने कहा, "जब आतंकवादियों को चुनौती दी गई, तो उन्होंने सुरक्षा बलों पर गोलीबारी शुरू कर दी, जिसके बाद दोनों ओर से मुठभेड़ शुरू हो गई. अभियान में तीन आतंकी मारे गए हैं." मारे गए आतंकवादियों की पहचान त्राल के नौडाल वासी जाहिद बट, बाटागुंड त्राल वासी मोहम्मद इशाक बट और बागी त्रिच निवासी मोहम्मद अशरफ डार के रूप में की गई है. तीनों आतंकवादी पुलवामा जिले के ही रहने वाले थे. पुलिस की ओर से जारी एक वक्तव्य में कहा गया है कि मुठभेड़ स्थल से दो एके-47 राइफल और एक पिस्तौल बरामद हुई है.

मोहम्मद इशाक बट पर पुलिसकर्मियों को निशाना बनाते हुए गोलीबारी करने का आरोप था, जिसमें हेड कांस्टेबल अब्दुल गनी बट गंभीर रूप से घायल हो गए थे. इशाक बट पर कुछ पुलिस अधिकारियों के साथ बंदूक की नोक पर मारपीट और प्रताड़ित कर पूरे घटनाक्रम का वीडियो सोशल नेटवर्क पर शेयर करने का भी आरोप है. जाहिद बट ने इससे पहले सीआरपीएफ की एक टीम पर हथगोला फेंका था. पुलिस अधिकारी ने बताया, "इशाक और जाहिद त्राल बाजार में गोलीबारी की एक घटना में भी शामिल थे, जिसमें तीन व्यक्ति घायल हो गए थे. दक्षिण कश्मीर में कई ग्रेनेड हमलों में भी वे शामिल रहे."

आतंकवादियों के साथ मुठभेड़ खत्म होने के बाद वहां बड़ी संख्या में स्थानीय निवासी जुट गए और सुरक्षा बलों पर पथराव करने लगे. सुरक्षा बलों ने भीड़ को तितर-बितर करने के लिए गोलीबारी की, जिसमें एक किशोर गंभीर रूप से घायल हो गया और बाद में इलाज के दौरान अस्पताल में उसकी मौत हो गई. अल कायदा ने जाकिर मूसा को कश्मीर में अपने संबद्ध गुट 'अंसार गजावतुल हिंद' का मुखिया घोषित किया था.