पूर्व विदेशमंत्री सुषमा स्वराज का निधन, एम्स में ली अंतिम सांस

पूर्व विदेशमंत्री सुषमा स्वराज का निधन हो गया है. 67 वर्षीय सुषमा को मंगलवार शाम नौ बजे के करीब बेचैनी की शिकायत मिलने के बाद एम्स में भर्ती कराया गया था, जहां इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई. 

पूर्व विदेशमंत्री सुषमा स्वराज का निधन, एम्स में ली अंतिम सांस
सुषमा स्वराज (Sushma Swaraj) को रात नौ बजे के करीब उन्हें एम्स में भर्ती कराया गया, हालांकि उन्हें बचाया नहीं जा सका.

नई दिल्ली: पूर्व विदेशमंत्री सुषमा स्वराज (Sushma Swaraj) का निधन हो गया है. 67 वर्षीय सुषमा को मंगलवार शाम नौ बजे के करीब बेचैनी की शिकायत मिलने के बाद एम्स (AIIMS) में भर्ती कराया गया था, जहां इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई. सुषमा केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी और हर्षवर्धन भी एम्स में पहुंच गए हैं. सूत्रों का कहना है कि बीजेपी के कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा और केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह भी थोड़ी देर में एम्स पहुंचने वाले हैं.

बताया जा रहा है कि सुषमा स्वराज आज शाम को वह अपने घर मे गिर गई थीं. थोड़ी ही देर बाद उन्हें घबराहट होने लगी, जिसके बाद उन्हें आनन-फानन में एम्स लाया गया. इमरजेंसी वार्ड में इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई. एम्स की ओर से इस बात की आधिकारिक पुष्टि कर दी गई है.

लाइव टीवी देखें-:

बताया जा रहा है कि उनका दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया. सुषमा स्वराज (Sushma Swaraj) भारतीय जनता पार्टी की वरिष्ठ नेताओं में से एक थीं और बीजेपी की महिला नेताओं में अग्रणी स्थान रखती थीं. सुषमा स्वराज (Sushma Swaraj) अपने अनूठी भाषण शैली की वजह से काफी मशहूर थीं. उन्होंने लोकसभा और राज्यसभा में कई ओजस्वी भाषण दिए हैं.

सुषमा स्वराज (Sushma Swaraj) ने 2019 का लोकसभा चुनाव नहीं लड़ा था. स्वराज ने खराब स्वास्थ्य का हवाला देते हुए चुनाव लड़ने से मना कर दिया था. सुषमा स्वराज (Sushma Swaraj) ने 2009 और 2014 में मध्यप्रदेश के विदिशा से चुनाव जीतकर सांसद बनी थीं. इसके साथ ही उन्होंने 2009 से 2014 तक लोकसभा में नेता प्रतिपक्ष की भी भूमिका अदा की थी. 

सुषमा स्वराज (Sushma Swaraj) का जन्म 14 फरवरी 1953 को हुआ था. वह बीजेपी की वरिष्ठ नेता होने के साथ ही सुप्रीम कोर्ट की पूर्व वकील भी थीं. पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के बाद सुषमा स्वराज (Sushma Swaraj) दूसरी महिला थीं, जिन्होंने विदेश मंत्रालय संभाला था. मात्र 25 वर्ष की उम्र में 1977 में वह पहली बार केंद्रीय कैबिनेट में शामिल हुई थीं. वह दिल्ली की मुख्यमंत्री भी रही थीं.  

2014 में सुषमा स्वराज (Sushma Swaraj) ने मध्य प्रदेश के विदिशा से दूसरी बार 4 लाख वोटों से चुनाव जीता था.