close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

PM मोदी प्रवासी कश्मीरी पंडितों से बोले- हम सभी मिलकर नए कश्मीर का निर्माण करेंगे

पीएम मोदी ने मुलाकात के दौरान कहा कि कश्मीरी पंडितों ने एक समुदाय के रूप में जो दर्द झेला हैं, उसे वह समझते हैं.जीकेपीडी ने प्रधानमंत्री के हवाले से कहा, "आप, कश्मीरी पंडित और हम सभी मिलकर नए कश्मीर का निर्माण करेंगे." 

PM मोदी प्रवासी कश्मीरी पंडितों से बोले- हम सभी मिलकर नए कश्मीर का निर्माण करेंगे
फोटो साभार: PMOIndia/Twitter

नई दिल्ली: अमेरिका के ह्यूस्टन (Huston) में आज रात भारतीयों का सबसे बड़ा शो हाउडी मोदी (Howdy Modi) शुरू होने वाला है. अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) व्हाइट हाउस से निकल चुके हैं. वह थोड़ी देर में ह्यूस्टन के लिए रवाना होंगे. ह्यूस्टन के NRG स्टेडियम में पीएम नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) 50 हजार भारतीय अमेरिकी समुदाय को संबोधित करेंगे. इससे पहले जम्मू-कश्मीर को विशेष राज्य का दर्जा देने वाले अनुच्छेद 370 को खत्म करने के भारत सरकार के फैसले का प्रवासी कश्मीरी पंडितों ने समर्थन किया है.

संगठन 'द ग्लोबल कश्मीरी पंडित डायस्पोरा' (जीकेपीडी) ने कहा कि वह इस बात को लेकर जागरूकता फैलाने के लिए प्रधानमंत्री और भारत का स्पष्ट रूप से समर्थन करेगा कि 370 के हटने से कश्मीर में मानवाधिकारों को बढ़ावा मिलेगा. ह्यूस्टन में रविवार को भारतीय प्रधानमंत्री के बहुप्रतीक्षित 'हाउडी मोदी' कार्यक्रम से पहले मोदी ने कश्मीरी पंडित समुदाय के 17 सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल से मुलाकात की. जीकेपीडी ने अमेरिका के सिविल सोसाइटी के सदस्यों और समुदाय के संगठनात्मक प्रमुखों के एक समूह की अगुवाई की. उन्होंने मोदी को एक ज्ञापन भी सौंपा.

मोदी ने मुलाकात के दौरान कहा कि कश्मीरी पंडितों ने एक समुदाय के रूप में जो दर्द झेला हैं, उसे वह समझते हैं. 90 के दशक की शुरुआत में आतंकवाद के चरम पर होने के दौरान इस समुदाय को कश्मीर घाटी से बाहर जाने पर मजबूर कर दिया गया था. जीकेपीडी ने प्रधानमंत्री के हवाले से कहा, "आप, कश्मीरी पंडित और हम सभी मिलकर नए कश्मीर का निर्माण करेंगे."

अनुच्छेद 370 को निरस्त करने के फैसले को साहसिक बताते हुए संगठन के अंतर्राष्ट्रीय समन्वयक, सुरिंदर कौल ने आशा व्यक्त की कि लंबे समय से चली आ रही न्याय की मांग और घाटी में एक सुरक्षित और स्थायी मातृभूमि की मांग पूरी होगी.