Kolkata: नाक के रास्ते दिमाग में पहुंची सुई, डॉक्टरों ने ऐसे बचाई शख्स की जान

सर्जरी के बाद मरीज ठीक हो गया और तीन दिन बाद उसे अस्पताल से छुट्टी मिल गई. डॉक्टरों के अनुसार, इस केस में सर्जरी जरूरी थी. फौरन ऑपरेशन नहीं होता तो सुई से फैला संक्रमण उसकी नाक से दिमाग तक फैल सकता था. 

Kolkata: नाक के रास्ते दिमाग में पहुंची सुई, डॉक्टरों ने ऐसे बचाई शख्स की जान
प्रतीकात्मक तस्वीर

कोलकाता: शहर के एक निजी न्यूरोलॉजिकल अस्पताल के डॉक्टरों ने बेहद मुश्किल सर्जरी को पूरा करते हुए 50 साल के एक शख्स की जान बचाई है. ऑपरेशन के दौरान पीड़ित के दिमाग में पहुंची सुई को निकालने के बाद उसे नई जिंदगी दी गई. इंस्टीट्यूट ऑफ न्यूरोसाइंसेज कोलकाता (INK) के एक सीनियर डॉक्टर ने इस बारे में जानकारी दी. उन्होंने कहा कि जिस सर्जरी से ये सुई निकाली गई है, वो आमतौर पर ब्रेन ट्यूमर या मस्तिष्क का असामान्य ट्यूमर हटाने के लिए की जाती है.

नाक से बह रहा था खून

डॉक्टरों के मुताबिक पीड़ित शख्स नशे की हालत में नाक से खून बहने की शिकायत के साथ आया था. मामले की गंभीरता को देखते हुए उसे अस्पताल में भर्ती किया गया. ज्यादा जानकारी न होने की वजह से हमने उसकी खोपड़ी का सीटी स्कैन करने का फैसला किया. रिपोर्ट आई तो पता चला कि एक सुई उसकी नाक के रास्ते से होते हुए दिमाग में पहुंच गई है. नाक के रास्ते मेटल की सुई होने के बावजूद, वो शख्स पूरे होशोहवास में था. 

सुई कैसे गई ये साफ नहीं

हालांकि डॉक्टरों ने ये भी कहा कि फिलहाल ये पता नहीं चल पाया है कि आखिर ये सुई उसकी नाक से अंदर कैसे चली गई. उन्होंने ये भी बताया कि सुई की सटीक जगह का पता लगाने के लिए एंजियोग्राम करना पड़ा. उसके बाद हमने खोपड़ी की सर्जरी करने का फैसला किया. सर्जरी करने वाली टीम में शामिल रहे डॉक्टर ने कहा कि पहले मरीज की खोपड़ी की सर्जरी करके नाक से सुई निकाली गई.

ये भी पढ़ें- Delhi Police ने Kala Jatheri और Minj के लिए चला Operation D-24, पढ़िए कामयाबी की Inside story

सर्जरी करने वाली टीम में डॉ. आदित्य मंत्री, डॉ. अमित कुमार घोष, डॉ. क्रिस्टोफर गर्बर और डॉ चंद्रमौली बालासुब्रमण्यम शामिल थे.

LIVE TV

 

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.