ऑपरेशन ऑल आउट : BJP-PDP गठबंधन टूटते ही बना ली गई 180 आतंकियों की 'हिट लिस्ट'

जम्‍मू-कश्‍मीर में आतंक फैलाने वाले आतंकियों को चुन-चुन कर अंजाम तक पहुंचाने में जुटेंगे सुरक्षाबल. उत्‍तरी और दक्षिणी कश्‍मीर में सुरक्षाबलों ने शुरू किया सर्च ऑपरेशन.

ऑपरेशन ऑल आउट : BJP-PDP गठबंधन टूटते ही बना ली गई 180 आतंकियों की 'हिट लिस्ट'
घाटी से लापता 110 से अधिक नौजवानों की तलाश में जुटे हैं सुरक्षाबलों (फाइल फोटो)

नई दिल्‍ली : जम्‍मू-कश्‍मीर में काबिज बीजेपी और पीडीपी गठबंधन की सरकार गिरते ही केंद्रीय सुरक्षाबल फुल एक्‍शन में आ गया है. सुरक्षाबलों ने घाटी में सक्रिय आतंकियों की नई हिट लिस्‍ट तैयार की है. इस लिस्‍ट में कुल 180 आतंकियों के नाम शामिल किए गए हैं. जिसमें 107 आतंकी हिजबुल से जुड़े हैं. वहीं इस लिस्‍ट में घाटी में आतंक फैलाने वाले 50 विदेशी आतंकियों के नाम को भी शामिल किया गया है. सुरक्षाबलों को 40 ऐसे नामों के बारे में भी पता चला है, जिन्‍होंने रमजान के महीने के दौरान आतंक का रास्‍ता अख्तियार कर लिया है. सुरक्षाबलों ने अपने नए ऑपरेशन प्‍लान के तहत लिस्‍ट में शामिल 180 आतंकियों की तलाश में व्‍यापक स्‍तर पर सर्च ऑपरेशन शुरू कर दिया है. इन आतंकियों को चुन-चुन कर अंजाम तक पहुंचाने के लिए सुरक्षाबलों ने अपनी पूरी ताकत लगाने की योजना तैयार कर ली है. जिसके तहत दक्षिण और उत्‍तरी कश्‍मीर में छिपे आतंकियों को उनके अंजाम तक पहुंचाया जाएगा. सुरक्षाबलों की यह भी कोशिश है कि विदेशी आतंकियों के बहकावे में आकर आतंक का रास्‍ता अख्तियार करने वाले नौजवानों को किसी तरह वापस समाज की मुख्‍य धारा में वापस लाया जाए. वहीं कश्‍मीरी नौजवानों को बरगलाकर हथियार थमाने वाले विदेशी आतंकियों को चुन-चुन कर खत्‍म किया जाए.

यह भी पढ़ें: बांदीपुरा में सेना ने चार आतंकियों को किया ढेर, एक जवान हुआ शहीद

बीते पांच महीनों में घाटी से लापता हुए 150 से अधिक नौजवान
सूत्रों के अनुसार जम्‍मू-कश्‍मीर में बीते 5 महीनों में घाटी के विभि‍न्‍न गांवों से करीब 150 से अधिक नौजवान लापता है. आशंका जताई जा रही है कि घाटी से लापता हुए इन नौजवानों ने आतंकियों के बहकावे में आकर आतंक का रास्‍ता अख्तियार नहीं कर लिया है. सुरक्षाबल से जुड़े वरिष्‍ठ अधिकारी के अनुसार घाटी से लापता हुए 150 से अधिक नौजवानों में अब तक सिर्फ 50 से 60 के परिजनों ने गुमशुदगी की रिपोर्ट पुलिस में दर्ज कराई है. वहीं इस बाबत, इंटेलीजेंस का मानना है कि घाटी से लापता हुए युवकों की संख्‍या इससे कहीं अधिक है. घाटी में करीब 90 से 100 के बीच में ऐसे युवक हैं, जिनके लापता होने के बावजूद उनके परिजनों ने उनकी गुमशुदगी की रिपोर्ट पुलिस में दर्ज नहीं कराई है. सुरक्षाबलों को शक है कि लापता युवकों के परिजनों के पता है कि उसके घर के बच्‍चे कहां, किसके साथ और किन परिस्थितियों में हैं. लिहाजा, सुरक्षाबलों इन परिवारों से संपर्क कर भावनात्‍मक तरीके से बच्‍चों की जानकारी निकालने की कोशिश कर रहे हैं.

