जानिए कौन हैं प्रदीप शर्मा, जिन्होंने फिर से उधेड़ दी हैं IPL में सट्टेबाजी की परतें

आईपीएल में सट्टेबाजी का खुलासे के साथ ही एक शख्स फिर से चर्चा में है, वह हैं मुंबई पुलिस के इंस्पेक्टर और इस केस की जांच कर रही टीम में शामिल प्रदीप शर्मा.

जानिए कौन हैं प्रदीप शर्मा, जिन्होंने फिर से उधेड़ दी हैं IPL में सट्टेबाजी की परतें
प्रदीप शर्मा के नाम पर 113 से ज्यादा एनकाउंटर दर्ज हैं. फोटो : डीएनए

नई दिल्ली : लगता है सट्टेबाजी का जिन फिर से बंद बोतल से बाहर निकल आया है. हालांकि आईपीएल खत्म हो चुका है, लेकिन ताजा खुलासे ने एक बार फिर से क्रिकेट की दुनिया में इस बड़ी लीग पर फिर से कई सवाल खड़े कर दिए है. इस खुलासे के साथ ही एक शख्स फिर से चर्चा में है, वह हैं मुंबई पुलिस के इंस्पेक्टर और इस केस की जांच कर रही टीम में शामिल प्रदीप शर्मा. प्रदीप शर्मा ने आईपीएल सट्टेबाजी में खुलासा करते हुए कहा, सट्टेबाजी रैकेट से सोनू जालान का सालाना टर्नओवर करीब 100 करोड़ है. जालान के नाम पर कई मामले दर्ज हैं. पाकिस्तान, अफगानिस्तान, सउदी अरब, दक्षिण अफ्रीका समेत कई देशों में उसका सिंडीकेट है. वहीं, भारत में अहमदाबाद, दिल्ली, जयपुर, कोलकाता, चंडीगढ़ में उसका गैंग एक्टिव है.

मुंबई पुलिस में प्रदीप शर्मा को एनकाउंटर स्पेशलिस्ट के नाम से जाना जाता है. शर्मा करीब 25 सालों से मुंबई पुलिस में हैं. इस दौरान उन्होंने अंडरवर्ल्ड से जुड़े 113 गैंगस्टर्स का एनकाउंटर किया. हालांकि इस दौरान कई बार वह विवादों में भी रहे. इसमें से एक बड़ा विवाद उनके निलंबन से जुड़ा है. प्रदीप शर्मा को अगस्त 2008 में पुलिस सर्विस से निलंबित कर दिया गया था. तब महाराष्ट्र सरकार ने शर्मा पर संविधान के सेक्शन 311 का इस्तेमाल किया था. इस दौरान उन्हें कई विभागीय जांच और कार्रवाई का सामना करना पड़ा. इतना ही नहीं, एनकाउंटर के अलावा शर्मा पर अंडरवर्ल्ड से सांठगांठ के भी आरोप लगे.

ZEE Exclusive: IPL के साथ इंटरनेशनल मैच भी थे फिक्स, सट्टेबाज सोनू जालान का बड़ा खुलासा

2006 में लखन भैया फेक एनकाउंटर केस में भी प्रदीप शर्मा का नाम आया. 2010 में इसी केस में उनकी गिरफ्तारी भी हुई. हालांकि मुंबई कोर्ट ने उन्हें जुलाई 2013 में बरी कर दिया. इसके बाद महाराष्ट्र सरकार ने उन्हें बहाल कर दिया.  लंबे समय तक निलंबित रहने के बाद प्रदीप शर्मा ने फिर से बड़ा धमाका किया. उन्होंने सितंबर 2017 में दाऊद इब्राहिम के भाई इकबाल कासकर को हसीना पारकर के घर से गिरफ्तार कर लिया.

बुकी सोनू जालान अपने ही ग्राहकों का करता था स्टिंग, बॉलीवुड से निकला कनेक्शन

1983 बैच के पुलिस ऑफिसर प्रदीप शर्मा का सर्विस रिकॉर्ड विवादों से भरा रहा है.
प्रदीप शर्मा ने 1983 में बतौर सब इंस्पेक्टर मुंबई पुलिस ज्‍वॉइन की. इसके बाद इनका ट्रांसफर स्पेशल ब्रांच में हो गया.
उस समय दाऊद इब्राहिम, छोटा राजन जैसे अपराधी पुलिस की हिट लिस्ट में थे. प्रदीप शर्मा ने उस समय दो कुख्यात बदमाशों का एनकाउंटर किया था.
बाद में विवादों में नाम आने पर प्रदीप शर्मा को 4 साल की जेल भी काटनी पड़ी. बाद में कोर्ट ने उन्हें बरी किया.