close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

जम्मू-कश्मीर: CRPF कर्मी से हाथ मिलाते बच्चे की तस्वीर वायरल, लोग बोले, 'यह वास्तविक भारत है'

जम्मू एवं कश्मीर में हालात सामान्य हैं. जम्मू से धारा 144 हटा ली गई है. है. सोमवार को शांतिपूर्ण माहौल में ईद का त्योहार मना सकें, इसके लिए राज्य प्रशासन के साथ ही सुरक्षा एजेंसियों ने पुख्ता इंतजाम किए हैं. 12 अगस्त से पहले नागरिकों पर लगाए गए प्रतिबंध हटाए जाने की संभावना है.

जम्मू-कश्मीर: CRPF कर्मी से हाथ मिलाते बच्चे की तस्वीर वायरल, लोग बोले, 'यह वास्तविक भारत है'
कई ट्विटर यूजर्स ने इस प्यारी तस्वीर तस्वीर की सराहना की.

नई दिल्ली: जम्मू एवं कश्मीर में हालात सामान्य हैं. जम्मू से धारा 144 हटा ली गई है. है. सोमवार को शांतिपूर्ण माहौल में ईद का त्योहार मना सकें, इसके लिए राज्य प्रशासन के साथ ही सुरक्षा एजेंसियों ने पुख्ता इंतजाम किए हैं. 12 अगस्त से पहले नागरिकों पर लगाए गए प्रतिबंध हटाए जाने की संभावना है.

इसी बीच, जम्मू एवं कश्मीर में सीआरपीएफ की एक महिला कर्मी से हाथ मिलाते एक बच्चे की तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है, और हर तरफ इसकी सराहना की जा रही है. इस फोटो को ट्विटर पर हजारों बार लाइक किया जा चुका है और लगभग 700 बार रीट्वीट किया जा चुका है. कई ट्विटर यूजर्स ने इस प्यारी तस्वीर तस्वीर की सराहना की.

एक ट्विटर यूजर ने कहा, "यह वास्तविक भारत है. हम इस भावना को सलाम करते हैं. समय कश्मीर में जरूरी बदलाव लाएगा." एक अन्य यूजर ने केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) की प्रशंसा करते हुए ट्वीट किया, "यह तस्वीर हमें बहुत समय तक याद रहेगी. सीआरपीएफ के महिला और पुरुष कर्मियों को सलाम."

 

 

इसके बाद सीआरपीएफ इंडिया ने एक और तस्वीर शेयर की, जिसमें बच्चा महिला सीआरपीएफ कर्मी को सलाम कर रहा है. गौर करने वाली बात है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हाल ही में नए, विकसित और समृद्ध जम्मू एवं कश्मीर के लिए अपना विजन बताया था.

 

अनुच्छेद 370 खत्म करने के बाद पहली बार भाषण देते हुए उन्होंने कहा कि अनुच्छेद 370 ने जम्मू एवं कश्मीर के लोगों को पूरे देश के लिए बनाए गए केंद्रीय कानून का लाभ लेने से रोक रखा था. शिक्षा का अधिकार (आरटीई) अधिनियम के बारे में बात करते हुए उन्होंने सवाल किया कि राज्य के बच्चों को इसके लाभों से क्यों वंचित रखा गया.

(इनपुट IANS से)