यह भी देखें:  Video: कहीं मिलती है आंखें निकालने की धमकी तो कोई देता है भद्दी गालियां, देखिए घाटी में क्‍या है जवानों की दशा

इन इलाकों से लापता हुए सर्वाधिक नौजवान
सूत्रों के अनुसार बीते दिनों सर्वाधिक बच्‍चे बारामुला, शोपियां, बांदीपुरा, पुलवामा और अनंतनाग से लापता हैं. उल्‍लेखनीय है कि सुरक्षाबलों के ऑपरेशन ऑल-आउट में अब तक इन्‍हीं इलाकों में लगातार कड़ी कार्रवाई की जा रही थी. इन इलाकों में मुठभेड़ के दौरान अब तक करीब 33 आतंकियों को मार गिराया गया है. जिसमें शोपियां में सर्वाधिक 21 आतंकियों को मुठभेड़ में मारा गया है. वहीं बारामुला में 5 और अनंतनाग में करीब 7 आतंकियों को मार गिराया गया है. घाटी में ऑपरेशन ऑल-आउट पर विराम लगने से पहले तक इन इलाकों में सुरक्षाबल आतंकियों की तलाश में लगातार सर्च ऑपरेशन चला रहे थे. घाटी में सीजफायर घोषित होने के साथ ही आतंकियों ने नए लड़ाकों की भर्ती और उनके प्रशिक्षण का अभियान तेज दिया था. सूत्रों के अनुसार सीजफायर के दौरान घाटी में सक्रिय तमाम आतंकियों को एकजुट होने का मौका मिल ही गया था, साथ ही अपने लिए नए ठिकानों को तैयार करने व नए मददगार बनाने का मौका भी  मिल गया था.

यह भी पढ़ें: विस्‍फोट की गूंज दिल्‍ली तक पहुंचाना चाहते थे आतंकी, CRPF ने आतंकियों की बड़ी साजिश को किया नाकाम

हर गांव से दो युवकों को आतंकी बनाने का षणयंत्र!
सुरक्षाबल के वरिष्‍ठ अधिकारी के अनुसार मुठभेड़ में मारे गए आतंकियों को दफनाने के दौरान आतंकी गिरोह की कोशिश होती है कि वह उस गांव तक जरूर पहुंचे, जहां का मारा गया है या जिस गांव का आतंकी रहने वाला है. गांव पहुंचने के बाद आतंकी गोलीबारी कर मारे गए आतंकी को सम्‍मान देने की कोशिश करते रहे. मारे गए आतंकियों को सम्‍मान देने के लिए गांव में सार्व‍जनिक सभा बुलाने के बाद अंधाधुंध फायरिंग दी जाती थी. इस दौरान गांव में फैली संवेदना का फायदा उठाकर आतंकी गांववालों से दो युवकों को उनके साथ भेजने के लिए दबाव बनाते हैं. सूत्रों के अनुसार आतंकी अपनी इस तरह की ज्‍यादातर कोशिशों में कामयाब होते रहे हैं. इसी का नतीजा है कि घाटी के जिस गांव में जिस दिन सुरक्षाबल आतंकी को ढेर करते हैं, उसी दिन उसी गांव से दो नौजवान आतंक के रास्‍ते पर निकल पड़ते हैं.

यह भी देखें:  VIDEO: पत्‍थरबाजों ने की CRPF के जवानों को पत्‍थर से पीटकर जान से मारने की कोशिश!

इन रास्‍तों से है आतंकियों को घुसपैठ कराने की तैयारी
सुरक्षाबलों के अनुसार भारत में घुसपैठ कराने के लिए कराने के लिए पाकिस्‍तान ने दस लांचिंग पैड तैयार किए हैं. जिसमें गुरेज सेक्‍टर से 20 आतंकी, माछिल सेक्‍टर से 50 आतंकी, केरन सेक्टर से 55 आतंकी, तंगधार सेक्टर से लश्कर और जैश के 65 आतंकी, नौगाम सेक्टर से 7 आतंकी घुसपैठ की फिरांक में हैं. इसके अलावा, उरी सेक्टर से 50 आतंकी, पुंछ सेक्टर से 35 आतंकी, भींबर गली से 120 आतंकी, नौसेरा सेक्टर से 30 आतंकी और रामपुर सेक्टर में 3 आतंकी घुसपैठ के लिए मौका तलाश रहे हैं.