ग्रेटर नोएडा में केन्या की छात्रा पर हमला, ऑटो से उतारकर पिटाई का आरोप

यूपी के ग्रेटर नोएडा में एक केन्या मूल की छात्रा को पीटने का मामला सामने आया है. बुधवार को कुछ अज्ञात लोगों ने केन्या मूल की एक छात्रा पर हमला कर दिया. घायल छात्रा को इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती करवाया गया है.

ग्रेटर नोएडा में केन्या की छात्रा पर हमला, ऑटो से उतारकर पिटाई का आरोप

ग्रेटर नोएडा: यूपी के ग्रेटर नोएडा में एक केन्या मूल की छात्रा को पीटने का मामला सामने आया है. बुधवार को कुछ अज्ञात लोगों ने केन्या मूल की एक छात्रा पर हमला कर दिया. घायल छात्रा को इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती करवाया गया है.

और पढ़ें: ग्रेटर नोएडा में अफ्रीकियों पर हमला, सुषमा ने की योगी से बात

ऑटो रिक्शा से उतारकर पीटने का आरोप

जानकारी के मुताबिक केन्या मूल की इस छात्रा पर हमला तब हुआ जब छात्रा ऑटो रिक्शा में सवार होकर जा रही थी. इस बीच नॉलेज पार्क के पास कुछ लोगों ने ऑटो रुकवाकर छात्रा को नीचे उतारा और पीटने लगे. छात्रा केन्या की रहने वाली बताई जा रही है. छात्रा को पेट और सिर में चोट आई है. घटना के बाद पुलिस ने मामला दर्ज कर आरोपियों की तलाश शुरू कर दी है साथ ही अस्पताल पहुंचकर उसके दोस्तों से घटना की जानकारी ली. बताया जा रहा है कि इलाज के बाद छात्रा को डिस्चार्ज कर दिया गया. 

और पढ़ें: नाइजीरियाई छात्रों पर अटैक, पांच लोग गिरफ्तार

 

चार नाईजीरियाई छात्रों पर भी हुआ था हमला

उत्तर प्रदेश सरकार ने ग्रेटर नोएडा में चार नाईजीरियाई छात्रों पर हुए हमले की घटना को गंभीरता से लेते हुए इसकी समुचित जांच के आदेश दिये हैं. प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह ने कहा कि मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ ने ग्रेटर नोएडा में नाईजीरियाई छात्रों पर हुए हमले को गंभीरता से लिया है. पुलिस से कहा गया है कि वह इस मामले की समुचित जांच करके जल्द से जल्द सरकार को रिपोर्ट दे. उन्होंने बताया कि केन्द्र सरकार ने भी इस मामले में रिपोर्ट मांगी है, जिसे शीघ्र उपलब्ध करा दिया जाएगा. सिंह ने कहा कि नाईजीरियाई छात्रों पर हुए हमले के दोषी लोगों के खिलाफ सख्त कानूनी कार्रवाई की जाएगी.

सुषमा स्वराज ने मांगी थी यूपी सरकार से रिपोर्ट

इससे पहले, विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने नोएडा में कक्षा 12वीं के छात्र की मौत में कथित भूमिका के लिए कुछ अफ्रीकी नागरिकों की गिरफ्तारी पर आज उत्तर प्रदेश सरकार से सूचना मांगी. सुषमा ने एक ट्वीट में कहा, ‘मैंने नोएडा में अफ्रीकी छात्रों पर कथित हमले के बारे में उत्तर प्रदेश सरकार से एक रिपोर्ट मांगी है.’ मीडिया की खबरों के अनुसार पुलिस ने नाइजीरिया के पांच छात्रों को कक्षा 12वीं के एक छात्र की मौत के मामले में उनकी भूमिका के लिए उठाया था. छात्र की 25 मार्च को कथित रूप से मादक पदार्थ के अधिक इस्तेमाल से मौत हो गई थी.

आक्रोशित भीड़ ने किया था हमला

चंद दिन पहले सैकड़ों की संख्या में लोग मनीष की मौत के लिए जिम्मेदार लोगों की गिरफ्तारी की मांग को लेकर परी चौक और अंसल प्लाजा पर कैंडल मार्च निकाल रहे थे. इसी बीच वहां से गुजर रहे कुछ नाइजीरियाई छात्रों पर आक्रोशित भीड़ ने हमला कर दिया.  प्रदर्शनकारियों का आरोप है कि स्टडी वीजा लेकर गेट्रर नोएडा में पढ़ने आये नाइजीरियाई छात्र मादक पदार्थो का कारोबार कर रहे हैं. घटना के बाद स्थानीय लोगों में नाइजीरियाई छात्रों के खिलाफ खासा रोष है. लोगों के गुस्से को देखते हुए पुलिस ने एहतियातन उन सोसाइटी के बाहर पुलिस बल तैनात कर दिया है जहां अफ्रीकी मूल के छात्र रहते हैं.